7 को प्रदेश में भाजपा का किसान आंदोलन, 1 से धान खरीदे सरकार , October 06, 2020 at 06:28AM

किसानों की आत्महत्या, किस्तों में धान की बची हुई राशि के भुगतान सहित अन्य मुद्दों पर 7 अक्टूबर को भाजपा प्रदेशभर में आंदोलन करेगी। प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने सोमवार को पत्रकारों को इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पिछली बार धान खरीदी के दौरान किसानों के साथ अपराधियों जैसा बर्ताव किया गया। इस बार एक नवंबर से धान खरीदी शुरू करने के साथ ही 20 क्विंटल प्रति एकड़ के हिसाब से खरीदी की मांग की है।
एकात्म परिसर में पत्रकारों से चर्चा में साय ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने केंद्रीय पूल में डेढ़ गुना ज्यादा चावल खरीदने की घोषणा की है. अब वे 60 लाख टन चावल खरीदेंगे। केंद्र से चावल के मद में 9 हजार करोड़ रुपए हाल में ही दिए गए हैं।
प्रदान किया गया है. 60 लाख टन चावल के लिए पचासी-नब्बे लाख टन धान की जरूरत होगी, इसलिए सरकार किसानों से प्रति एकड़ 20 क्विंटल धान खरीदे। साय ने कहा कि अफसोस की बात है कि पिछले सीजन के धान का कुल पैसा अब तक किसानों के खाते में नहीं आ पाया है। गांधी परिवार के स्मरण दिवसों पर कांग्रेस सरकार सौगात की तरह किसानों को किस्तों में भुगतान कर रही है। इससे किसानों को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यह अन्नदाताओं का अपमान है।

दो साल का बोनस अब तक नहीं दिया
प्रदेश अध्यक्ष साय ने कहा कि घोषणा पत्र में स्पष्ट वादा करने के बावजूद कांग्रेस सरकार ने आजतक बकाया दो साल के बोनस का पैसा नहीं दिया है। यह किसानों के साथ पूरी तरह धोखाधड़ी है। गिरदावरी के बहाने प्रदेश शासन किसानों का रकवा घटाने की साज़िश कर रही है ताकि धान खरीदी की अपनी जिम्मेदारी से बचा जाए। पिछली बार धान के परिवहन और भंडारण पर किसानों के साथ अत्याचार की सीमा लांघ दी गई थी. किसानों के साथ कांग्रेस सरकार ऐसे पेश आ रही थी मानों उन्होंने धान नहीं, भांग-गांजे की खेती कर ली हो. अब ऐसा भंडारण नए कानून में अपराध नहीं है। सरकार घोषणा करे कि अब किसी किसान को परेशान नहीं करेगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रतीकात्मक फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/34tq4e1

0 komentar