गैंगरेप का केस दबाने में पुलिस भी शामिल, टीआई ने मांगी थी रिश्वत, पाेल खुली तो किया गया सस्पेंड , October 09, 2020 at 06:26AM

कोंडागांव जिले के धनौरा थाना क्षेत्र के ओड़ागांव में सामूहिक दुष्कर्म और फिर पीड़िता के आत्महत्या करने के मामले में नया खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि मामले की जानकारी धनौरा पुलिस को थी।
सरपंच के मुताबिक तत्कालीन धनौरा थाना प्रभारी रमेश साेरी ने दो आरोपियों के रिश्तेदारों से मामले को दबाने की डिलिंग पक्की कर ली थी, लेकिन मोटी रकम मांगे जाने के बाद अचानक समझौता रद्द हो गया। यह खुलासा गुरुवार को पीड़िता के गांव की सरपंच ने किया है। ओड़ागांव की सरपंच संगीता नाग ने दावा किया कि दुष्कर्म की घटना के बाद पीड़िता ने आत्महत्या कर ली थी। इसके 15 दिनों के बाद मामले को लेकर दो आरोपियों के परिजनों को पूछताछ के लिए थाना बुलाया गया था। इस दौरान थाने में मैं और गांव के कुछ अन्य लोग भी मौजूद थे। इसी बीच आरोपियों के परिजनों और थाना प्रभारी के बीच लेन-देन की बात हुई थी और मामले को दबाने के लिए डील पक्की हो गई थी हालांकि बाद में थाना प्रभारी द्वारा बड़ी रकम मांगे जाने के कारण डील पक्की नहीं हो पाई।

आरोपी के पिता ने पुलिस से सांठगांठ की बात मानी
दुष्कर्म के मामले में आरोपी बनाये गये नाबालिग के पिता ने भी दावा किया कि मामले में उनके बेटे को फंसाया जा रहा है। इस मामले में दो मुख्य आरोपियों के परिजनों ने धनौरा थाना प्रभारी से डीलिंग की थी बाद में डील शायद पक्की नहीं हुई। उन्होंने दावा किया कि पुलिस को पता था कि युवती के साथ दुष्कर्म की घटना हुई है और इसके बाद ही उसने आत्महत्या की है।

युवती के शव को पीएम के लिए मेकाॅज भेजा
युवती के शव को बुधवार को ही कब्र से निकाल लिया गया था इसके बाद शव का पीएम गुरूवार को मेकाज के फारेंसिक डिपार्टमेंट के डाॅक्टरों ने किया है। इस गंभीर मामले में खास बात यह है कि युवती के पीएम के संबंध में कोई भी अधिकारिक जानकारी हाॅस्पिटल अधीक्षक डॉ केएल आजाद के पास नहीं है। इतने गंभीर मामले में कौन से डाॅक्टर पीएम कर रहे हैं, कितने सदस्यों की टीम से पीएम करवाया जा रहा है जैसी कोई जानकारी उन्हें नहीं है। डॉ. आजाद ने बताया कि युवती के शव के पीएम की मौखिक जानकारी उनके पास है लिखित में कोई जानकारी उन्हें दी गई है।

पिता के आत्महत्या के प्रयास से खुला मामला
कोंडागांव जिले के धनौरा थाना क्षेत्र के ओड़ागांव में रहने वाली युवती तीन महीने पहले अपने मामा के घर शादी समारोह में शामिल होने गई थी। युवती के साथ उसकी सहेली भी थी। शादी समारोह में दोनों देर रात तक परिवार के सदस्यों के साथ नाच-गाना करती रहीं। इसके बाद करीब सात युवकों ने युवती को अपने साथ जंगल की ओर उठा ले गये शेष|पेज 8
वहां से जब युवती लौटी तो वह लहूलुहान हालत में थी। आते ही उसने अपनी सहेली को बताया कि उसके साथ गैंग रेप किया गया है। इसके बाद युवती अपने घर लौट आई और दो दिनों बाद उसने आत्महत्या कर ली। घटना के बाद युवती के परिजन पुलिस के चक्कर लगाते रहे लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं हुई। इस बीच तीन दिन पहले युवती के पिता ने भी आत्महत्या की कोशिश की तो मामला फूट गया। पिता का कहना था कि वह अपनी बेटी को न्याय नहीं दिला पा रहे थे ऐसे में वे आत्महत्या करने जा रहे थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कोंडागांव में लोग पुलिस प्रशासन से नाराज हैं, खिलाफ में प्रदर्शन हुए।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30KPB1e

0 komentar