मैथ्स कठिन और फिजिक्स रहा लेंदी, उपस्थिति 96.87 प्रतिशत, कटऑफ हो सकता है कम , September 28, 2020 at 06:17AM

कोरोना की सावधानियां बरतते हुए रविवार को जेईई एडवांस्ड परीक्षा आयोजित कराई गई। सिटी में 927 स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया था। इसमें 898 परीक्षा में शामिल हुए। 29 स्टूडेंट्स अनुपस्थित थे। परीक्षा में 96.87 प्रतिशत उपस्थिति रहीं। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए एग्जाम सेंटर के बाहर मार्किंग भी की गई।
सभी स्टूडेंट काे थर्मल स्क्रीनिंग और सैनिटाइजेशन के बाद ही सेंटर में प्रवेश दिया गया। दूरी बनाए रखने के लिए परीक्षा हॉल में स्टूडेंट को एक सीट छोड़कर बैठने के निर्देश दिए गए। स्टूडेंट्स को रूल्स समझाने के लिए लाउड स्पीकर यूज किया गया। इसके जरिए स्टूडेंट्स से मास्क पहनने, मार्किंग में खड़े रहने और अपने डॉक्यूमेंट ठीक से चेक करने की अपील की गई। स्टूडेंट्स को ड्रॉइंग के लिए पेंसिल बॉक्स, एडमिट कार्ड, आधार कार्ड, हैंड सैनेटाइजर की बॉटल और ट्रांसपेरेंट वॉटर बॉटल हॉल में ले जाने की अनुमति दी गई। एक्सपर्ट के अनुसार इस बार कटऑफ कम हो सकते हैं। एक्सपर्ट अभिषेक गौरव और सौरभ तिवारी ने बताया कि एग्जाम में पहले शिफ्ट के मुकाबले दूसरा शिफ्ट कठिन था। पेपर में ओवर ऑल पेपर में मैथ्स कठिन और फिजिक्स लेंदी रहा। वहीं कैमेस्ट्री स्काेरिंग रहा।
जेईई एडवांस्ड पेपर का आंसर -की 29 सितंबर को जारी कर दी जाएगी। 5 अक्टूबर को रिजल्ट और सीट आवंटन 8 अक्टूबर से शुरू होगा। इस साल सात की बजाय छह राउंड की काउंसलिंग होगी।

न्यूमेरिकल्स ने उलझाया, कैमिस्ट्री ने दी राहत
पहले शिफ्ट का पेपर पिछले साल की तुलना में आसान था, लेकिन मैथ्स का पेपर कठिन था। फिजिक्स का पेपर थोड़ा लेंदी था। कैमिस्ट्री सेक्शन में पेपर आसान था। कार्बनिक और अकार्बनिक कैमिस्ट्री से सवाल काफी कम थे जबकि भौतिक रसायन विज्ञान में प्रश्नों का प्रतिशत अधिक था। फिजिक्स का हिस्सा बहुत लंबा था, जबकि कैमेस्ट्री के प्रश्न सामान्य थे। प्रश्न सिलेबस और एनसीईआरटी से ही पूछे गए थे। पेपर में 6 सिंगल करेक्ट, 6 मल्टीपल करेक्ट, 6 न्यूमेरिकल्स आया था। वहीं दूसरे शिफ्ट के पेपर में कैमिस्ट्री आसान, मैथ्स लेंदी और फिजिक्स के पेपर कठिन था। पेपर में 6 मल्टीपल करेक्ट, 6 न्यूमेरिकल और 6 दशमलव वाले न्यूमेरिकल था।

विषयवार कटऑफ है जरूरी
एक्सपर्ट्स के अनुसार जेईई एडवांस्ड में विषयवार कटऑफ जरूरी है। किसी विषय में विषयवार कटऑफ से कम अंक मिलने पर उसे असफल करार दिया जाता है। विषयवार कटऑफ क्लियर होने के बाद एग्रीगेट कटऑफ के आधार पर रिजल्ट घोषित होता है। सामान्य श्रेणी के लिए विषयवार कटऑफ 10 प्रतिशत तथा एग्रीगेट कट ऑफ 35 प्रतिशत, ओबीसी में 31. 5 प्रतिशत और एससी व एसटी में 17.5 प्रतिशत है। इस बार पिछले साल की तुलना में कटऑफ कम हाे सकते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सरोना सेंटर के बाहर पैरेंट्स की भीड़, वॉलिंटियर्स करते रहे सोशल डिस्टेंसिंग की अपील।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30d4aKJ

0 komentar