अब हर दिन कोविड सेंटर में खाली बेड की जानकारी देगी सरकार; जहां संक्रमण कम, वहीं खुलेंगी आंगनबाड़ियां , September 06, 2020 at 05:39PM

रविवार की शाम मुख्यमंत्री आवास में दोपहर से जारी बैठक खत्म हुई। इस बैठक में कोरोना को लेकर प्रदेश में किए जा रहे कामों की समीक्षा हुई। मंत्री और अधिकारियों के सुझाव पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चर्चा की। बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि अब हर रोज सरकार यह जानकारी भी सार्वजनिक करेगी कि किस कोविड सेंटर में कितने बेड खाली हैं, ताकि लोगों में बिस्तरों की संख्या को लेकर कंफ्यूजन न हो।

इस फोटो में दिख रही स्क्रीन पर सरकार के प्रमुख चेहरे यानी की मंत्री दिख रहे हैं, बैठक में सभी ने अपनी तरफ से जरुरी सुझाव दिए।
इस फोटो में दिख रही स्क्रीन पर सरकार के प्रमुख चेहरे यानी की मंत्री दिख रहे हैं, बैठक में सभी ने अपनी तरफ से जरुरी सुझाव दिए।

7 सितंबर से प्रदेश की आंगनबाड़ियों को खोला जा रहा है। बैठक में सुझाव आया कि कम से कम 1 महीने के बाद ही आंगनबाड़ी खोलने पर विचार करना चाहिए। मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि इसपर यह तय किया गया कि जहां संक्रमण कम हो और स्थिति सामान्य हो, वहीं आंगनबाड़ी खोली जाएंगी। सभी आंगनबाड़ी केंद्रों को खोलने की अनिवार्यता नहीं है। जरूरत के हिसाब से स्थानीय प्रशासन फैसला ले सकता है।


मरीज को नहीं देख रहे डॉक्टर, अब ये नहीं चलेगा

  • बैठक में सरकार ने यह भी तय किया कि कोविड सेंटर में डॉक्टर जाएंगे। कई जगहों पर डॉक्टर जाते ही नहीं, नर्स के भरोसे सेंटर चल रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि कोविड अस्पताल में एक दिन में कम से कम 2 बार डॉक्टर जाएंगे। यदि जाना मुमकिन ना हो पाए तो कम से कम मरीजों से बात जरूर करें।
  • बैठक में रोकथाम के तरीकों पर चर्चा हुई। इसके तहत तय किया गया कि होम आइसोलेशन में थ्री बीएचके मकान के नियम के शिथिल किया जाए। अब यदि एक कमरा भी मरीज के लिए घर में अलग टॉयलेट के साथ हो तो उसे अनुमति दे दी जाएगी। परिवार के लोगों को दवाएं भी दी जाएंगी। होम आइसोलेशन में रहने वाला व्यक्ति 10 दिन के लिए 2500 रुपए में प्राइवेट डॉक्टर से भी सलाह ले सकेगा।
  • बैठक में एक और अहम फैसला लिया गया। इसके तहत अब एक सेंटर विकसित किया जा रहा है। इस सेंटर में 24 घंटे तीन शिफ्टों में डॉक्टर उपलब्ध रहेंगे। यह डॉक्टर फोन पर या वीडियो कॉल के जरिए होम आइसोलेशन पर रहने वाले मरीजों के संपर्क में रहकर उन्हें गाइडेंस देंगे।
  • ग्रामीण इलाकों में मुनादी करते हुए लोगों को कम से कम ही बाहर जाने के प्रति जागरुक किया जाएगा। ग्राम सभाओं में लोगों को बताया जाएगा कि सभी तरह की सावधानियां बरतें। ऐसे कर्मचारी जो छुट्‌टी लेकर ग्रामीण इलाकों में अपने घर जाते हैं, खासकर बस्तर उन्हें बिना जांच के जाने की अनुमति नहीं मिलेगी।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो रायुपर के सीएम हाउस स्थित दफ्तर की है। यहां वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सीएम ने सभी मंत्रियों और अधिकारियों से बात की।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3buuvZp

0 komentar