गोपनीय सैनिक बताकर नक्सलियों ने दो ग्रामीणों को मार डाला, परिजनों को भी जमकर पीटा; युवक की शादी तय कर लौट रहे थे सभी , September 04, 2020 at 11:54AM

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने शुक्रवार सुबह दो ग्रामीणों की हत्या कर दी। उनके परिजनों को भी जमकर पीटा। युवक की शादी तय करने के बाद ग्रामीण गांव लौट रहे थे। नक्सलियों ने सड़क पर फेंके गए शवों के पास बैनर लगाकर उन्हें गोपनीय सैनिक बताया है। वहीं एसपी अभिषेक पल्लव ने इससे इनकार किया है।

शव के पास नक्सलियों ने एक बैनर भी लगा दिया। इसमें दोनों को गोपनीय सैनिक बताया गया। साथ ही लिखा है कि इनकी हत्या के लिए एसपी अभिषेक पल्लव जिम्मेदार हैं।

जानकारी के मुताबिक, किरंदुल थाना क्षेत्र के तोकापारा निवासी ग्रामीण अपने बेटे अशोक कुंजम की शादी तय करने के लिए बीजापुर के डूडी टुन्नार गए थे। वहां से लौटने के दौरान शुक्रवार सुबह नक्सलियों ने हरेली गांव के पास उन्हें रास्ते में रोक लिया। इसके बाद बंदा कुंजम, अशोक कुंजम सहित उनके परिजनों से मारपीट शुरू कर दी।

नक्सलियों ने ग्रामीणों की हत्या के लिए एसपी को बताया जिम्मेदार
नक्सलियों ने अशोक कुंजम और बंदा कुंजम की हत्या कर दी। वहीं शव के पास नक्सलियों ने एक बैनर भी लगा दिया। इसमें दोनों को गोपनीय सैनिक बताया गया। साथ ही लिखा है कि इनकी हत्या के लिए एसपी अभिषेक पल्लव जिम्मेदार हैं। वहीं एसपी पल्लव ने दोनों ग्रामीणों को गोपनीय सैनिक मानने से इनकार कर दिया है।

घटना के बाद से आसपास गांव के ग्रामीणों का गुस्सा नक्सलियों पर फूट पड़ा है। सभी ग्रामीण थाने पहुंच गए हैं और नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। वहीं दोनों युवकों के शवों को भी थाने लाया जा रहा है।

ग्रामीणों ने नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की
घटना के बाद से आसपास गांव के ग्रामीणों का गुस्सा नक्सलियों पर फूट पड़ा है। सभी ग्रामीण थाने पहुंच गए हैं और नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। वहीं दोनों युवकों के शवों को भी थाने लाया जा रहा है। इस घटना के बाद से ग्रामीणों में भी नक्सलियों को लेकर आक्रोश है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने शुक्रवार सुबह दो ग्रामीणों की हत्या कर दी। उनके परिजनों को भी जमकर पीटा। युवक की शादी तय करने के बाद ग्रामीण गांव लौट रहे थे। नक्सलियों ने सड़क पर फेंके गए शवों के पास बैनर लगाकर उन्हें गोपनीय सैनिक बताया है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3jXuOiv

0 komentar