महापौर का पहला बजट आज, नगर घड़ी, बाईपास बेरोजगारों को दुकानें और एसटीपी प्लांट मिलेगा , November 26, 2020 at 04:00AM

नगर निगम की नई टीम का पहला बजट गुरुवार को पेश किया जाएगा। उम्मीद की जा रही है कि इस बजट में संपत्तिकर को आधा करने, गरीबों को मुफ्त में पानी देने का संकल्प लाया जाएगा और बेरोजगारों, महिलाओं, मुसाफिरों, गुमटियां चलाने वालों से लेकर हर वर्ग का ख्याल रखा जाएगा। बजट में नगर घड़ी, बाईपास बेरोजगारों को दुकानें और एसटीपी प्लांट मिलेगा।
ऐसा माना जा रहा है कि महापौर सफीरा साहू तीन अरब रुपए से ज्यादा का अपना पहला बजट पेश करेंगी। बजट सत्र से पहले सामान्य सभा होगी। इसके बाद प्रश्नकाल और फिर महापौर बजट पेश करेंगी। यह बजट लाभ का बजट होगा। निगम की नई टीम की यह दूसरी सामान्य सभा और पहला बजट है। सभापति कविता साहू ने कहा कि कोशिश कर रहे हैं कि सदन में सभी को बोलने और अपनी बात रखने का मौका मिलेगा।

विपक्ष ने गिरा दिया पिछला बजट पर अब स्थिति उलट
निगम का आखिरी बजट महापौर जतिन जायसवाल ने सदन में पेश किया था लेकिन उस समय इस बजट को शहर हित का न बताते हुए भाजपा पार्षदों ने संख्या बल के आधार पर गिरा दिया था। इसके बाद बजट को राज्य शासन के पास अनुमोदन के लिए भेजना पड़ गया था उस दौरान निगम के 48 पार्षदों में 34 भाजपा और कांग्रेस के पास 14 पार्षद थे। कांग्रेसी पार्षद मनीषा साव के इस्तीफे के बाद कांग्रेस पार्षदों की संख्या 13 ही बची थी। सदन में महापौर को अपना बजट बचाने के लिए कम से कम 2 तिहाई यानि 17 मतों की जरूरत थी। ऐसे में भाजपा पार्षदों ने संख्या बल के आधार पर बजट को गिरा दिया था। लेकिन इस बार कांग्रेस के पास 29 पार्षद और भाजपा के पास 19 पार्षद हैं।

पहले बजट में शहर की जनता को ये सब मिल सकता है

  • आवासीय और व्यवसायिक भवनों का संपत्ति कर 50 फीसदी कम करने का प्रस्ताव शासन को प्रेषित करने की अनुशंसा।
  • बीपीएल परिवारों को जल कर मुक्त करने सरकार को प्रस्ताव भेजने की अनुशंसा।
  • निगम के प्लेसमेंट सभी कर्मचारियों के नियमितीकरण के लिए सरकार को प्रस्ताव।
  • सामाजिक व सार्वजनिक मांगलिक भवन के निर्माण के लिए 255.56 लाख का प्रावधान।
  • शहर से निकलने वाले गंदे पानी के निदान के लिए एसटीपी प्लांट के निर्माण के लिए बजट में प्रावधान।
  • राज्य शहरी विकास अभिकरण के माध्यम से शहर की महिलाओं को व्यवसायिक प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार को प्रस्ताव।
  • झुग्गी बस्ती में निवास करने वाले लोगों को निवास अधिकार देने सरकार को भेजे गये प्रस्ताव पर चर्चा।
  • बेरोजगारों को गुमटी देने बजट का प्रावधान।
  • निकाय की स्वास्थ्य व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने के उद्देश्य से जेसीबी, पोकलेन मशीनें और ट्रक-टिप्पर खरीदने बजट का प्रावधान।
  • शहर के पास मारेंगा बाईपास में ट्रांसपोर्ट शहर स्थापित करने इस बजट का प्रावधान।
  • शहर के विभिन्न मुक्तिधाम और कब्रिस्तान के विकास और उन्नयन के बजट का प्रावधान।
  • कुशाभाऊ ठाकरे नया बस स्टैंड के विकास और उन्नयन, नवीनीकरण के बजट का प्रावधान।
  • शहर के अधोसंरचना विकास और मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने सड़क, नाली, पुल-पुलिया आदि निर्माण कार्यों के लिए लगभग 50 करोड़ का प्रावधान।
  • संजय बाजार को एक बहुद्देशीय व्यवसायिक परिसर के रूप में विकसित करने और शहर में व्यवसायिक परिसरों के निर्माण के लिए इस बजट में प्रावधान।
  • बेरोजगार युवकों के लिए मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के तहत 600 दुकानों का निर्माण किए जाने का प्रावधान।
  • निगम के रिक्त राजस्व और नजूल स्थानों का चिह्नांकन कर मास्टरप्लान के तहत विशिष्ट बाजारों जैसे एसी-नॉनवेज मार्केट इत्यादि का निर्माण किए जाने का प्रस्ताव।
  • शहर के ड्रेनेज सिस्टम के लिए सरकार को बड़े नालों के निर्माण के लिए बजट का प्रावधान रखा जा सकता है।

सदन में नेता प्रतिपक्ष के आने पर संशय
इधर नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष संजय पांडे के बजट सत्र पर मौजूदगी पर संशय बना हुआ है दरअसल हाल ही में उनके हाथ का ऑपरेशन हुआ है। ऐसे में वे रेस्ट पर हैं। ऐसे में उनके सदन में आने पर संशय है। यदि वे सदन में आ भी जाते हैं तो कुछ ही समय मौजूद रहेंगे।

सभा में किसी का भी कोरोना चेक नहीं होगा
इधर बजट सत्र से पहले कुछ लोगों ने शहर में अफवाह फैला दी कि बजट सत्र में शामिल होने वाले पार्षदों, पत्रकारों का कोरोना टेस्ट अनिवार्य रूप से किया जाएगा। महापौर सफीरा साहू और सभापति कविता साहू ने बताया कि ऐसा कोई निर्णय निगम की ओर से नहीं हुआ है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2V4H9Hc

0 komentar