इम्यूनिटी बूस्टर और दवाइयां लेने वालों को भी कोरोना, इनमें डॉक्टर भी शामिल , September 29, 2020 at 05:25AM

इम्यूनिटी बूस्टर और दूसरी दवाइयों से कोरोना संक्रमण का खतरा नहीं टल रहा है। दरअसल डॉक्टर समेत कई लोग संक्रमण से बचने के लिए जरूरी दवा व इम्यून बूस्टर धड़ल्ले से ले रहे हैं। इसके बावजूद वे कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि बचाव के लिए डॉक्टरों की सलाह पर दवा व इम्यून बूस्टर लेने में कोई बुराई नहीं है। लेकिन यह बचाव की गारंटी नहीं है। खुद की दिनचर्या व जरूरी एहतियात पर निर्भर कर रहा है कि संक्रमण होगा या नहीं।
जब से कोरोना की बीमारी ने दस्तक दी है, तब से लोगों ने जरूरी दवा व इम्यून बूस्टर बिक्री की बूम है। मेडिकल स्टोर से लेकर जनरल स्टोर में यह इम्यून बूस्टर मिल रहे हैं। दवा भी कई बार मेडिकल स्टोर के स्टॉक से गायब हो गए, क्योंकि लोगों ने यह विशेष दवा धड़ल्ले से खरीदनी शुरू कर दी और घर मे स्टॉक करने लगे। यह सिलसिला अभी भी जारी है, लेकिन कोरोना संक्रमण कम होने के बजाय बढ़ते ही जा रहा है। दरअसल लोगों को लगता है कि वे दवा व इम्यून बूस्टर लेकर कोरोना की गिरफ्त में नहीं आएंगे। वे लापरवाही बरतने लगते हैं। उदाहरण के लिए स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ सीनियर डॉक्टर का कहना है कि वह दवा जरूर ले रहे थे लेकिन कार्यालय में भीड़ से बच नहीं पाए। भीड़ के किसी व्यक्ति से उन्हें संक्रमण हो गया।
अच्छी बात यह रही कि वायरल लोड कम होने के कारण उनमें लक्षण भी नहीं था और जल्दी ठीक भी हो गए। दूसरे डॉक्टर भी मीटिंग के दौरान मास्क तो लगाए लेकिन जरूरी डिस्टेंस मेंटेन नहीं कर पाए और पॉजिटिव आ गए। ऐसे कई उदाहरण है जिसमें लोगों की जरा सी लापरवाही के कारण उन्हें कोरोना हो गया।

बच गए... इस वजह से लापरवाही
दवा व इम्यून बूस्टर लेने वालों को लगता है कि उन्हें कोरोना नहीं हो सकता, इसलिए ज्यादा लापरवाह हो जाते हैं। डॉक्टर सावधानी बरतते हैं, लेकिन आम लोग कई बार मास्क नहीं पहनते, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं करते। भीड़ में जा रहे हैं, इसलिए संक्रमित हो रहे हैं। राजधानी में ऐसे बहुत से लोग हैं जो केवल घर से सब्जी मार्केट, किराना दुकान या मेडिकल स्टोर गए और कोरोना से संक्रमित हो गए।

एक्सपर्ट व्यू
एहतियात ज्यादा जरूरी
"लक्षण दिखने पर या बचाव के लिए डॉक्टर की सलाह पर दवा या इम्यून बूस्टर लेने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन एहतियात जरूरी है। दवा ले रहे हैं तो कोरोना नहीं होगा, यह गलतफहमी है। डाक्टर भी दवाइयां ले रहे हैं, लेकिन बड़ी संख्या में संक्रमित भी हो रहे हैं।"
-डॉ. सुनील खेमका, सीनियर ऑर्थोपेडिक सर्जन



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Corona to those who take immunity boosters and medicines, including doctors


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2S71cmL

0 komentar