रायपुर में कोरोना संक्रमण जयपुर, लखनऊ भोपाल व इंदौर जैसे बड़े शहरों से भी ज्यादा, पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा 3336 नए मरीज मिले, 18 मौतें भी , September 15, 2020 at 06:23AM

पीलूराम साहू | पिछले 20 दिन में रायपुर में कोरोना का ऐसा विस्फोट हुआ है कि यह हाल तक देश के सबसे गंभीर संक्रमण वाले शहरों से कहीं आगे निकल गया है। इस वक्त राजधानी रायपुर में जितने मरीज रोज निकल रहे हैं और जितने अस्पतालों में भर्ती हैं, उतने जयपुर, जोधपुर, इंदौर, भोपाल, जबलपुर, रांची, लखनऊ और कानपुर में नहीं है। जबकि रांची को छोड़कर बाकी सभी शहर आबादी के लिहाज से रायपुर से दो और तीन गुना हैं। भोपाल, जयपुर और लखनऊ बड़े शहरों के साथ-साथ बड़े राज्यों की राजधानी भी है। राहत सिर्फ इतनी है कि रायपुर में मौतों का आंकड़ा कम है। इस मामले में भोपाल, इंदौर और जयपुर से रायपुर पीछे है।
रायपुर में मरीजों की संख्या 22606 है। एक्टिव केस 11426 है। अब तक 268 मौतें हुई हैं। मौतों को छोड़ दिया जाए तो रायपुर में मरीजों के स्वस्थ होने की दर यानी रिकवरी रेट भी इन शहरों से कम है। यहां रिकवरी रेट अभी 47 फीसदी हुआ है, जबकि अधिकांश जगह यह 60 फीसदी या ज्यादा भी है। तीन दिन पहले यहां रिकवरी रेट 38 प्रतिशत चल रहा था, लेकिन इस दौरान कुछ कम संक्रमितों की वजह से दर बढ़ी है। रविवार को ही प्रदेश में रिकॉर्ड 3953 मरीज स्वस्थ हुए और अस्पतालों से छुट्टी मिल गई। इसलिए रिकवरी रेट में अचानक वृद्धि हुई। इनमें मरीजों में 40 फीसदी रायपुर के हैं।
विशेषज्ञों का कहना है कि रायपुर में लगातार बढ़ रहे मरीजों में वे लोग ज्यादातर हैं जो प्राइमरी कांटेक्ट में आए हैं। इस कारण एक मोहल्ला या एक घर से बड़ी संख्या में लोग कोरोना से संक्रमित निकल रहे हैं।

एक्सपर्ट्स व्यू: अब सावधानी ही बड़ा बचाव
सीनियर पीडियाट्रिशियन डॉ. शारजा फुलझेले व कार्डियक सर्जन डॉ. केके साहू के अनुसार अब संक्रमित होने से सावधानी बरतकर ही बचा जा सकता है, लेकिन यही नहीं हो रही है। इसलिए कोरोना का संक्रमण भी नहीं रुक रहा है। बच्चे भी संक्रमित हो रहे हैं, लेकिन बड़ों की तुलना में कम है। हार्ट से जुड़ी बीमारियों के लोगों के लिए कोरोना का जोखिम बढ़ा है। अस्थमा, टीबी, लिवर, किडनी और कैंसर के मरीज भी बड़ी संख्या में संक्रमित हो रहे हैं। उन्हीं की मौत भी ज्यादा हुई है।

एक्टिव केस में दिल्ली से आगे
चूंकि देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली भी प्रदेश है और आबादी भी लगभग उतनी है, जितनी छत्तीसगढ़ की। ऐसे में अगर दिल्ली की तुलना छत्तीसगढ़ से की जाए तो प्रदेश दिल्ली से भी आगे निकल गया है। दिल्ली में वर्तमान में 28862 मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। जबकि छत्तीसगढ़ के अस्पतालों में अभी 32810 मरीज भर्ती हैं। यानी छत्तीसगढ़ में दिल्ली से 4000 ज्यादा एक्टिव केस है।
दिल्ली ने विशेष प्रयास कर कोरोना के संक्रमण को लगातार कम किया है, लेकिन अगस्त-सितंबर मिलाकर पिछले 25 दिन प्रदेश के लिए कोरोना संक्रमण के मामले में काफी खतरनाक रहे हैं। हालांकि विशेषज्ञों का अब भी दावा है कि अभी प्रदेश में कोरोना का पीक चल रहा है, हफ्ते-दस दिन के भीतर प्रदेश में एक्टिव केस कम होने लगेंगे।

अस्पतालों में लगेंगे आक्सीजन प्लांट, अब रोज 20 हजार टेस्ट
प्रदेश के बड़े अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे। साथ ही अब हर रोज 20 हजार कोरोना टेस्ट होंगे। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने सोमवार को स्टेट कंट्रोल एंड कमांड सेंटर में कोरोना नियंत्रण के उपायों और व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को गंभीर मरीजों के इलाज के लिए कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन सुविधा वाले बिस्तरों और वेंटिलेटर्स की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने संभावित अस्पतालों की भी जानकारी ली। सिंहदेव ने बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले संक्रमितों के लिए कोविड केयर सेंटर्स में बिस्तरों की संख्या बढ़ाने,गुणवत्तापूर्ण भोजन और पेयजल सहित सभी बुनियादी सुविधाओं के पुख्ता इंतजाम करने को कहा है।

उन्होंने गंभीर लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिए निजी अस्पतालों का सहयोग लेने कहा। स्वास्थ्य मंत्री ने होम आइसोलेशन में रहकर इलाज लेने के इच्छुक मरीजों के लिए प्रक्रिया को सहज-सरल बनाते हुए उनके स्वास्थ्य की नियमित निगरानी के निर्देश दिए।

अंबेडकर के अधीक्षक डॉ. जैन संक्रमित, पूर्व मंत्री राठिया और डॅाक्टर की कोरोना से मौत
रायपुर में सोमवार को 756 समेत प्रदेश में 3336 कोरोना के नए मरीज मिले हैं। अंबेडकर अस्पताल के अधीक्षक डॉ. विनीत जैन व उनके माता-पिता की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। विधायक धर्मजीत सिंह की पत्नी भी संक्रमित हैं। दूसरी ओर, पूर्व मंत्री व आदिवासी नेता चनेशराम राठिया व कसडोल में पदस्थ मेडिकल अफसर की कोरोना से मृत्यु हो गई है। प्रदेश में कोरोना से 18 लोगों ने दम तोड़ा, जिनमें 7 रायपुर के हैं। अब प्रदेश में पॉजिटिव केस 67329 हो गए हैं, वहीं एक्टिव केस 33645 है। प्रदेश में 954 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। अब तक 33109 मरीज ठीक हो चुके हैं। कोरोना से मरने वालों की संख्या 574 है, जिसमें 268 रायपुर के मरीज शामिल है। अब तक 8.06 लाख सैंपल की जांच भी हो चुकी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
भिलाई के जिला अस्पताल में टीन शेड के नीचे टेस्टिंग के लिए लग रही कतारें।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3htgg8p

0 komentar