गंभीर लक्षण वाले मरीजों का सबसे पहले सीटी स्कैन होगा, निजी डायग्नोस्टिक सेंटर में 1870 से 2354 रुपए रेट तय , September 19, 2020 at 05:46AM

शासन ने शुक्रवार को कोरोना मरीजों के इलाज के दौरान हाई रिजाल्यूशन एचआरसीटी इन्वेस्टिगेशन की आवश्यकता होने पर निजी अस्पतालों एवं डायग्नोस्टिक सेंटर के लिए दरें निर्धारित कर दी हैं।बिना कंट्रास्ट सीटी चेस्ट के लिए 1870 रुपए, सीटी चेस्ट विद कंट्रास्ट फार लंग्स के लिए 2354 रुपए शुल्क लगेगा। आदेश में कहा गया है कि प्रदेश के सभी निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना मरीजों के इलाज पर निर्धारित शुल्क ही लिया जाए। यही नहीं आईसीएमआर एवं राज्य शासन द्वारा तय किए गए ट्रीटमेंट प्रोटोकाल का पालन करते हुए केवल आवश्यक जांच ही कराई जाए। मरीजों का आरटीपीसीआर,ट्रूनाट, एंटीजेन टेस्ट केवल अधिकृत पैथालॉजी सेंटर व अस्पतालों में ही किया जाए। उपरोक्त आदेश का उल्लंघन एपिडेमिक डिसीज एक्ट 1897, छत्तीसगढ़ पब्लिक एक्ट1949 तथा छत्तीसगढ़ एपिडेमिक डिसीज कोविड 19 रेगुलेशन एक्ट 2020 के तहत दंडनीय होगा।

फेफड़ों के संक्रमण की सही जानकारी सीटी से
प्रदेश की कोरोना कोर कमेटी ने एक सप्ताह पहले कहा था कि गंभीर लक्षण वाले कोरोना मरीजों का सबसे पहले सीटी स्कैन किया जाना जरूरी है। डाक्टरों के मुताबिक सांस लेने में दिक्कत या दम फूलने जैसे लक्षण तभी आते हैं, जब फेफड़ों में संक्रमण बढ़ने लगता है। कोरोना के गंभीर मरीज इसी शिकायत के बाद वेंटिलेटर पर पहुंच रहे हैं। डाक्टरों का कहना है कि अगर सही समय पर सीटी हो जाए और संक्रमण कम हो, तो उसका इलाज करना आसान होगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Patients with severe symptoms will be the first CT scan, fixed rate of 1870 to 2354 in private diagnostic center


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33FHS5w

0 komentar