जिले में 5 हजार से अधिक शिक्षक मोहल्ला पाठशाला में पढ़ा रहे 1031 , October 04, 2020 at 05:40AM

जिला शिक्षा विभाग ने शनिवार ने कोरोना काल में दौरान चल रहीं अपने ड्रीम प्रोजेक्ट पढ़ई तुंहर दुआर की रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में प्रोजेक्ट की स्थिति खराब है। पूरे राज्य में ओवरऑल कबीरधाम जिले का नंबर 5 के बाद ही है। इसके पीछे का कारण शिक्षकों की रुचि नहीं है। दरअसल पढ़ई तुंहर दुआर अंतर्गत 5 अलग-अगल प्रकार के पढ़ाई को रहीं है। इसमें मोहल्ला व ऑनलाइन पढ़ाई पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

डीईओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी अनुसार पूरे जिले में 5 हजार के आसपास शिक्षक है, इनमें से मोहल्ला पाठशाला में केवल 1031 शिक्षक ही योगदान दे रहे है। बाकी के शिक्षक पढ़ाई कराने को लेकर कोसों दूर है। वहीं बचे हुए चार हजार के आसपास शिक्षकों को घर बैठे ही वेतन दिया जा रहा है। प्रति शिक्षक औसतन वेतन 30 हजार रुपए से देखे तो वेतन में ही 12 करोड़ रुपए प्रतिमाह खर्च भी हो रहें है। इन्हें बैठे-बैठे वेतन मिल रहा है।

ऑनलाइन कक्षा 1.62 लाख से अधिक, लेकिन 8 हजार बच्चे जुड़ सके: रिपोर्ट के अनुसार ऑनलाइन कक्षा की भी स्थिति ठीक नहीं है। जिले में 5115 शिक्षकों ने 1 लाख 62 हजार 814 ऑनलाइन क्लास ली है। लेकिन इस कक्षा में केवल 8313 बच्चे जुड़ सके हैं।

ऐसा हाल: ड्रीम प्रोजेक्ट पढ़ई तुंहर दुआर की रिपोर्ट में कबीरधाम 5वें नंबर पर

पोर्टल में उपस्थिति दर्ज कराई, फिर गतिविधि बंद

शिक्षा विभाग के ड्रीम प्रोजेक्ट पढ़ई तुंहर दुआर को ऑनलाइन किया गया है। कई तरह के मोबाइल एप भी बनाए गए है। ज्यादातर शिक्षकों ने पोर्टल में अपना नाम एंट्री तो करा लिया। लेकिन पढ़ाई संबंधित गतिविधि बंद कर दी। मोहल्ला क्लास के रिपोर्ट अनुसार 1031 शिक्षकों ने पोर्टल पर 558 फोटो, 227 वीडियों, लाउड स्पीकर पढ़ाई संबंधित 116 फोटो, 33 वीडियो व पढ़ाई बुल्टू के तहत 43 फोटो व 9 वीडियो अपलोड किए है। यही कारण है कि कम एंट्री किए जाने को लेकर जिले को पूरे राज्य में कबीरधाम जिले को 12वां स्थान मिला है।

वेबसाइट से असाइनमेंट डाउनलोड करना है

इधर पढ़ाई की स्थिति खराब होने के बाद भी कक्षा 10 वीं व 12वीं के बच्चों से असाइनमेंट लिए जाएंगे। इसे लेकर माशिमं ने अपने वेबसाइट में शेड्यूल जारी किया है। कक्षा 10वीं व 12वीं के बच्चों को माशिमं के वेबसाइट से असाइनमेंट डाउनलोड करना है, जिसे घर बैठे लिखना है। फिर अपने शिक्षक के पास जमा करना है। इसके बाद असाइनमेंट के नंबर को माशिमं के पोर्टल में अपलोड किया जाएगा। इसी के आधार आने वाने परीक्षा परिणाम जारी किए जाने की तैयारी है। लेकिन इन सब के बीच में कक्षा 9वीं व 11वीं के लिए कोई भी आदेश नहीं आया है।

पढ़ाई कराने हम तैयार, शासन हमारी गारंटी ले

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष रमेश चन्द्रवंशी ने बताया कि वर्तमान में ऑनलाइन व मोहल्ला क्लास के काम को शासन ने स्वैच्छिक कार्य माना है। इसके बाद भी कई शिक्षक ऑनलाइन व मोहल्ला क्लास ले रहे है। पढ़ाई कार्य के दौरान ही कई शिक्षक कोरोना के चपेट में आए है। कई की मौत भी हुई है। लेकिन शासन ने किसी भी शिक्षक का बीमा नहीं किया। पढ़ाई कराने शिक्षक तैयार है, लेकिन हमारे जीवन की गारंटी कौन लेगा। पढ़ाई कार्य कराने फिलहाल स्वैच्छिक है, इस कारण शिक्षक भी रुचि नहीं ले रहे है।

ये है पढ़ाई से दूर होने का प्रमुख कारण

ज्यादातर बच्चों के पालकों के पास स्मार्ट फोन नहीं है। फोन भी है तो नेटवर्क की समस्या है। यहीं कारण है कि 1.60लाख ऑनलाइन क्लास में केवल 8 हजार बच्चे जुड़ सके है। कई गांव में कोरोना के मामले बढ़े है। इस कारण संबंधित गांव काे कंटेनमेंट जोन में रखा गया। इसके चक्कर शिक्षक भी चपेट में आ गए। कोरोना के डर के कारण शिक्षक भी पढ़ाई कराने पीछे रह गए। मोहल्ला क्लास स्कूल में न लग कर सामुदायिक व पंचायत भवन में लग रही। कभी भी अन्य कार्य के लिए इन भवनों का उपयोग हो रहा। स्थायी रुप से पढ़ाई कराने भवन नहीं है।

लॉकडाउन के कारण बिगड़ी व्यवस्था

डीईओ केएल महिलांगे ने बताया कि पढ़ई तुंहर दुआर में पढ़ाई जारी है। लेकिन बीते 15 दिन से जिले में लॉकडाउन के कारण व्यवस्था बिगड़ी है। पूर्व में तो रोज 1400 से अधिक कक्षा लगा करती थी, लेकिन अब यह संख्या 800 के आसपास पहुंच गई। आने वाले समय में आंकड़े बढ़ेंगे। ऑनलाइन पढ़ाई व मोहल्ला कक्षा को लेकर किसी शिक्षक पर दबाव नहीं है।

जिले में पढ़ई तुंहर दुआर कार्यक्रम की रिपोर्ट कार्ड

  • बुल्टू के बोल व लाउड स्पीकर पढ़ाई में राज्य में पांचवां स्थान।
  • ऑनलाइन कक्षा संचालन में राज्य में 9वां स्थान।
  • पढ़ई तुंहर पारा छात्र प्रविष्टि में राज्य में 8वां स्थान।
  • पढ़ई तुंहर पारा कक्षा संचालन में राज्य में 12वां स्थान।
  • रिपोर्ट कबीरधाम जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार।)


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
More than 5 thousand teachers are teaching 1031 in Mohalla Pathshala in the district


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2EXffZ2

0 komentar