कर्ज लेने में भी दुर्ग की महिलाएं आगे, जिले में कुल 67,487 कर्जदार 78 फीसदी किस्त जमा करने वालों को अब मिलेगा एनपीए का लाभ , September 11, 2020 at 07:00AM

ट्विनसिटी जहां शिक्षा के लिए आगे है, वहीं बैंक से कर्ज लेकर अपना कारोबार करने या फिर घर के जरूरी सामान, होम लोन, कार लोन आदि लेने में महिलाएं भी सामने आई हैं। जिले में अभी तक 67,487 कामकाजी और घरेलू महिलाओं ने कर्ज लिया है।
विभिन्न काम के लिए कुल 2 लाख, 17 हजार, 308 लोगों ने बैंकों से कर्ज लिया है। अप्रैल से अगस्त तक मोराटोरियम समय माना गया, सितंबर से लोन की किस्त देनी है, लेकिन जिले की करीब 78 फीसदी लोन धारी महिलाओं को एनपीए (डिफाल्ट) की श्रेणी से अलग रखा गया है।

जानिए, क्या है एनपीए और कैसे मिलेगा लाभ
एनपीए यानी नान परफार्मिंग एसेट। दूसरे शब्दों में कहें तो जिनका खाते से हर महीने किस्त की राशि जमा नहीं होती। किसी न किसी महीने में उसमें गेप रहता है। लगातार तीन महीने तक किस्त की राशि जमा नहीं करने वाले खातों को बैंक अनियमित खाता यानी नान परफार्मिंग एसेट में डाल देता है। उनके खिलाफ बैंक के नियमों के तहत वसूली की कार्रवाई शुरू की जाती है।

256 बैंकों ने दिया 19 हजार करोड़ का लोन
जिले में शासकीय और निजी मिलाकर 256 बैंक संचालित हैं। इनमें से सबसे अधिक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से 44,869 लोगों ने लोन लिया है। यह राशि 279 करोड़ से अधिक है। इसके बाद दूसरे नंबर पर है एचडीएफसी बैंक। यहां से 41,621 लोगों ने करीब 94 करोड़ से अधिक लोन लिया है। मोराटोरियम का लाभ उन्हें दिया जा रहा है जिनके मार्च तक कोई किस्त की बची नहीं है।

एजुकेशन व होम लोन को दी गई पहली प्राथमिकता
बैंकों में बच्चों की उच्च शिक्षा और घरों के लिए लोन लेने वालों को पहली प्राथमिकता दी गई। साथ ही कृषि, अल्प संख्यक लोगों के साथ साथ अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों को भी उनके विभिन्न काम के लिए कर्ज दिया गया। इसमें शिक्षा और के लिए 529 करोड़ कृषि के लिए 117 करोड़ लोन दिए गए। 31 अगस्त तक विद आउट एनपीए वालों को ईएमआई देने से राहत दी गई थी।

एमएसएमई व एसएसआई के लिए 211 करोड़ दिया
छोटे और लघु उद्योग की स्थापना या फिर बुटिक सेंटर समेत इसी तरह के छोटे कारोबार के लिए महिलाओं और महिला समूहों समेत शिक्षित बेरोजगार आदि लोगों के बीच करीब 211 करोड़ रुपए से अधिक की रकम लोन के रूप में दी गई। इसके लिए मार्च में मेला भी लगाया गया था। इसमें उनकी समस्याएं भी सुनी गई थीं, जिन लोगों ने लोन के लिए आवेदन किया है और लोन नहीं मिला है।

बैंकों के कर्ज की स्थिति

  • 256 - बैंक संचालित हैं ट्विनसिटी में।
  • 217308 - खातेदारों ने लिए हैं बैंकों से लोन।
  • 49.04 - फीसदी है बैंकों का सीडी अनुपात।
  • 55% - को प्राथमिकता से दिए लोन।
  • 12.10% - लोन एग्रीकल्चर फील्ड में दिया।
  • 5.29% - वीक सेक्टर भी सामने आया है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33iPtGJ

0 komentar