आईपीएस राहुल शर्मा खुदकुशी कांड की फिर से जांच करायेगी छत्तीसगढ़ सरकार, सीबीआई लगा चुकी है क्लोजर , November 14, 2020 at 06:41AM

छत्तीसगढ़ सरकार एक और पुरानी फाइल खोलने जा रही है। सरकार ने आईपीएस राहुल शर्मा आत्महत्या मामले की जांच कराने का फैसला लिया है। जेल महानिदेशक संजय पिल्लै की अगुवाई में एक जांच समिति बनाई गई है। इसमें आईजी दीपांशु काबरा, आईजी रतनलाल डांगी, एसपी प्रशांत अग्रवाल और एएसपी अर्चना झा को भी शामिल किया गया है।

2002 बैच के आईपीएस अधिकारी राहुल शर्मा का शव 12 मार्च 2012 को बिलासपुर पुलिस ऑफिसर्स मेस में पाया गया था। पुलिस ने कहा, उन्होंने अपनी सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली थी।

एक सप्ताह पहले ही उन्हें बिलासपुर का एसपी बनाकर भेजा गया था। उनकी आत्महत्या के बाद पुलिस और प्रशासनिक हलके में हड़कंप की स्थिति बनी थी। एक वरिष्ठ आईपीएस और न्यायिक सेवा के एक अधिकारी पर उंगली भी उठी। हंगामा बढ़ता देखकर तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी। कई वर्षों की जांच के बाद भी सीबीआई किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई। उसके बाद सीबीआई ने क्लोजर रिपोर्ट लगा दिया। 2018 में सरकार बदलने के बाद से ही आईपीएस राहुल शर्मा आत्महत्या मामले की जांच की मांग फिर से उठने लगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने खुद इस मामले की जांच कराने के संकेत दिये थे।

सुसाइड लेटर: इस घटना के बाद हुई जांच में राहुल शर्मा के पास से एक पत्र मिला था, जिसे पुलिस ने सुसाइड लेटर माना था। इसमें आत्महत्या से पहले के दो दिनों में राहुल शर्मा की जिन जिन अफसरों और लोगों से बात हुई इसका उल्लेख है। इनमें एक सीनियर आईपीएस और ज्युडिशियरी से जुड़े नाम भी हैं।

जीपी सिंह पर लगे थे आरोप: इस मामले की जांच में सीबीआई ने किसी को दोषी नहीं ठहराया था लेकिन राहुल शर्मा को आत्महत्या की नौबत तक प्रताड़ित करने का आरोप उस समय के रेंज आईजी जीपी सिंह पर लगे थे। पिछले कुछ महीनों से इस बात की चर्चा थी कि इस मामले की फाइल फिर खुलने वाली है।

इन तथ्यों पर होगी जांच : गृह विभाग के उप सचिव मुकुंद गजभिये ने जांच कमेटी के गठन को लेकर शुक्रवार को आदेश जारी किया। इसमें कहा गया है कि सीबीआई द्वारा प्रेषित रिपोर्ट में उल्लेखित सेल्फ कंटेंड नोट के हवाले से जांच कमेटी बनाई गई है। यह कमेटी इस रिपोर्ट के पैरा 6 से 17 के संबंध में विस्तृत जांच करेगी।

आफिसर्स मेस में सर पर मार ली थी गोली
आईपीएस राहुल शर्मा ने 12 मार्च 2012 काे आत्महत्या की थी। उसी साल 6 जनवरी को उनका तबादला बिलासपुर हुआ था। उनका शव आफिसर्स मेस में मिला था। आफिसर्स मेस में रह रहे उनके गनमैन ने नाश्ते के लिए पूछा तो उन्होंने बाद में करने की बात कहकर टाल दी। दोपहर में जब गनमैन लंच के लिए उनके कमरे में पहुंचा तो राहुल शर्मा का शव पड़ा था। इसके बाद उनके शव का सिम्स बिलासपुर में पोस्टमार्टम किया गया। पीएम रिपोर्ट के हवाले से पुलिस ने बताया था कि राहुल ने अपनी सर्विस रिवाल्वर से गोली मार ली।





Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
आईपीएस राहुल शर्मा नक्सल विरोधी मोर्चे पर भी तैनात रह चुके थे। फाइल फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2UoJqfT

0 komentar