कार्ड भेजने के बाद फोन कर कह रहे कि बुजुर्ग अपने घर से ही दें आशीर्वाद, कोरोना से बचें , November 26, 2020 at 05:49AM

तारा परसवानी | कोरोनाकाल में विवाह को लेकर बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पिछले कुछ दिनों में जब छूट मिली तो बहुत से लोगों को लगा कि सब सामान्य होने लगा है, लेकिन कोरोना बढ़ने के कारण अब फिर से सख्ती हो रही है और जिन्होंने शादियों के कार्ड बांट दिए हैं, वे फोन करके कह रहे हैं कि आप घर से ही आशीर्वाद दें। सिर्फ बलौदाबाजार जिले में करीब 10 हजार शादियां होनी है, लेकिन कोरोना के कारण शादी के कार्यक्रम सीमित कर रहे हैं। दोनों पक्षों से 100 ही मेहमान बुलाने हैं, इसलिए बुजुर्गों से भी विनती की जा रही है कि वे घर पर ही रहें।
बलौदाबाजार के वार्ड क्रमांक 06 निवासी राजेन्द्र सैनी की बेटी की शादी 29 नवंबर को होनी है। शादी में ज्यादा भीड़ एकत्रित न हो, इसलिए कार्यक्रमों में बदलाव करना पड़ा। शादी वाले दिन चाक-भात का कार्यक्रम था। जिसे एक दिन पहले 28 नवंबर को किया। शादी वाले दिन शाम को भीड़ न हो, इसलिए मेहमानों से अपील की गई कि वे दिन में ही आएं।
इसी तरह वार्ड क्र.19 में रहने वाले प्रकाश वर्मा बताते हैं कि उनकी बेटी की 27 नवंबर को शादी है। 90 लोगों की ही लिस्ट तैयार की है। पहले दूर दराज के रिश्तेदारों को भी आने के लिए कहा था, लेकिन अब उनसे आग्रह किया है कि वे घर से ही आशीर्वाद दें। शहर के वार्ड क्र.14 निवासी भानू भतपहरी की दो बेटियों की शादी 27 नवंबर को है। बारात को रुकवाने के लिए होटल में 9 कमरे बुक किये थे। अब होटल की जगह मोहल्ले में ही निजी मकान में बारात को ठहराने की व्यवस्था की है। कैटरिन वाले को भी कहा है कि अब केवल 100 ही लोगों का खाना बनाना है। शहर के गौरव पथ निवासी प्रभु दिनकर अपने बेटे की शादी कर रहे हैं। प्रभु किसी कानूनी चक्कर में नहीं पड़ना चाहते। इसलिए परिवार के ही गिने चुने सदस्यों को बुलाया है। बाकी सभी से फोनकर शादी में ना बुला पाने की मजबूरी बता रहे हैं और आशीर्वाद देने का निवेदन कर रहे हैं। इसी प्रकार सिविल लाइन के सुनील भारद्वाज अपने दो भाइयों की शादी एक साथ ही कर रहे हैं। वे कार्ड पहले ही बांट चुके हैं, लेकिन अब लोगों को फोन कर निवेदन कर रहे हैं कि एक घर से एक ही सदस्य पधारे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फाइल फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3fCxjp6

0 komentar