मरीज बढ़े तो शहर में रोजाना निकल रहा 8 हजार किला कोरोना कचरा , September 13, 2020 at 05:57AM

शहर में कोरोना मरीज बढ़ने के साथ-साथ पिछले चार-पांच दिन से रोजाना 8 हजार किलो ऐसा कचरा निकल रहा है, जिसका संबंध कोविड केयर सेंटरों या अस्पतालों से है। यही नहीं, होम आइसोलेशन वाले मरीजों का वेस्ट भी अलग मिल रहा है। मार्च से एक सप्ताह पहले तक 5 लाख किलो कोरोना वेस्ट निकला था, जिसे मापदंडों के अनुसार डिस्पोज किया गया। लेकिन अब ज्यादा कचरा निकलने की वजह से नगर निगम को इसकी सफाई और नष्ट करने में अलग से ताकत लगानी पड़ रही है।
भास्कर की पड़ताल के मुताबिक अस्पताल और होम आइसोलेशन से इस महीने 50 हजार किलो वेस्ट बढ़ चुका है। मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ यह मात्रा भी बढ़ रही है। सुरक्षा कारणों से कचरा नष्ट करने के स्थान का उल्लेख नहीं किया गया है, लेकिन घरों से निकलने वाले कचरे को कलेक्शन टीम लिस्ट के आधार पर अलग-अलग प्वाइंट से उठा रही है। यही नहीं, होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के कोविड वेस्ट के डिस्पोजल से जुड़ी सतर्कता और सावधानी इलाज करने वाला और संपर्क में रहने वाला अमला भी समझा रहा है।
टॉयलेट प्रोटोकाल के तहत मरीज को घर में वॉशरूम इस्तेमाल करते वक्त हर बार ब्लीचिंग पाउडर या फिनाइल का इस्तेमाल भी करना है, ताकि पानी नालियों में जाने से पहले संक्रमण मुक्त हो जाए।

ढाई लाख किलो इसी माह
सितंबर के 12 दिनों में मरीज सबसे ज्यादा बढ़े हैं। केवल12 दिनों में प्रोसेस प्लांट तक 96 हजार किलो तक कचरा पहुंचा है। यह अगस्त के पूरे 31 दिन डिस्पोज व प्रोसेस किए गये कचरे से सिर्फ 86 हजार किलो ही कम है। निगम अमले का अनुमान है कि कचरा इसी रफ्तार से बढ़ा तो सितंबर में 2.40 लाख किलो वेस्ट निकल जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/32p4tnl

0 komentar