ऑनलाइन वेबिनार में कहा- जनमन को हिंदी से जोड़ने और सभी को साक्षर बनाने की जरूरत , September 15, 2020 at 06:25AM

हिंदी दिवस पर इस साल कोरोना संक्रमण की वजह से ज्यादातर कार्यक्रम डिजिटल प्लेटफार्म पर ही आयोजित किए गए। युगधारा फाउंडेशन के ऑनलाइन वेबिनार में मुख्य वक्ता के रूप में रायपुर से विदुषी डॉ. मृणालिका ओझा शामिल हुई। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति में प्राथमिक शिक्षा स्थानीय भाषा में देने का प्रावधान किया गया है। पूरे देश में हिंदी को अनिवार्य करने की आवश्यकता है, हिंदी साहित्यकारों ने हिंदी की सेवा की है। हिंदी साहित्य और भाषा अत्यंत समृद्ध है। तत्सम शब्दों के साथ ही इसने सभी भाषाओं के शब्द भी समाहित किए हैं, स्वीकार किए हैं।
उन्होंने आगे कहा कि हिंदी दिवस, सप्ताह और पखवाड़े मनाने से काम नहीं चलेगा, जनमन को हिंदी से जोड़ने और हर व्यक्ति को साक्षर बनाने का कार्य भी करना होगा। प्रवासी भारतीयों के योगदान को भी हमें याद रखना चाहिए। निश्चित ही हिंदी आज नहीं तो कल राष्ट्रभाषा बन कर रहेगी।
विशिष्ट वक्ता चंद्रिका प्रसाद मिश्र ने राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी बताते हुए कहा कि विदेश से छात्र और पर्यटक आकर यहां हिंदी सीखते हैं, हिन्दी में कार्य करते हैं। आज की हिंदी विभिन्न भारतीय बोलियोें से विकसित हुई है और उसने विश्व पटल पर एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त किया है। अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ रचनाकार रामकृष्ण वी सहस्रबुद्धे ने कहा कि आज दुनिया के दो तिहाई से अधिक विश्वविद्यालय में हिंदी पढ़ाई जाती है। हिंदी आमजन की भाषा है, जो विविधता में एकता की महत्वपूर्ण कड़ी है। इसकी सर्व स्वीकार्यता प्रमाणित हो चुकी है। पाठ्यक्रम में हिंदी को अनिवार्य कर हम आने वाली पीढ़ी को भारतीय ज्ञान विज्ञान और तकनीक से समृद्ध कर सकते हैं। आवश्यकता है दृढ़ इच्छाशक्ति की और शिशु मन से ही उसे मातृभाषा के साथ हिंदी से जोड़ने की। संस्था की महासचिव सौम्या मिश्रा ने हिंदी की सर्व स्वीकार्यता से जुड़े महत्वपूर्ण बिंदुओं की चर्चा की और इस दिशा में चल रहे प्रयासों पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस आयोजन में विभिन्न प्रांतों से 50 से अधिक लोगों ने सहभागिता की।

स्टेट बैंक में गृहमंत्री अमित शाह का हुआ संदेश वाचन
भारतीय स्टेट बैंक के प्रशासनिक कार्यालय में हिंदी दिवस समारोह का आयोजन किया गया। पखवाड़े का विधिवत उद्घाटन किया गया। इस दौरान अंचल प्रमुख परविंदर भारती ने गृह मंत्री अमित शाह व बैंक चेयरमैन रजनीश कुमार के संदेश का वाचन किया गया। यहां रायपुर के क्षेत्रीय प्रबंधक राजेश कुमार, एफआईएमएम के क्षेत्रीय प्रबंधक डी के उपाध्याय, आरएसीपीसी सहायक महाप्रबंधक अंजलि प्रकाश, सहायक महाप्रबंधक क्रेडिट एमएनपीए व अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन मुख्य प्रबंधक राजभाषा रजनीश कुमार यादव ने किया। उन्होंने पखवाड़े के दौरान आयोजित होने वाले कार्यक्रमों और स्पर्धाओं के बारे में अधिकारी-कर्मचारियों को जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने सभी को अपने मूल कार्यों को हिंदी भाषा में करने का संकल्प दिलाया। कोरोना संक्रमण को देखते हुए समारोह में शासन के नियमों का पालन किया गया।

एयरपोर्ट में हिंदी पखवाड़ा 14 से 30 तक
भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के रायपुर स्थित स्वामी विवेकानंद हवाई अड्डा में कोरोना संक्रमण के चलते हुए हिंदी दिवस पर पखवाड़े का ऑनलाइन उद्घाटन किया गया। यह पखवाड़ा 14 से 30 सितंबर तक चलेगा। पखवाड़े का उद्घाटन विमानपत्तन निदेशक राकेश रंजन सहाय ने किया। उन्होंने ऑनलाइन उपस्थित अधिकारी व कर्मचारियों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह की ओर से हिंदी दिवस पर दिए गए संदेश से अवगत कराया और अपना संदेश दिया।

संबोधन के दौरान विमानपत्तन निदेशक ने स्वामी विवेकानंद हवाई अड्डे पर कार्यरत सभी अधिकारी-कर्मचारियों को अधिक से अधिक हिंदी में कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया। साथ ही कार्यालय के सभी कामकाज को हिंदी में करने का निर्देश दिया। एयरपोर्ट के राजभाषा विभाग की ओर आयोजित इस पखवाड़े में निबंध स्पर्धा, हिंदी अनुवाद स्पर्धा, टिप्पणी लेखन आदि में भाग लेने सभी को प्रोत्साहित किया गया। इस दौरान अतिथि के रूप में रजनीश कुमार यादव, मुख्य प्रबंधक राजभाषा, भारतीय स्टेट बैंक बैरन बाजार शाखा से शामिल हुए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
In online webinar, said - need to connect Janman with Hindi and make everyone literate


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Rsr6ks

0 komentar