जिला पंचायत सभापति साहू को लात-घूंसों और डंडों से पीटा; कलेक्टर बोले- अवैध खनन नहीं, दो पक्षों में हुई मारपीट , September 18, 2020 at 06:24AM

छत्तीसगढ़ के धमतरी में जिला पंचायत के सभापति गोविंद साहू और उनके साथी की पिटाई को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं। जिस मामले को रेत खनन माफिया की गुंडागर्दी बताई जा रही थी, उसे कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने गुरुवार शाम को दो पक्षों की मारपीट बताया है। उनका कहना है कि प्रथम दृष्टया यही प्रतीत हो रहा है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दरअसल, जिला पंचायत के सभापति गोविंद साहू और उनके साथी जिला पंचायत सदस्य मीना बंजारे के पति यतींद्र बंजारे की पिटाई की गई। कुरूद थाने में यतींद्र ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि बुधवार देर रात उनको लात-घूंसों और रॉड से पीटा गया। सभापति को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस ने इस मामले में 5 लोगों को हिरासत में भी लिया है।

हाइवा से निकाल रहे थे रेत, टोकने पर बोले- बहुत नेतागिरी करते हो

यतींद्र ने पुलिस को बताया कि परेवाडीह, डमकादिह और कपालफोड़ी का निरीक्षण कर वे मंदरौद मेघा नदी के किनारे भंडारण के पास पहुंचे थे। इस दौरान वहां पर अवैध रूप से हाइवा से रेत निकाल कर भंडारण किया जा रहा था। उन्होंने टोका तो कुछ लोग सामने आ गए और गाली-गलौच करने लगे। फिर लात-घूंसों और रॉड से जमकर पीटा गया। इस दौरान गोविंद साहू के कपड़े भी फाड़ दिए।

अलग-अलग टीमें निकली थीं निरीक्षण के लिए
बताया गया कि अवैध रेत खनन को देखते हुए बुधवार को जिला पंचायत में हुई बैठक में निरीक्षण का निर्णय लिया गया था। इस पर देर रात अलग-अलग टीमें जिला पंचायत अध्यक्ष कांति सोनवानी, उपाध्यक्ष निशु चंद्राकर, सदस्य तारिणी चंद्राकर ,सुमन साहू, कुसुमलता, मनोज साक्षी, मीना बंजारे, गोविंद साहू सभी निरीक्षण के लिए निकले थे।

कलेक्टर ने कहा- जहां घटना हुई वहां भंडारण की अनुमति

कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने बताया कि ग्राम मंदरौद में 0.86 हेक्टेयर क्षेत्र में अशोक पवार पिता खेलन सिंह पवार को अस्थायी अनुज्ञा भंडारण की अनुमति प्रदान की गई है। वहां अशोक पवार के चौकीदार और उसके परिवार व 12-15 लोगों के मध्य विवाद हुआ। इस मामले में एसडीएम कुरूद से प्रतिवेदन मांगा गया था। शिकायत में भी स्पष्ट नहीं हो रहा कि मारपीट की घटना के लिए कौन जिम्मेदार है?

घटना के समय नहीं में कोई उत्खनन नहीं चल रहा था

उन्होंने बताया कि एसडीएम की जांच से स्पष्ट हो रहा है कि अशोक पवार के अनुमति प्राप्त भंडारण क्षेत्र में घटना हुई। जब यह घटना हुई, तब नदी क्षेत्र में उत्खनन की कार्रवाई नहीं हो रही थी। ना ही नदी क्षेत्र से किसी वाहन को जब्त किया गया। भंडारण क्षेत्र की जांच के लिए प्राधिकृत अधिकारी नियुक्त किए गए हैं, इनके अलावा कोई भी व्यक्ति प्रवेश नहीं कर सकता है।

उन्होंने कहा कि किसी को शिकायत है तो सक्षम प्राधिकारी को सूचना दे सकता है। इस घटनाक्रम के अवलोकन से स्पष्ट है कि अशोक पवार के मंदरौद स्थित भंडारण क्षेत्र में कुछ अज्ञात लोगों ने नियम विरुद्ध प्रवेश किया, जिसके चलते यह घटना हुई। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। जो भी दोषी होगा, उस पर उचित कार्रवाई की जाएगी।

तीन माह पहले जिला पंचायत सदस्य को बंधक बनाकर बेल्ट से पीटा था
इससे करीब तीन माह पहले 18 जून को भी रेत खनन माफिया ने जिला पंचायत सदस्य खूबलाल और उनके साथियों को 3 घंटे तक बंधक बनाने के दौरान बेल्ट और डंडों से पीटा था। किसी तरह वहां से दरवाजा तोड़कर वे भागे और रुद्री थाने पहुंचे और वहीं पर बेहोश होकर गिर पड़े थे। मामले में कुरूद पुलिस पर मिलीभगत का भी आरोप लगा है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
छत्तीसगढ़ के धमतरी में एक बार फिर रेत खनन माफिया ने गुंडागर्दी की है। इस बार जिला पंचायत के सभापति गोविंद साहू और उनके साथी की लात-घूंसों और रॉड से पिटाई की। गंभीर हालत में सड़क पर पड़े सभापति। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3kqmt73

0 komentar