कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के बीच छत्तीसगढ़ में सड़क पर निकले किसान; घर के बाहर, खेतों में खड़े होकर किया प्रदर्शन , September 26, 2020 at 08:02AM

केंद्र सरकार के कृषि सुधार बिल के विरोध की आग छत्तीसगढ़ तक पहुंच गई है। पंजाब और हरियाणा के बाद अब प्रदेश में भी शुक्रवार को किसान सड़क पर निकले। इस दौरान उन्होंने लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के नियमों का पालन करते हुए अपने-अपने घरों के बाहर और खेतों में प्रदर्शन किया। किसानों के इस विरोध को कांग्रेस ने भी समर्थन दिया है।

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ सहित प्रदेश के 20 संगठनों ने प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर बिल के विरोध में प्रदर्शन किया।

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ सहित प्रदेश के 20 संगठनों ने प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर बिल के विरोध में प्रदर्शन किया। सुबह से यह प्रदर्शन शुरू हुआ और दोपहर तक प्रदेश के विभिन्न स्थानों से सूचना मिलने लगी। हालांकि सार्वजनिक स्थल पर प्रदर्शन पर रोक के चलते सांकेतिक विरोध की यह तस्वीर शाम तक साफ हो सकी।

लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के नियमों का पालन करते हुए अपने-अपने घरों के बाहर और खेतों में प्रदर्शन किया।

बैनर और नारे लिखी तख्तियां लिए खेतों-पंचायतों में खड़े हुए किसान
रायपुर, राजिम, भिलाई, गरियाबंद, राजनांदगांव सहित कई जिलों में किसानों ने प्रदर्शन किया। हाथों में बैनर और नारे लिखी तख्तियां लिए किसान अपने खेतों, घरों के सामने, पंचायतों में खड़े हुए और केंद्र सरकार व प्रधानमंत्री से बिल वापस लेने की मांग की। किसानों का कहना था कि ये कांट्रेक्ट खेती नहीं चलेगी।

रायपुर, राजिम, भिलाई, गरियाबंद, राजनांदगांव सहित कई जिलों में किसानों ने प्रदर्शन किया। हाथों में बैनर और नारे लिखी तख्तियां लिए किसान अपने खेतों, घरों के सामने, पंचायतों में खड़े हुए और केंद्र सरकार व प्रधानमंत्री से बिल वापस लेने की मांग की।

कांग्रेस ने कहा- किसानों को पूंजीपतियों का गुलाम बनाएगा बिल
कांग्रेस ने किसानों के समर्थन में इस बिल का विरोध किया है। कहा, किसानों के पास पूंजी नहीं आएगी, बल्कि वो पूंजीपतियों की कठपुतली बन जाएंगे। मोदी सरकार ने स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिश के अनुसार किसानों को लागत मूल्य का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य देने का वादा किया था, लेकिन 6 साल में भी पूरा नहीं किया। किसान भी इसी कमेटी की सिफारिश को लागू करने की मांग कर रहे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
केंद्र सरकार के कृषि सुधार बिल के विरोध की आग छत्तीसगढ़ तक पहुंच गई है। पंजाब और हरियाणा के बाद अब प्रदेश में भी शुक्रवार को किसान सड़क पर निकले। इस दौरान उन्होंने लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के नियमों का पालन करते हुए अपने-अपने घरों के बाहर और खेतों में प्रदर्शन किया।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3czkmv4

0 komentar