क्वालिटी और रेट में गड़बड़ी मिलने पर फर्म को सील कर संचालक पर करें कड़ी कार्रवाई , November 10, 2020 at 06:25AM

राज्य में कीटनाशक दवाओं की क्वालिटी को लेकर लगातार मिल रही शिकायतों पर कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविंद्र चौबे ने नाराजगी जताते हुए कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अफसरों से दो टूक शब्दों में कहा कि किसी भी दुकान अथवा सप्लायर के यहां क्वालिटी एवं रेट में किसी भी तरह की गड़बड़ी मिलने पर संबंधित फर्म को सील करें और संचालक पर नियमानुसार कार्रवाई करें। साथ ही समितियों अथवा निजी विक्रेताओं द्वारा किसानों को दिए जाने वाले खाद, बीज एवं कृषि यंत्रों की गुणवत्ता पर कड़ी निगरानी रखें। मंत्री चौबे ने कहा कि राज्य में किसानों के हितों की अनदेखी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मंत्री चौबे ने राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम के संचालक मंडल की बैठक में ये बातें कही। उन्होंने कहा कि कृषि एवं उद्यानिकी विभाग की योजनाओं एवं कार्यक्रमों का लाभ हर हाल में किसानों को मिलना चाहिए। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। कृषि बीज की सतत खरीदी के लिए जरूरत के अनुसार बीज निगम की कैश क्रेडिट लिमिट में वृद्धि करने पर भी उन्होंने सहमति दी। मंत्री चौबे ने जिलों में स्थित बीज निगम के प्रक्रिया केन्द्रों के कामकाज की निगरानी एवं समन्वय के लिए संबंधित जिलों के उपसंचालक कृषि को जिम्मेदारी देने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि कृषि मौसम के अनुसार प्रत्येक फसलों के बीज का आंकलन एवं उसकी डिमांड तैयार करने की जिम्मेदारी कृषि विभाग की है। इसमें किसी भी तरह का विलंब नहीं होना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को समय से पूर्व समितियों में खाद बीज के भंडारण की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए कहा।

लैब और खेती की मशीन खरीदेंगे सीएसआर फंड से
कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र मर्रा के लैब उपकरणों और कृषि मशीनों की खरीदी प्रशिक्षण तथा मशरूम उत्पादन पर कृषकों को ट्रेनिंग सीएसआर फंड से दिया जाएगा। इसके लिए संचालक मंडल ने 71.20 लाख रुपए का अनुमोदन किया है। मंडल ने निगम के एग्रो प्रकोष्ठ की कार्य प्रणाली में बदलाव, बीज निगम के अफसरों और कर्मचारियों को वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए प्रोत्साहन राशि देने का भी निर्णय लिया। खरीफ व रबी सीजन पर भी चर्चा की गई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
रविंद्र चौबे (फाइल फोटो)।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2GLicNp

0 komentar