बिलखते हुए घरवाले बोले- हमें परेशानी बताते तो हम मदद करते, पूरे परिवार को जहर देकर मार दिया, आखिर ऐसी क्या वजह रही होगी , November 17, 2020 at 04:02PM

रायपुर से लगे अभनपुर के केंद्री गांव के हत्याकांड में वजह अब तक साफ नहीं हो सकी है। मृतकों के परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। दरअसल यहां रहने वाले 32 साल के कमलेश साहू ने अपनी पत्नी, दो बच्चों और मां की हत्या के बाद फांसी लगा ली। मीडिया से बात करते हुए कमलेश के रिश्तेदार यही कहते दिखे की परिवार की किसी से दुश्मनी नहीं थी, किसी तरह की आर्थिक परेशानी भी नहीं थी। कोई बात होती और हमसे कहते तो हम मदद करते मगर अब कुछ नहीं बचा। कमलेश के भाई का घर भी बगल में है। उसने बताया कि किसी तरह के विवाद या झगड़े की कोई जानकारी नहीं थी। तीन दिन पहले सभी ने मिलकर दीपावली मनाई और अब इस तरह से सभी की मौत की वजह से हमें भी कुछ समझ नहीं आ रहा।

सुबह जब पानी बहने लगा तो पता चला

आस-पास रहने वाले रिश्तेदारों को जब घटना को पता चला, भागकर सभी मृतकों के घर पहुंचे।


कमलेश के घर पर सुबह नल से पानी बह रहा था। पड़ोस में रहने वाली एक महिला ने कमलेश की पत्नी को आवाज दी। टंकी से पानी ओवरफ्लो हो रहा था। काफी देर तक आवाज देने के बाद भी कोई बाहर नहीं आया। महिला ने अंदर की ओर खिड़की से झांक कर देखा तो कमलेश का शव दिखा। इसके बाद घटना की सूचना गांव की सरपंच को दी गई। सरपंच ने बताया कि मैंने भी कमलेश के शव को देखा और पुलिस को जानकारी दी। कमरा खुलने पर सभी घरवालों की लाशें मिली।



नींद में ही परिवार के लोगों की मौत होने की आशंका

कमरे के अंदर इस तरह कमलेश की मां और बच्चे मृत पाए गए।


इस पूरे केस में अब तक कुछ भी साफ नहीं हो सका है। ना ही घटना के कारण और ना ही हत्या का तरीका। फिलहाल शवों को जांच के लिए रायपुर भेजा गया है। पोस्टमार्टम के बाद ही कुछ और बातें सामने आएंगी। फिलहाल यह देखने में आया कि बच्चों के मुंह से झाग निकल रहा है। शवों की स्थिति को देकर अनुमान लगाया गया कि रात के खाने में कमलेश ने परिवार के लोगों को कुछ मिलाकर खिला दिया और खुद फांसी लगा ली होगी। जहर के असर से बूढ़ी मां, पत्नी और दो बच्चे नींद में ही मर गए।
घटना स्थल पर मारपीट या किसी तरह के संघर्ष के कोई निशान नहीं है। शव बिस्तर पर थे और शरीर पर कंबल चढ़ा हुआ था।


पत्नी के पैर में सूजन थी, मां भी बीमार

परिवार के लोग घटना के बाद बेहद दुखी हैं, तीन दिन पहले ही सभी ने साथ में दीपावली मनाई थी।


कमलेश की पत्नी के पैरों में सूजन थी। बावजूद इसके वो काम पर जाया करती थी। वह मजदूरी करती थी। कमलेश वेल्डिंग का काम किया करता था। परिवार में पैसों को लेकर इस तरह की कोई तंगी नहीं थी जिसकी वजह से यह घटना हुई हो। किसी बड़े कर्ज की बात से भी परिवार के लोगों ने इंकार किया। घर पर एक कागज का टुकड़ा मिला है जो कि किसी डॉक्टर की स्लिप है। यह साफ नहीं हो सका है कि इलाज किसका चल रहा था। कमलेश की मां भी पिछले कई दिनों से बीमार थी। फॉरेंसिक टीम इस गुत्थी को सुलझाने और सबूत इकट्‌ठा करने का काम कर रही है।


हत्या का मामला नहीं

इसी खिड़की से देखने पर घर में हुए हत्याकांड के बारे में लोगों को पता चला, फिर पुलिस आइ।


अब तक हुई जांच में पुलिस को किसी तरह का कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। ssp अजय यादव ने इस बात की पुष्टि की है कि मामला बाहरी व्यक्ति द्वारा पूरे परिवार की हत्या का नहीं हैं। कमलेश ने ही अपने 4 घरवालों की जान ली और खुदकुशी की है। कमलेश के बड़े भाई ने भी साफ कहा है कि कमलेश का किसी के साथ कोई झगड़ा नहीं था किसी से दुश्मनी नहीं थी। इसलिए यह हत्या का मामला तो नहीं है, मगर इस तरह सभी की जान लेकर कमलेश ने भी जान दे दी यह समझ से अब तक परे है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फोटो केंद्री गांव में घटना स्थल पर मौजूद मृतक के परिजन की है। त्योहार की खुमारी में पूरा गांव छुट्‌टी मना रहा था, लोगों के घर रिश्तेदार आए हुए थे, इस बीच मौत की त्रासद खबर ने सभी को झकझोर कर रख दिया।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3kE9E8S

0 komentar