रायपुर आए पैरेंट्स बोले ये एग्जाम लेने का सही वक्त नहीं, स्टूडेंट्स को गणित के सवालों ने परेशान किया , September 02, 2020 at 05:41AM

रायपुर शहर में सरोना स्थित एक प्राइवेट कंप्यूटर सर्विस सेंटर को जेईई की परीक्षा के लिए केंद्र बनाया गया था। मंगलवार को पहले दिन करीब 600 स्टूडेंट्स परीक्षा में शामिल हुए। सुबह 9 से 12 और दोपहर 3 बजे से शाम के 6 बजे तक दो पालियों में परीक्षा का आयोजन किया गया। यह प्रवेश परीक्षा आर्किटेक्चर में ग्रैजुएशन के लिए आयोजित थी, अब बुधवार को बीटेक के लिए परीक्षा होगी।


गणित के सवाल लगे कठिन
मंगलवार को ऑनलाइन हुई इस परीक्षा के बारे में स्टूडेंट ख्याती अग्रवाल ने बताया कि गणित के सवाल थोड़े कठिन थे, सेंटर से बाहर आकर सभी स्टूडेंट्स गणित के सवालों पर ही बात कर रहे थे। देश के शीर्ष इंजीनियरिंग संस्थानों में दाखिले के लिए आयोजित इस परीक्षा में शामिल होने दूर-दराज से स्टूडेंट्स और पैरेंट्स आए जानिए उन्होंने क्या कहा, और क्या कुछ होता रहा दिन भर एग्जाम सेंटर के बाहर।

सेंटर के बाहर काफी आपाधापी का माहौल रहा, देर तक परिजन भी धूप में परेशान होते रहे।
सेंटर के बाहर काफी आपाधापी का माहौल रहा, देर तक परिजन भी धूप में परेशान होते रहे।

रात में सोए ही नहीं, डर था एग्जाम मिस ना हो जाए
रायपुर से करीब 100 किलोमीटर दूर रावन से आई एक पालक ने कहा कि हम देर रात 3 बजे से ही रायपुर आने की तैयारी में जुट गए। रात में नींद नहीं आई, डर था कहीं एग्जाम मिस ना हो। सुबह 4 बजे घर से निकले थे, ताकि समय रहते पहुंच जाएं। दो से ढाई घंटे रायपुर पहुंचने में लगे। कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस वक्त परीक्षा नहीं ली जानी चाहिए थे। अब एग्जाम हो रहा है तो बच्ची के भविष्य को ध्यान में रखकार यहां आए हैं, क्या करें...कल फिर आएंगे।

फोटो में दिख रही महिला एक छात्रा की मां हैं, आखिरी वक्त में यह बच्ची को लेकर सेंटर तक पहुंची पता ढूंढने में परेशानी हुई, जब सेंटर तक पहुंची तो इन्होंने राहत की सांस ली।
फोटो में दिख रही महिला एक छात्रा की मां हैं, आखिरी वक्त में यह बच्ची को लेकर सेंटर तक पहुंची पता ढूंढने में परेशानी हुई, जब सेंटर तक पहुंची तो इन्होंने राहत की सांस ली।


कोई स्टूडेंट संक्रमित निकला तो
अंबिकापुर से एक दिन पहले ही नवनीत रवाना हुए थे। रायुपर पहुंचने में सुबह से शाम हो गई, एक रिश्तेदार के घर ठहरे हैं। दैनिक भास्कर से बात करते हुए नवनीत ने कहा कि एग्जाम सेंटर में बड़ी तादाद में स्टूडेंट आ रहे हैं, इनमें से कोई संक्रमित निकला तो क्या होगा, इसका डर है हमें। इस परीक्षा को थोड़ा टाला तो जा सकता था। अब यहां रिश्तेदार के यहां ठहरा हूं, कल फिर परीक्षा देने आना है।


एनएसयूआई ने कहा बेस्ट ऑफ लक

फोटो रायपुर के परीक्षा केंद्र के बाहर की है। एनएसयूआई के लोगों ने इस तरह से स्टूडेंट्स को सैनिटाइज किया।
फोटो रायपुर के परीक्षा केंद्र के बाहर की है। एनएसयूआई के लोगों ने इस तरह से स्टूडेंट्स को सैनिटाइज किया।


रायपुर के परीक्षा केंद्र के बाहर कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई के कार्यकर्ता भी पहुंचे। दोपहर के वक्त संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष भावेश शुक्ला छात्रों को सेंटर के एड्रेस ढूंढने में हो रही परेशानी के कार्यकर्ताओं को मदद के लिए चौहारों पर रखा। भावेश ने बताया कि परीक्षा की तारीख को आगे ना बढ़ाना मोदी सरकार का छात्र विरोधी फैसला है। युवा नेता हाथ में बेस्ट ऑफ लक लिखी तख्तियां लेकर स्टूडेंट्स को मास्क और सैनिटाइजर बांटते रहे।

ऑपरेशन जेईई, स्टूडेंट्स सेंटर के बाहर मास्क और दस्तानों के साथ ऐसे तैयार होते रहे जैसे डॉक्टर्स ऑपरेशन थिएटर में जाने से पहले तैयार होते हैंं।
ऑपरेशन जेईई, स्टूडेंट्स सेंटर के बाहर मास्क और दस्तानों के साथ ऐसे तैयार होते रहे जैसे डॉक्टर्स ऑपरेशन थिएटर में जाने से पहले तैयार होते हैंं।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो रायपुर के सरोना स्थित परीक्षा सेंटर की है। सुबह 6 बजे से ही स्टूडेंट्स यहां पहुंचना शुरू हो चुके थे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2QLkIoi

0 komentar