छत्तीसगढ़ पुलिस ने एक बर्खास्त एसआई, निलंबित एएसआई और कथित आरटीआई एक्टिविस्ट को पकड़ा , November 06, 2020 at 02:24PM

छत्तीसगढ़ में एंटी करप्शन ब्यूरो और आर्थिक अपराध शाखा के नाम पर सरकारी अधिकारियों से उगाही करने वाले एक आपराधिक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। इस गिरोह से जुड़े पुलिस के एक बर्खास्त उप निरीक्षक, एक सहायक उप निरीक्षक और एक कथित आरटीआई एक्टिविस्ट को गिरफ्तार किया गया है।

एसीबी-ईओडब्ल्यू के निदेशक और आईजी आरिफ एच शेख ने बताया, पुलिस के बर्खास्त एसआई सत्येंद्र सिंह वर्मा ने बलौदा बाजार के भाटापारा निवासी पटवारी को उसका एसीबी में चल रहा मामला खत्म करवाने के लिए पांच लाख रुपये मांगे थे।

उसका कहना था, वह एसीबी मुख्यालय से आया और आईजी आरिफ एच शेख के लिए काम करता है। पटवारी ने इसकी जानकारी एसीबी मुख्यालय को दे दी। भाटापारा थाने में भी इसकी रिपोर्ट लिखी गई। जांच के बाद पुलिस ने बर्खास्त एसआई सत्येंद्र सिंह वर्मा को गिरफ्तार कर लिया।

रायपुर जिला पुलिस से निलंबित चल रहे एएसआई विनोद वर्मा और उसके साथियों ने एक वन परिक्षेत्राधिकारी को निशाना बनाया। अधिकारी के खिलाफ ईओडब्ल्यू में आर्थिक अपराध की गंभीर शिकायत बताकर दबाव बनाया।

ईओडब्ल्यू के निदेशक और एसपी के लिए काम करने की बात कर वर्मा ने वन परिक्षेत्राधिकारी से 10 लाख रुपये लिए। पीड़ित अधिकारी ने ईओडब्ल्यू मुख्यालय में इसकी सूचना भी दी।

वन परिक्षेत्राधिकारी की सूचना पर रायपुर के टिकरापारा थाने में एफआईआर दर्ज हुई। विनोद वर्मा को भी बलौदा बाजार में गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस का कहना है, गिरोह में शामिल अन्य लोगों की भी तलाश की जा रही है। इसमें वन विभाग का एक बर्खास्त कर्मचारी भी शामिल है।

पहले आरटीआई से जानकारी ली, फिर बनाया उगाही का दबाव

एसीबी अधिकारियों ने बताया, रायपुर के राजेश तराटे ने खुद को आरटीआई एक्टिविस्ट और पत्रकार बताकर आरटीआई से अधिकारियों-कर्मचारियों के मामलों की जानकारी ली। उसके बाद उनके खिलाफ एसीबी-ईओडब्ल्यू में केस दर्ज कराने का भय दिखाकर वसूली शुरू की थी।

अधिकारियों ने बताया, राजेश तराटे ने एक एसडीओ और एक वनपाल पर दबाव बनाकर 10 हजार और 15 हजार रुपये की वसूली की गई थी। अधिक रकम के लिए वह दोनों पर दबाव बना रहा था।

ईओडब्ल्यू में सूचना देने के साथ ही पीड़ितों ने रायपुर के सिविल लाइन थाने में मामला दर्ज कराया। सिविल लाइन पुलिस ने दोनों शिकायतों के आधार पर तराटे को गिरफ्तार कर लिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
एसीबी-ईओडब्ल्यू के निदेशक आरिफ एच शेख के निर्देश पर एसपी पंकज चंद्रा ने इस गिरोह की जांच के लिए विशेष टीम बनाई थी। फाइल फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2IaTLsQ

0 komentar