भक्तों की मंदिर में पीछे से एंट्री, बीते साल 22 हजार पहुंचे थे, इस बार 500 से कम , October 18, 2020 at 06:02AM

शनिवार को शारदीय नवरात्र का पहला दिन रहा। जिले के धार्मिक आस्था का बड़ा केंद्र झलमला के गंगा मैया मंदिर का मुख्य द्वार बंद रहा लेकिन पीछे से श्रद्धालु पहुंचते रहे। यहां तक आ गए हैं तो दर्शन कराने की मिन्नतें करने के बाद ट्रस्ट के लोग दूर से ही दर्शन कर जल्दी आने की बातें कहते रहे। जानकारी न होने पर अधिकांश लोग मुख्य द्वार के पास से ही माथा टेकते दिखे।

कई भक्त दूर से ही हाथ जोड़ मोबाइल वीडियो कॉल कर परिजन को माता का दर्शन कराते रहे। वाहन पार्किंग के मार्ग से पीछे वाले गेट से होते हुए मंदिर में सुबह से शाम तक लोग मंदिर परिसर में एंट्री करते रहे। मंदिर प्रांगण के खिड़की के सामने खड़े होकर श्रद्धालु श्रीफल चढ़ाकर अपनी मनोकामना पूरी होने की कामना के साथ हाथ जोड़े नजर आए। शाम तक भक्त पहुंचते रहे।

महिला बोली- ऐसा दिन भी आएगा, सोचे नहीं थे: परसदा से पहुंची सुकारो बाई ने बताया कि वह अपने गांव से गंगा मैया दर्शन करने आई हैं। मंदिर का मुख्य गेट बंद रहेगा। इसकी जानकारी नहीं होने के कारण पीछे से आना पड़ा। उन्होंने कहा कि ऐसा दिन भी आएगा, सोचे नहीं थे। इधर ऑनलाइन दर्शन होने से भक्तों को राहत मिली है।

नवरात्र का पहला दिन: गंगा मैया मंदिर झलमला से भास्कर लाइव

मां गंगामैया झलमला में शारदीय नवरात्र पर 902 ज्योति कलश की स्थापना की गई है। भक्तों की आस्था इतनी है कि कोरोनाकाल में भी माता के दरबार तक पहुंचकर सिर झुकाकर वापस लौट रहे हैं। सुरक्षा के लिहाज से मंदिर के पीछे के गेट में 3 पुलिस वालों की ड्यूटी लगाई गई थी लेकिन भीड़ ज्यादा नहीं हुई। पिछले साल 50 से ज्यादा जवानों की ड्यूटी लगी थी। इस बार नारियल, फूल और अगरबत्ती की दुकान नहीं लगी है।

ट्रस्ट के अनुसार पिछले साल दर्शन करने 22 हजार श्रद्धालु शारदीय नवरात्र के पहले दिन ही पहुंचे थे। इसके अलावा मेला व कार्यक्रम में भी सैकड़ों लोग मौजूद थे। इस बार मंदिर परिसर में प्रवेश करने वाले 500 से भी कम थे। प्रशासन ने गाइडलाइन जारी की है कि भीड़भाड़ न हो। इसलिए मंदिर परिक्षेत्र में प्रवेश पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। ट्रस्ट सचिव गिरधर पटेल ने बताया कि इस बार यहां सन्नाटा पसरा है।

टीवी पर भी लाइव प्रसारण किया जा रहा: ट्रस्ट
ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे आप- गंगा मैया मंदिर में आरती, ज्योति कलश स्थापना सहित अन्य गतिविधियों को आप घर बैठे या कहीं भी नवरात्र अंत तक देख सकते है। इसके लिए आपको अपने मोबाइल में httpsः//youtu.be/RmlTsspekQw लिंक को क्लिक करना होगा। मंदिर ट्रस्ट अनुसार टीवी में भी लाइव प्रसारण किया जा रहा है।

मंदिर ट्रस्ट प्रमुख सोहनलाल टावरी ने बताया कि ऑनलाइन दर्शन का लाभ लोगों को मिल पाएगा या नहीं, इस पर संशय की स्थिति शुक्रवार रात 11 बजे के बाद दूर हुई, जब रायपुर से पहुंची टीम के सदस्यों ने बताया कि ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे। गंगा मैया धर्म मंच वेबसाइट या सोशल मीडिया पर क्लिक करते ही आप यहां का ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे। इससे भक्तों को राहत मिलेगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बालोद. गंगा मैया मंदिर में जहां मूर्ति, वहां घी के ज्योति कलश स्थापित, ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/346ABwJ

0 komentar