मुंबई के ड्रग्स से रायपुर में हो रहीं पार्टियां, 17 ग्राम कोकीन के साथ 2 पैडलर गिरफ्तार , October 01, 2020 at 05:52AM

लाॅकडाउन के दौरान और उससे पहले भी राजधानी की हाईप्रोफाइल पार्टियों में ड्रग्स की सूचनाओं के बाद पुलिस ने नशे के इस धंधे पर वार शुरू कर दिया है। बैरनबाजार में एक कॉलेज के सामने ड्रग्स सप्लाई कर रहे एक इवेंट मैनेजर विकास बंछोर को सुबह पुलिस ने गिरफ्तार किया, उसकी सूचना पर साथी श्रेयांस झाबक को भी दबोच लिया गया। पूछताछ में खुलासा हुआ कि दोनों मिलकर कई बड़ी पार्टियों में ड्रग्स सप्लाई कर चुके हैं। नशे के धंधे में दोनों डेढ़ साल पहले घुसे। पुलिस ने दोनों से 17 ग्राम व्हाइट पाउडर (कोकीन) जब्त की है। इसकी कीमत करीब डेढ़ लाख बताई जा रही है। यह मुंबई के जिन लोगों के जरिए मंगवाई गई थी, पुलिस ने उनका ब्योरा तैयार कर लिया है। गुरुवार को तय होगा कि यहां की पुलिस मुंबई जाएगी या फिर वहीं की पुलिस की मदद से छापेमारी होगी। पुलिस ने बताया कि विकास के पास ड्रग्स सप्लाई के काॅल आते थे। इसके बाद वह नशे की पुड़िया पार्टियों के आयोजकों के पास छोड़ देता था। एक पुड़िया के 9 हजार रुपए लिए जा रहे थे।

ड्रग्स श्रेयांस मंगवा रहा था। एसएसपी अजय यादव ने बताया कि ड्रग्स के बदले में पैसों का ट्रांजेक्शन बैंक खातों के जरिए होने की सूचना है, इसलिए दोनों के बैंक खातों की डीटेल निकाली जा रही है। इस डीटेल से भी स्पष्ट हो जाएगा कि मुंबई ड्रग माफिया के कौन लोग इन जुड़े हैं। यही नहीं, आरोपियों का कॉल डिटेल निकाला जा रहा है। यह भी इसलिए ताकि संपर्क नंबर मिल सकें। एसएसपी ने बताया कि इस मामले में थानों से लेकर साइबर सेल तक, सभी टीमें लगा दी गई हैं।

कोरियर-ट्रेन से ड्रग्स
डीएसपी देवचरण पटेल ने बताया कि कोटा का विकास बंछोर इवेंट मैनेजर है। वह खुद की इवेंट कंपनी चलाता है। वह शादी से लेकर बड़ी पार्टियों का काम देखता हैं। श्रेयांस झाबक उसका दोस्त हैं। श्रेयांस मुंबई के निजी कंपनी में काम करता था। दो साल पहले वह रायपुर लौटा और यहीं कारोबार कर रहा है। मुंबई में नौकरी के दौरान उसका संपर्क कुछ ड्रग्स सप्लायर से हुआ। उन्हीं से वह ड्रग्स मंगाकर रायपुर में सप्लाई करता है। वह कोरियर और ट्रेन से ड्रग्स मंगाता था। वह विकास के आयोजित पार्टियों में भी इसकी सप्लाई करता था। आरोपियों के कुछ नियमित ग्राहक हैं, जिनके कॉल आने पर पुडिय़ा बनाकर माल छोड़ते हैं। आरोपी ड्रग्स में कोड वर्ड का उपयोग करते हैं। माल, हैश जैसे शब्दों का उपयोग करते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पुलिस गिरफ्त में दोनों आरोपी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3n9huJU

0 komentar