प्रदेश में 2736 और रायपुर में 958 नए मरीज, 28 मौतें; मनमानी फीस लेने वाले अस्पतालों के लाइसेंस होंगे रद्द , September 23, 2020 at 06:30AM

प्रदेश में कोरोना के मरीज 90 हजार पार हो गए हैं। मंगलवार को रायपुर में 958 समेत प्रदेश में 2736 नए मरीज मिले हैं। रायपुर में सबसे ज्यादा 14 समेत 28 लोगों की मौत भी हुई है। प्रदेश में अब तक 719 मरीजों की मौत हो चुकी है। नए केस मिलाकर प्रदेश में मरीजों की संख्या 90919 है। एक्टिव केस 38198 है। इलाज के बाद 52001 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं। प्रदेश में 90 हजार मरीजों का सफर तय करने में 189 दिन यानी सवा 6 महीने से कुछ ज्यादा समय हुआ है। राजधानी व प्रदेश के लिए अगस्त व सितंबर भारी पड़ रहा है। 31 जुलाई तक रायपुर में 2947 व प्रदेश में 9192 मरीज थे। रायपुर में अब मरीज 29 हजार की ओर हैं। अगस्त व सितंबर इतना भारी पड़ेगा, विशेषज्ञों को अनुमान तो था, लेकिन इतने मरीज मिलेंगे, उम्मीद कम थी। डॉक्टरों का कहना है कि सितंबर पीक है।

4 दिनों से राजधानी व प्रदेश में मरीजों की संख्या कम हुई है, लेकिन यह वास्तविक नहीं है। एनएचएम कर्मियों की हड़ताल के कारण कम सैंपलिंग हो रही है। छुट्टियों के कारण भी जांच कम हो रही है। असल वजह यही है। हालांकि विशेषज्ञों ने संभावना जताई थी कि सितंबर के दूसरे या तीसरे सप्ताह से मरीजों की संख्या कुछ कम हो सकती है।

सीएम भूपेश के निर्देश के बाद फैसलामरीजों से मनमानी फीस ले रहे निजी अस्पतालों के कोविड-लाइसेंस रद्द होंगे
सीएम भूपेश बघेल के निर्देश के बाद निजी अस्पतालों में कोरोना के मरीजों से इलाज के लिए निर्धारित शुल्क से अधिक लेने वाले अस्पतालों की कोविड-ट्रीटमेंट की अनुमति रद्द कर दी जाएगी। दरअसल कुछ अस्पतालों के द्वारा अधिक फीस लेने की शिकायतें मिल रही थीं। यह जानकारी संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़ ने दी।

आईएएस की प्लाज्मा थैरेपी
आईएएस ए टोप्पो की प्लाजमा थैरेपी की गई है। उनका इलाज लालपुर स्थित एक निजी अस्पताल में चल रहा है। डॉक्टरों के अनुसार वह कोरोना के साथ दूसरी बीमारियों से भी ग्रसित है। उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है और आईसीयू में है। डॉक्टरों का कहना है कि पहले भी उनके अस्पताल में प्लाज्मा थैरेपी की गई है। इसके अच्छे परिणाम आए हैं।

ऐसे बढ़े केस
18 मार्च पहला मरीज
4 अगस्त 10 हजार
22 अगस्त 20 हजार
30 अगस्त 30 हजार
4 सितंबर 40 हजार
8 सितंबर 50 हजार
12 सितंबर 60 हजार
15 सितंबर 70 हजार
18 सितंबर 80 हजार
22 सितंबर 90 हजार


पदाधिकारियों को बर्खास्त करने के बाद कर्मियों में नाराजगी
स्वास्थ्य विभाग एनएचएम के 30 से ज्यादा पदाधिकारियों व कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। इसके बाद कई जिलों में हड़ताल कर रहे कर्मचारियों ने सामूहिक इस्तीफा दे रहे हैं। कर्मचारी नियमितीकरण की मांग कर रहे हैं। वे शनिवार से हड़ताल कर रहे हैं। इसके कारण कोरोना की सैंपलिंग से लेकर जांच कुछ प्रभावित हुई है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने पहले ही कर्मचारियों को हड़ताल पर न जाने की हिदायत दी थी। इसके बाद भी कर्मचारी हड़ताल कर रहे हैं। एस्मा लगाने के बावजूद उन पर कोई असर नहीं पड़ रहा है।

अब इस वेबसाइट पर एक क्लिक में मिलेगी कोरोना रिपोर्ट
कोरोना के मरीजों को रिपोर्ट के लिए भटकना नहीं होगा। उन्हें अब एक क्लिक पर रिपोर्ट की जानकारी मिल जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग एवं एनआईसी ने एक पोर्टल तैयार किया है। *https://ift.tt/3kDB2nQ पोर्टल पर जाकर प्रदेश का कोई भी व्यक्ति रिपोर्ट देख सकता है, बशर्ते उन्होंने टेस्ट 5 सितंबर के बाद कराया हो।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
यह तस्वीर बूढ़ातालाब के पास चौराहे की है। सख्त लाॅकडाउन पर अमल करते हुए पुलिस हर आने-जाने वाले को रोक रही थी। सुबह 11.30 बजे मोपेड सवार पति-पत्नी को रोका। उन्होंने जो बताया उसे सुनकर पुलिसवाले भी दंग रह गए। पति ने बताया कि सोमवार को पत्नी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। वे तब से फोन कर रहे हैं, लेकिन एंबुलेंस नहीं आई। इसलिए घबराकर खुद ही पत्नी को अस्पताल दाखिल कराने निकल गए। यह सुनकर पुलिसकर्मी तुरंत पीछे हट गए। चालान भी नहीं किया और उन्हें जाने के लिए कहा। पीछे दूसरी मोपेड में युवती का भाई भी था। उसे पुलिसवालों ने वापस भेज दिया। रायपुर में कोरोना के केस बढ़ने में क्या सरकारी अमले की ये लापरवाही जवाबदेह है, ये बड़ा सवाल है?


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3iXgNRz

0 komentar