36 सीटर बस में ठूंसे गए थे 74 मजदूर, पुलिस ने गुजरात से गाड़ी मालिक और दोनों ड्राइवरों को किया गिरफ्तार , September 09, 2020 at 06:18AM

ओड़िशा से रायपुर होते हुए 74 मजदूरों को गुजरात लेकर जा रही बस के मालिक और ड्राइवर को रायपुर पुलिस ने गुजरात में छापा मारकर पकड़ा और मंगलवार को यहां लेकर आ गई।
जांच में सामने आया कि बस केवल 36 सीटर थी, जिसमें 74 मजदूरों को ठूंसा गया था। यही वजह थी कि बस अनियंत्रित हो गई और ट्रक के साथ टक्कर में 8 मजदूरों की जान चली गई। पुलिस के अनुसार गुजरात में सूरत के ट्रांसपोर्टर विपुल भाई धेवरिया की बस ओडिसा के गंजाम में मजदूरों को लाने गई थी। बस को कपड़ा कारोबारियों ने बुक कराया था।
बस लेकर अहमदाबाद का प्रकाश राठौर और जगदीश सरवैया गंजाम पहुंचे। सूरत के अलग-अलग फैक्ट्रियों के लिए मजदूरों को लेकर बस रवाना हुई, जो रायपुुर के जोरा के पास हादसे का शिकार हो गई। बस ट्रक से जा भिड़ी और साइड से रगड़ते हो निकल गई। बस में सवार लोग गहरी नींद में थे। लेफ्ट साइड में बैठे 8 मजदूरों की मौत हो गई। 5 लोगों को गंभीर चोट आई। मजदूरों के हाथ-पैर कटकर अलग हो गए। जोरा में एक्सीडेंट मामले में पुलिस ने गुजरात में छापा मारकर बस के मालिक और दोनों ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है। तीनों को मंगलवार को पुलिस रायपुर लेकर आई। उनके खिलाफ लापरवाही से मौत, महामारी एक्ट और मोटरव्हीकल एक्ट में कार्रवाई की गई है। पुलिस ने घटना का रीक्रिएट किया और हादसे के कारण की पड़ताल की। पुलिस के अनुसार पूरी लापरवाही बस के ड्राइवर की थी, ट्रक सही दिशा में चल रहा था। पड़ताल में खुलासा हुआ है कि 36 सीटर बस में 74 मजदूरों को ठूंस-ठूंसकर बैठाया गया। सोशल डिस्टेंसिंग को भी नजरअंदाज किया गया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
टक्कर इतनी जोरदार थी कि बस के परखच्चे उड़ गए। (फाइल फोटो।)


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/32b5zDb

0 komentar