कोरोना से गंभीर वृद्ध की बिलासपुर ले जाते समय रास्ते में टूट गई सांसें जिले में 4 दिनों में 5वीं पांचवीं मौत, मेडिकल काॅलेज से वृद्ध को ले जा रहे थे बिलासपुर , September 21, 2020 at 05:50AM

सरगुजा जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मौतों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। बीते सप्ताह तो कोरोना जिले के लिए कहर बनकर टूटा है और जानें लगातार गई हैं। इस बीच जिले के बतौली निवासी एक 70 वर्षीय वृद्ध की कोरोना से उस समय मौत हो गई, जब मेडिकल काॅलेज अस्पताल से रेफर कराने के बाद परिजन इलाज के लिए उसे शनिवार की शाम को बिलासपुर ले जा रहे थे।
वृद्ध की हालत गंभीर थी। वे बिलासपुर पहुंचने वाले ही थे कि रात में उसकी सांसें थम गई। इसके बाद परिजन शव को लेकर वापस अंबिकापुर मेडिकल काॅलेज अस्पताल आए और यहां से शव को प्रोटोकाल के तहत सील कर रविवार सुबह परिजन को सौंपा गया। वृद्ध की मौत से जिले में अब कोरोना से मौतों का आंकड़ा 14 पहुंच गया है।

बीते 4 दिनों में ही यह पांचवीं मौत है। बढ़ती संख्या से स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन के लिए परेशानी बढ़ती जा रही है। बहरहाल सोमवार की देर रात से अंबिकापुर में सप्ताहभर के लिए लाॅकडाउन शुरू हो रहा है। इससे कोरोना की चेन ब्रेक होने की उम्मीद की जा रही है।

वृद्ध का 13 सितंबर से चल रहा था इलाज
बतौली निवासी वृद्ध को परिजन ने 13 सितंबर को अंबिकापुर मेडिकल काॅलेज में दिखाया था। बताया गया है कि कोरोना के लक्षण होने से डाॅक्टरों ने उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया। जांच रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के बाद वृद्ध को 16 सितंबर को कोविड आईसीयू में भर्ती किया गया।

उसे शुगर बीपी की शिकायत थी। यहां इलाज के बाद तबीयत में सुधार नहीं हो रहा था। इससे परिजन रेफर कराकर उसे बिलासपुर के एक प्राइवेट हास्पिटल में इलाज के लिए शनिवार को ले जा रहे थे।

रविवार को कोरोना के 27 नए केस मिले
रविवार को शहर व जिले में एंटीजन टेस्ट से कोरोना के 27 नए केस सामने आए हैं। इससे जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या अब 1765 पहुंच गई है। हालांकि इनमें से 1060 लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं। इससे जिले में करीब 700 एक्टिव केस हैं। इनमें से ज्यादातर होम आइसोलेशन में इलाज चल रहा है। उधर गंभीर मरीजों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। इससे मेडिकल काॅलेज अस्पताल के आईसीयू में बेड खाली नहीं हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33PArIO

0 komentar