रायपुर में बाजार सजा, वॉच टावर से भीड़ की निगरानी शुरू ताकि कम किया जा सके संक्रमण का खतरा , November 12, 2020 at 01:10PM

रायपुर का बाजार अब पूरी तरह से दीवाली के रंग में रंगा नजर आ रहा है। फुटपाथ पर लगने वाले बाजार सज चुके हैं। मिट्‌टी के दीये, प्रतिमाएं, धान की बालियां बिक रही हैं। लोगों में इस बार छोटे दुकानदारों से खरीदारी करने की सोच विकसित हुई है। पीएम मोदी की अपील का असर लोगों में दिख रहा है। शहर में भीड़ बढ़ेगी इसलिए प्रशासन ने भी कुछ तैयारियां कर रखी हैं। अलग-अलग चौराहों पर वॉच टावर तैयार कर दिए गए हैं। इनमें बैठकर एनजीओ के लोग लोगों से मास्क लगाने की अपील कर रहे हैं।

पुरानी बस्ती, लाखे, महमाई पारा जैसे छोटे इलाकों के बाजार की रौनक भी कम नहीं है।

इन जगहों पर बने टावर
कलेक्टर एस भारती दासन के निर्देश के बाद अब नगर निगम व रायपुर स्मार्ट सिटी लि. ने टावर तैयार कर दिए हैं। इन टावर में बैठे समाजसेवी संस्थाओं के लोग यह देख रहे हैं कि किसने मास्क नहीं लगाया। फिर माइक से उस व्यक्ति को मास्क लगाने को कह रहे हैं। इस काम में 25 से भी अधिक एन.जी.ओ. अपनी सेवाएं दे रहे हैं। 14 प्रमुख जगहों पर टावर बने हैं। बूढ़ातालाब, कटोरा तालाब, सिटी कोतवाली, मालवीय रोड, रेलवे स्टेशन, डीडी नगर, सुंदर नगर, खमतराई, तेलीबांधा, पंडरी कपड़ा बाजार, बंजारी चौक, चिकनी मंदिर के पास, शास्त्री बाजार, एम.जी. रोड पर टावर बने हैं।

बूढ़ा तालाब में महिलाओं ने इस तरह से स्टॉल लगाए हैं, अपने हाथों से बनी चीजें बेच रही हैं।

लोकल हो रहा वोकल
बूढ़ातालाब के किनारे शहर में स्व-सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा तैयार उत्पादों को बेचने लगाए स्टॉल लगाए गए हैं। सीएम भूपेश बघेल ने भी यहां से तीन दिन पहले शॉपिंग की है। और लोगों से भी छोटे और स्थानीय कारिगरों को रोजगार देने के मकसद से इनसे खरीदारी करने को कहा है। यहां घरों में पूजा के काम आने वाली गोबर और मिट्टी से बनी चीजें, सजावटी सामान, हर्बल प्रोडक्ट, नमकीन और चटपटे स्वाद वाले मिक्चर, पकवान, आचार, के साथ ही यहां मिठाइयां, बिस्कुट, केक, कुकीज, पेटीज मिल रही हैं।

तस्वीर रायपुर के आमापारा इलाके की है, कोविड काल में ये रंगत दीवाली की वजह से।


गुरुवार रात से शुक्रवार देर रात खुले रहेंगे बाजार
आम तौर पर धनतेरस के दिन सुबह से ही बाजार में खरीदारी शुरू हो जाती है। मगर गुरुवार को ऐसा नहीं हुआ। हालांकि बाजार पूरी तरह से तैयार है। गोल बाजार, एमजी रोड, मालवीय रोड, बंजारी रोड जैसे बाजारों में दुकान दारों ने अलग स्टॉल सजा रखें हैं। जिला प्रशासन ने सभी को नो मास्क नो सामान के नियम का पालन करने को कहा है। व्यापारिक संगठनों ने तय किया है कि यदि लोग मास्क लगाकर नहीं आते तो उन्हें मुफ्त में मास्क भी देंगे।

फोटो रायपुर के जीई रोड की। सजावटी सामानों को लेकर लोगों में अच्छा खास क्रेज है।

इस बार ज्योतिष के अनुसार शुक्रवार को शाम 6 बजे के बाद धनतेरस की पूजा करना शास्त्रों की दृष्टि से सही होगा। धनतेरस का समय गुरुवार रात 9.30 बजे ही शुरू हो रहा है। अगले दिन शनिवार को सुबह रूप चौदस और शाम को दीपावली मनाई जाएगी। ज्योतिषाचार्य डॉ. दत्तात्रेय होस्केरे ने बताया कि धनतेरस त्रयोदशी का व्रत है। गुरुवार, यानी 12 नवंबर को चुंकि रात 9.30 बजे तक द्वादशी तिथि है। इसीलिए गुरुवार को दिन धनतेरस की पूजा नहीं की जा सकती लेकिन 13 नवंबर शुक्रवार को शाम को 5.59 बजे तक त्रयोदशी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो रायपुर के शारदा चौक की है। इस तरह के एक दर्जन टावर शहर भर में बने हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/35ngtqY

0 komentar