खुद को मुकेश अंबानी बताकर बिलासपुर के नगर सैनिक से ठग लिए 65 लाख रुपए, दो करोड़ देने का वादा कर दिया वारदात को अंजाम , September 11, 2020 at 07:07AM

खुद को जियो कंपनी का मालिक मुकेश अंबानी बताकर बिलासपुर जिले के नगर सैनिक से 65 लाख रुपए ऑनलाइन ठग लिए गए। खास बात यह है कि करीब सप्ताह भर से बिलासपुर की पुलिस साइबर क्राइम रोकने और लोगों को इनके प्रति जागरूक करने का अभियान चला रही है।

ठगों ने नगर सैनिक को पहले लक्की ड्रा में 25 लाख रुपए देने का वादा किया। कभी रजिस्ट्रेशन तो कभी जीएसटी के नाम पर ठग रुपए मांगते रहे, बाद में ठगों ने मूलधन सहित और 2 करोड़ रुपए वापस करने का झांसा दिया। अब पीड़ित की शिकायत पर सिटी कोतवाली पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

जिले के सीपत थाना क्षेत्र के ग्राम हरदाडीह निवासी जनकराम पटेल इस ठगी का शिकार हुए। 24 जनवरी को उनके मोबाइल पर एक अनजान नंबर से कॉल आया। कॉल करने वाले ने खुद को जियो कंपनी का मालिक मुकेश अंबानी बताया और कहा कि छत्तीसगढ़ से जियो के लकी कस्टमर होने की वजह से उन्हें 25 लाख रुपए का विजेता घोषित किया गया है।

अब इस रकम को पाने के लिए नगर सैनिक ने 12 हजार रुपए ठग के बताए बैंक खाते में जमा कर दिए। ठगों ने किसी विराट सिंह नाम के व्यक्ति का खाता नम्बर दिया था। नगर सैनिक ने 1 फरवरी को नेहरू चौक के पास की एक दुकान से विराट सिंह के खाते में नेट बैंकिंग के माध्यम से पैसे ट्रांसफर कर दिए।

इसके बाद अलग अलग नंबरों से वाट्सअप कॉल और सामान्य कॉल आते रहे और नगर सैनिक से लक्की ड्रा की रकम पाने के एवज में रकम जमा करने के लिए कहा जाता रहा। कुछ दिन बाद ठगों ने नगर सैनिक को अपनी बातों में फंसाकर 2 करोड़ रुपये दिलाने का वादा कर दिया। बातों में आकर नगर सौनिक ने किश्तों में कुल 65 लाख रुपए ठगों को सौप दिए।

अब जब नगर सैनिक को इनाम की रकम नहीं मिली तो उन्हें संदेह हुआ और अपनी रकम वापस मांगी, लेकिन ठग गोलमोल जवाब देते रहे। यह भी कहते रहे कि किसी से कहा या ज्यादा सवाल किए तो उसे पैसे नही मिलेंगे, अब पुलिस सभी फोन नम्बर और खातों की जांच कर रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कॉल करने वाले ने खुद को जियो कंपनी का मालिक मुकेश अंबानी बताया और कहा कि छत्तीसगढ़ से जियो के लकी कस्टमर होने की वजह से उन्हें 25 लाख रुपए का विजेता घोषित किया गया है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3k4EF5V

0 komentar