10 लोगों से वाट्सएप पर ड्रग चैट का खुलासा, पैडलर से पूछा - माल है या नहीं? पुलिस ने 5 के यहां मारे छापे , October 03, 2020 at 06:08AM

प्रमोद साहू | राजधानी में एक कॉलेज के सामने तीन दिन पहले पकड़े गए ड्रग पैडलर का मोबाइल और वाट्सएप चैट से चौंकाने वाले राज खुल रहे हैं। अभी सिर्फ एक फोन की जांच चल रही है, जिसमें 10 मोबाइल नंबर मिले हैं, जिनसे वाट्सएप में ड्रग चैट हुई और सभी नियमित ग्राहक हैं। सभी युवक-युवतियां हैं और संभ्रांत परिवारों से हैं। वाट्सएप मैसेज में अधिकांश की भाषा एक तरह की है - माल (व्हाइट पाउडर) है या नहीं। इन नंबरों पर पुलिस ने काॅल किया तो 8 बंद मिले हैं।

सिर्फ दो से बात हुई है, जिनके बारे में पुलिस फिलहाल चुप है। जिनके नंबर बंद मिले, उनमें से 5 घरों में पुलिस जांच कर चुकी है। जिनकी ड्रग चैट थी, परिजन ने बताया कि सभी बाहर हैं। पुलिस ने सभी परिवारों से कहा है कि अपने बच्चों को थाने में पेश कर दें। यही नहीं, पैडलर श्रेयांस और विकास से कुल 3 मोबाइल जब्त हुए हैं। शेष 2 की जांच में और भी बातें आ सकती हैं। दोनों पैडलर मुंबई से सफेद पाउडर मंगवाते थे। पुलिस अभी तक नशे के मुंबई वाले सौदागरों से दूर है, क्योंकि मोबाइल पर उनसे संपर्क नहीं हो पाया है। यह एंगल भी तलाशा जा रहा है कि मुंबई के ताजा विवादित ड्रग मामले से तो इसका ताल्लुक नहीं है। क्योंकि यहां भी पैडलर के मोबाइल से प्रभावशाली लोगों के नंबर और चैट्स ही मिली हैं। एसएसपी अजय यादव ने यह ड्रग केस साइबर सेल को सौंप दिया है। इसमें कई सीनियर पुलिस अफसर लगे हैं। एसएसपी ने कहा कि मुंबई से रायपुर में नशा सप्लाई करनेवालों की तरफ भी पुलिस बढ़ रही है। यहीं की टीम इन तस्करों को मुंबई पुलिस की मदद से पकड़कर लाएगी। अब तक की पड़ताल में यह बात आई है कि श्रेयांस ही मुंबई के तस्करों के संपर्क में था। माल का आर्डर और पेमेंट वही कर रहा था। ज्यादातर पेमेंट ऑनलाइन हुआ है, इसलिए बैंक खातों से भी काफी जानकारी मिल सकती है। यह भी स्पष्ट हो जाएगा कि कब-कब और कितने का माल मुंबई से मंगवाकर रायपुर में खपाया गया। शुरूआती जांच में खुलासा हुआ कि दोनों पैडलर कोरियर से ही ड्रग मंगवा रहे थे।
फोन पर ऑर्डर देने के बाद मुंबई के सप्लायर पार्सल भेज देते थे। ये पार्सल होम्योपैथिक दवा के छोटे-छोटे डिब्बों में भरकर आते थे। आरोपियों से तलाशी में छोटी इलेक्ट्रॉनिक तौल मशीन भी मिली है। इसमें एक ग्राम सफेद पाउडर तौलकर उसका पैकेट बनाया जाता था। पुलिस ने पैडलर को पकड़ा था, तब उसके पास से ऐसे 17 पैकेट मिले थे। एक पैकेट 10 हजार रुपए में बेचा जा रहा था।

रसूखदारों में उलझी पुलिस
पुलिस के सूत्रों ने बताया कि पकड़े पैडलर से जो मोबाइल नंबर और ड्रग चैट मिली हैं, उनमें ज्यादातर युवक-युवतियां होटल कारोबार से जुड़े परिवारों से संबंधित हैं। अधिकांश रसूखदार हैं, इसलिए फिलहाल पुलिस फूंक-फूंककर कदम उठा रही है। अभी सबूत इकट्ठा किए जा रहे हैं, ताकि इस आधार पर सख्त कार्रवाई की जा सके। यही वजह है कि जिनकी ड्रग चैट है, पुलिस खुद इंतजार कर रही है कि वे थाने तक आएं।

एमबीए के बाद यह धंधा
पुलिस के मुताबिक श्रेयांस एमबीए के बाद मुंबई गया और एक निजी कंपनी में मैनेजमेंट का काम देखता रहा। वहां वह पार्टियों में जाता था। वहीं उसकी मुलाकात एक पैडलर से हुई। वह डेढ़ साल पहले रायपुर आ गया। यहां ठीक-ठाक नौकरी नहीं मिली, तब उसने ड्रग्स के धंधे पर नजर डाली। उसने इस काम में अपने बैचमेट विकास को जोड़ा। वह बंगाल का है और इवेंट कंपनी चलाता है। उसका बैकग्राउंड भी खंगाला जा रहा है।

मोबाइल खोलेगा कई राज
आरोपियों से जब्त 3 मोबाइल की जांच में ड्रग्स रैकेट के कुछ बड़े राज्य खुलने की उम्मीद भी पुलिस को है। शनिवार से पुलिस बाकी दोनों मोबाइल की भी जांच शुरू करेगी। इसकी जांच में सावधानी बरती जा रही है क्योंकि पासवर्ड हैं और इसे ब्रेक करने पर डेटा डिलीट होने का खतरा है। इसलिए पुलिस एक्सपर्ट से लॉक खुलवाकर मोबाइल की जांच कर रहेगी। पैडलर के सोशल मीडिया और वाट्सएप ग्रुप को भी जांच में लाया गया है।

1500 नशीली टेबलेट के साथ युवक गिरफ्तार
पुलिस ने शुक्रवार की शाम रजबंधा मैदान के पास नशीली टेबलेट बेच रहे शेख साहिल (22) नाम के युवक को पकड़ा तो जांच में उसके पास से 1500 गोलियां मिल गईं। यह घातक टैबलेट हैं, जिनका सस्ते नशे के तौर पर युवक इस्तेमाल कर रहे हैं। आरोपी ने बताया कि वह एक टेबलेट 250 से 500 रुपए तक में बेच रहा था। पूछताछ में युवक ने उस मेडिकल स्टोर का नाम भी बताया है, जहां से उसे ये टेबलेट मिल रही थीं। उसकी तलाश चल रही है। अफसरों ने बताया कि इस मामले में मेडिकल स्टोर वाले पर भी सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लॉकडाउन में बर्थ डे पार्टी, दो बहनें गिरफ्तार
लाॅकडाउन के दौरान क्वींस क्लब में विवादित बर्थडे पार्टी में शामिल हुई दो बहनों को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। दोनों बहने अपनी भाभी के साथ रविवार रात पार्टी में पहुंची थी। गिरफ्तार दोनों युवतियां बर्थडे गर्ल राजवीर कौर की सहेली हैं। उसी के निमंत्रण पर पार्टी में शामिल हुई थी। पुलिस ने दोनों बहनों को शाम को कोर्ट में पेश किया है, जहां से उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया है। दोनों बहने कॉलेज में पढ़ाई करती है। पुलिस ने उसकी भाभी को भी आरोप बनाया है। जल्द ही उनकी भी गिरफ्तारी की जाएगी। तेलीबांधा टीआई रमाकांत साहू ने बताया कि क्वींस क्लब मामले में पहले 14 लोगों पर केस दर्ज किया गया था। पड़ताल के दौरान 5 लोगों का नाम सामने आया था, जिसमें शंकर नगर की मीनल मांडविया और सोनाली मांडविया शामिल है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रतीकात्मक फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3jqnaxd

0 komentar