राजधानी में कुल पॉजिटिव में 66% पुरुष, मृतकों में वही 71 फीसदी, इसलिए उन्हें बाहर न भेजें, जो है उसी में घर चलाएं , September 30, 2020 at 06:50AM

रायपुर में कोरोना वायरस ने पुरुषों को ही सबसे ज्यादा निशाना बनाया है। राजधानी में जितने लोग पाजिटिव आए हैं, उनमें 66 प्रतिशत पुरुष हैं। यही नहीं, कोरोना से जितनी जानें गईं उनमें 71 फीसदी हिस्सा भी पुरुषों का ही है। महिलाओं में संक्रमण की दर कम है, और यह भी माना जा रहा है कि अधिकांश महिलाएं अपने घर के पुरुषों से संक्रमित हुईं। इसलिए रायपुर सीएमएचओ कार्यालय ने महिला आयोग के साथ मिलकर गृहणियों-महिलाओं के लिए अपील जारी की है कि वे पुरुषों को बेवजह घर से निकलने न दें। घर में कुछ कमी हो और काम चल रहा हो, तो उसी में काम चला लें ताकि पुरुष बाहर जाकर संक्रमित होने से बचें। सिर्फ अपील नहीं नहीं, हेल्थ और आयोग कुछ महिलाओं को जोड़कर अगले 5 दिन तक शहर में जागरुकता अभियान शुरू करनेवाले हैं। इस अभियान के तहत निकली टोलियां मोहल्ले-गलियों में जाकर महिलाओं को बताएंगी कि पुरुषों का खतरा क्यों ज्यादा है, और इस वजह से महिलाएं भी किस तरह संक्रमण की जद में अा रही हैं। प्रदेश में सबसे ज्यादा मरीज व एक्टिव केस राजधानी रायपुर में हैं। यही नहीं, सबसे ज्यादा मौतें भी यहीं हुई हैं। प्रदेश के लगभग 35 फीसदी कोरोना संक्रमित रायपुर के हैं। सीएमओ कार्यालय ने मंगलवार को जो आंकड़ा जारी किया है। उसके मुताबिक राजधानी में पाजिटिव महिलाओं की संख्या 34 प्रतिशत है, यानी पुरुषों से लगभग आधी।

यही नहीं, कुल मौतों में 71 प्रतिशत पुरुष हैं और महिलाएं इसकी एक-तिहाई से कुछ ज्यादा (29 प्रतिशत)। महिला आयोग की कुछ पदाधिकारियों का मानना है कि इस स्थिति में पुरुषों का संक्रमण रुकना जरूरी है, तभी महिलाएं खतरे से बाहर आएंगी। इसी वजह से स्वास्थ्य विभाग ने महिला आयोग से मिलकर यह पहल की है। गौरतलब है, राजधानी में 18 मार्च को पहला केस मिलने के बाद अप्रैल, मई व जून में 100 से भी कम मरीज थे, लेकिन जुलाई अगस्त व सितंबर में मरीजों की संख्या बढ़कर 33 हजार को पार कर गई है। वहीं 412 से ज्यादा मरीजों की मौत भी हो चुकी है। सरकारी एजेंसियों का मानना है कि कामकाज की वजह से ही ज्यादातर पुरुष संक्रमित हुए हैं।

नारे जो महिलाएं लगाएंगी

  • हम हर कमी में घर चला लेंगी, रूखी-सूखी खाकर जी लेंगी।
  • बिना श्रृंगार के रहेंगे और हम कोरोना को भगाकर ही दम लेंगे।
  • महिला शक्ति आगे आओ। पिता-पति-भाई की जान बचाओ।
  • जरूरी काम न हो तो घर के पुरुषों को बाहर जाने से रोक लो।

पुरुष ही खरीद रहे सब्जी और जरूरी सामान
रायपुर में कोरोना का पहला केस 18 मार्च को सामने आया था। सरकारी एजेंसियों के सर्वे में यह बात साफ तौर पर आ रही है कि उसके बाद से ही महिलाएं घर से कम निकल रही हैं। सब्जी, किराना तथा अन्य शाॅपिंग जो आमतौर से महिलाएं कर लेती थीं, कोरोना काल में पुरुष ज्यादा कर रहे हैं। वह बाहर ज्यादा निकल रहे हैं, इसलिए कोरोना से संक्रमित भी हो रहे हैं।
इसीलिए उनकी मौतें भी अधिक हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर महिलाएं घर में हैं तो बाहर जाने वाले पुरुष से ज्यादा सुरक्षित है। क्योंकि संपर्क में आने से बचेंगी और संक्रमित नहीं होंगी, क्योंकि बाजारों में भीड़ की वजह से संक्रमण की आशंका बढ़ी हुई है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फाइल फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3ibLNfD

0 komentar