कांग्रेस से ध्रुव या अजीत होंगे चेहरा, चार नामों का पैनल दिल्ली भेजा, भाजपा से गंभीर सिंह या उइके होंगे उम्मीदवार , October 10, 2020 at 06:50AM

मरवाही विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस से डॉ.कृष्ण कुमार ध्रुव और अजीत सिंह श्याम में से कोई एक प्रत्याशी होगा जबकि भाजपा की ओर से डाॅ. गंभीर सिंह और रामदयाल उइके में से पार्टी किसी एक को टिकट दे सकती है। हालांकि दोनों ही दलों की ओर से चार-चार नामों का पैनल दिल्ली भेजा गया है। जहां से एक-दो दिन में दोनों ही दलों के प्रत्याशियों के नाम घोषित हो जाएंगे। मरवाही विधानसभा उपचुनाव के लिए प्रदेश कांग्रेस चुनाव समिति की बैठक में 10 नाम चर्चा के लिए रखे गए थे। लेकिन अधिकांश नामों पर चर्चा ही नहीं की गई।

प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया और सीएम भूपेश बघेल की मौजूदगी में हुई प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में दावेदारों के नामों पर चर्चा के बाद चार नामों का पैनल तैयार किया गया है। जिन लोगों के नाम पैनल में हैं उनमें डाॅ. केके ध्रुव, अजीत सिंह श्याम, गुलाब सिंह राज और प्रमोद परस्ते शामिल हैं। वहीं भाजपा चुनाव समिति की बैठक मे डॉ.गंभीर सिंह, रामदयाल उइके, समीरा पैंकरा और अर्चना पोर्ते के नामों का पैनल बनाकर दिल्ली भेजा गया है।


लगभग दो घंटे तक चली प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में 10 दावेदारों के नाम चर्चा के लिए रखे गए थे, लेकिन चर्चा के दौरान डाॅ. केके ध्रुव का नाम पहले नंबर पर रखा गया है। वह पिछले 20 साल से उस क्षेत्र में बीएमओ के रूप में काम कर रहे हैं। लाेगों से सीधे जुड़ाव होने के साथ-साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पसंद भी मानी जा रही है। ध्रुव पार्टी के लिए भले ही नया चेहरा होंगे लेकिन क्षेत्र के लिए जाना-पहचाना नाम है। वहीं अजीत सिंह श्याम का नाम दूसरे नंबर पर है, जो लगातार चार कार्यकाल से सरपंच रहे हैं।
दरअसल एक दिन पहले ही सीएम हाउस में मरवाही विधानसभा उपचुनाव से सात दावेदारों को मिलने बुलाया गया था। पीसीसी चीफ मोहन मरकाम की मौजूदगी में हुई इस बैठक में डा. केके ध्रुव और अजीत सिंह श्याम के नाम को लेकर अन्य दावेदारों के बीच सहमति बनाई गई थी। उन्हें यह भी कहा गया था कि इनमें से जो भी कांग्रेस का प्रत्याशी होगा, उसके लिए सभी को मिलकर काम करना होगा। ज्ञात हो कि मरवाही सीट पर 9 अक्टूबर से नामांकन प्रक्रिया शुरु हो गई है। यहां पर 3 नवंबर को मतदान होना है।

चुनाव लड़ने से नहीं रोक रही सरकार
सीएम ने अमित के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि सरकार किसी को भी चुनाव लड़ने से नहीं रोक रही है। जिसके पास दस्तावेज होगा वह चुनाव लड़ सकता है। रेणु जोगी द्वारा अमेठी व रायबरेली की तरह मरवाही सीट छोड़ने की बात पर सीएम ने कहा कि राजेन्द्र शुक्ल की परंपरागत सीट पर जब खुद चुनाव लड़ीं थीं, तब उन्हें यह बात याद नहीं आई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मौजूदगी में जोगी कांग्रेस के तीन बड़े नेताओं ने कांग्रेस प्रवेश किया।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/34KB2fg

0 komentar