44 दिन में दोगुना हुए मरीज, प्रदेश में 1375 नए कोरोना संक्रमित मिले, 13 मौतें भी , November 09, 2020 at 05:51AM

छत्तीसगढ़ में रविवार को 1375 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। इस बीच 13 मरीजों की मौत भी हुई है। इस नए आंकड़े के साथ प्रदेश में कोरोना के मरीज 2 लाख पार होकर 2,00,937 पहुंच गई है। 18 मार्च को कोरोना का पहला केस मिला और 8 नवंबर को कोरोना मरीजों की संख्या 2 लाख के पार हो गई है। एक लाख मरीज 26 सितंबर को हुए थे। अर्थात, सिर्फ 44 दिन में 1 लाख केस और मिले तथा मरीजों की संख्या दोगुनी हो गई। ये 2 लाख मरीज 19 लाख से ज्यादा (आबादी का 7 प्रतिशत) लोगों की जांच के बाद सामने आए। अर्थात, हर 10 लाख की आबादी में 7 हजार से ज्यादा संक्रमित निकल रहे हैं। 2 लाख मरीजों में से करीब सवा 3 सौ अन्य राज्यों के हैं।

कोरोना से ठीक होने वाले भी 20 दिन में दो लाख के पार
मरीजों की संख्या 2 लाख के पार होने के साथ-साथ बड़ी राहत यह भी है कि प्रदेश में अगले 20 दिन में ऐसे लोगों की संख्या भी 2 लाख के पार हो जाएगी, जो कोरोना से संक्रमित होने के बाद ठीक भी हो गए। इनमें से 1 लाख लोगों ने तो घरों में इलाज करवाकर (होम आइसोलेशन) कोरोना को मात दी। शेष|पेज 6

अब तक 1.74 लाख लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं। रोजाना 800 से 900 लोग होम आइसोलेशन
और लगभग ढाई सौ मरीज ठीक होने के बाद अस्पतालों से डिस्चार्ज किए जा रहे हैं।


मरीजों की वृद्धि दर भी 1 प्रतिशत से कम हुई
छत्तीसगढ़ के लिए एक बड़ी राहत की बात ये भी है कि प्रदेश में अब संक्रमण की वृद्धि दर एक फीसदी से भी कम होकर 0.9 प्रतिशत पर आ गई है। बीते पांच महीनों में पहली बार ये स्थिति बनी है। एक्टिव मरीजों का प्रतिशत भी अब 11.7 प्रतिशत पर स्थिर बना हुआ है।

डरिए नहीं, अनुशासन में रहिए इन्होंने भी कोरोना से जंग जीती है
97 साल के बुजुर्ग की पाॅजिटिविटी से कोरोना हारा
बिलासपुर|
शहर में 10 दिनों तक कोरोना संक्रमण से लड़ने के बाद 97 साल के लोरिक राम ध्रुव अब पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं। इन्हें पहले से ही शुगर व बीपी था। इलाज के साथ व्यायाम और उनकी सकारात्मक सोच ने जिंदगी की इस लड़ाई में उन्हें विजेता बनाया है। जिले का पहला मामला था, जब इतनी उम्र के किसी मरीज ने कोरोना को हराया।

मां की हिम्मत से एक माह की मासूम उबरी
भिलाई|
दुर्ग के सिकोला भाटा में रहने वाली मां ने 1 माह की बच्ची को कोरोना के प्रकोप से बचा लिया है। 27 जुलाई को एक माह की मीनाक्षी कोरोना क चपेट में आई गई। मासूम की देखभाल और इलाज चैलेंज था, लेकिन मां ने डॉक्टरों को भरोसा दिया कि वह बेटी की देखभाल करेगी। रायपुर एम्स से 14 दिनों के इलाज के बाद वह स्वस्थ होकर घर लौट आई।

बच्चे के साथ संक्रमित मां 10 दिन रही, दोनों स्वस्थ
अंबिकापुर|
कोरोना पाॅजिटिव 25 वर्षीय गर्भवती महिला का इमरजेंसी में डाॅक्टरों ने ऑपरेशन कर प्रसव कराया। हालांकि नवजात की रिपोर्ट निगेटिव आई। कोविड वार्ड में नवजात बेटे को लेकर महिला 10 दिनों तक भर्ती रहीं। इस बीच मां ने कोरोना से जंग जीत ली। इसके बाद मां-बेटे की दोबारा कोरोना की जांच कराई गई, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई। मां के साथ रहने के बाद भी नवजात संक्रमित नहीं हुआ।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
धमतरी के स्वास्थ्यकेंद्र में सैंपल लेता स्वास्थयकर्मी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/32sy131

0 komentar