कोरोना मरीजों के परिजनों को दी जाएगी प्रोफाइलेक्टिक ड्रग किट , September 07, 2020 at 05:28AM

रविवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समीक्षा बैठक में कोरोना संक्रमण के बचाव को लेकर अहम निर्देश दिए गए हैं। संक्रमित मरीजों को भर्ती कराने के लिए बेड की संख्या बढ़ाने के साथ ही उनके परिजनों को प्रोफाइलेक्टिक ड्रग (किसी संक्रमण या बीमारी का खतरा हो तो उससे बचाव के लिए दवा) किट मुहैया कराई जाएगी। प्रत्येक संक्रमित व्यक्ति का स्थानीय स्तर पर सीटी स्कैन कर संक्रमण का पता लगाया जाएगा। सीएम ने जिला प्रशासन से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या और संक्रमण नियंत्रण पर भी चर्चा की।

जिले में लगातार मरीजों की संख्या और पॉजिटिविटी दर बढ़ने के बाद से प्रदेश तक में हड़कंप मचा हुआ है। रविवार को मंत्रियों के साथ ही प्रशासनिक और स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की बैठक में सुधार के निर्देश दिए गए हैं। जिस परिवार के एक-दो लोग पॉजिटिव पाए जाते हैं तो उस परिवार व संपर्क में आने वाले लोगों को बिना कोरोना जांच के एहतियात के तौर पर प्रोफाइलेक्टिव ड्रग किट दी जाएगी। इस किट में कोरोना के रोकथाम के लिए उपलब्ध दवाओं के सेवन के साथ ही एसओपी के पालन के लिए आवश्यक मार्गदर्शन भी दिया जाएगा। होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को टेलीमेडिसीन व्हाटसएप कॉलिंग के जरिए चिकित्सक, उनकी स्वास्थ्य की स्थिति के अनुसार चिकित्सकीय परामर्श देंगे ।

सीटी स्कैन की व्यवस्था नहीं, कैसे होगा निर्देश का पालन

मेडिकल कॉलेज प्रबंधन और अस्पताल के डॉक्टर सीटी स्कैन समेत जरूरी मशीनों को लगाने और उसे बेहतर तरीके से चलाने को लेकर शुरू से ही लापरवाह रहे हैं। कई लोगों के परिचित, परिजनों ने रेडियोलॉजी या पैथोलॉजी लैब खोली हुई है। जरूरत पड़ने पर मरीजों को वहां भेज देते हैं। पूर्व में तत्कालीन कलेक्टर अलरमेल मंगई डी ने मरीजों को हो रही दिक्कत के कारण रियायती दरों पर निजी रेडियोलॉजी सेंटर से टाईअप किया था ताकि जरूरत पड़ने पर सरकारी दरों और अतिगरीब मरीजों की निशुल्क जांच हो जाए। इसके बाद से मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने अस्पताल में जांच पर ध्यान नहीं दिया। कोविड मरीजों की सीटी स्कैन कराने के मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद अस्पताल प्रबंधन के हाथ-पांव फूल गए हैं। मेडिकल कॉलेज में एक वर्ष से लाखों रुपए कीमती सीटी स्कैन मशीन रखी हुई है। मेकाहारा में लगी सीटी स्कैन मशीन दो वर्ष से मेंटेनेंस बजट के अभाव में कंडम पड़ी है।

अधूरी है व्यवस्था, जल्द चालू कराने का प्रयास

मेकाहारा में लगी सीटी स्कैन की अवधि समाप्त हो चुकी थी। मेडिकल कॉलेज में सिविल वर्क अधूरा है, सेंट्रल एसी का काम भी पूरा नहीं हो सका है। अभी मशीन लगाने में परेशानी है। सीटी स्कैन के लिए अलग से व्यवस्था और एसी होना जरूरी है। सीएम के निर्देश के बाद कलेक्टर व सीएमएचओ से चर्चा की गई है। जल्द की अधूरे काम पूरे कराने के साथ मशीन का संचालन कराया जाएगा।''
डा. पीएम लूका, डीन मेडिकल कालेज



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2EY4zto

0 komentar