रॉग साइड पर चल रहा ट्रेलर तीन घरों की दीवारें तोड़ जा धंसा, अंदर सो रहे 12 लोगों की बची जान , December 18, 2020 at 05:39AM

खुर्सीपार थाना क्षेत्र के डबरा पारा स्थित ट्रांसपोर्ट नगर में बुधवार की देर रात 12 बजे रॉग साइड पर चल रहा ट्रेलर अनियंत्रित होकर दो मकानों के अंदर घुस गया। घटना समय 2 बच्चे सहित 12 लोग घर के अंदर सो रहे थे। हादसे में किसी को चोट नहीं आई है, लेकिन घटना के बाद बड़ी संख्या में भीड़ जुटी। घायल चालक को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
घटना के दौरान ट्रेलर केएस राव और पवन के मकान में घुसा। ट्रेलर के आगे का हिस्सा बिस्तर पर सो रहे राव से करीब 15 सेंटीमीटर पहले रुका। हादसे के बाद फंसे लोगों ने बाहर निकाला और एम्बुलेंस से इलाज के लिए भेजा गया। घटना के बाद गुरुवार की दोपहर 12 बजे स्थानीय लोगों ने हाईवे को जाम करने की भी कोशिश की। इसके चलते दोपहर 3 बजे तक आवागमन बाधित रहा।

  • 12 लोग घर के अंदर सो रहे थे जिसमें से 2 बच्चे भी शामिल थे।
  • 16 घंटे लगे ट्रेलर को बाहर निकालने में करनी पड़ी मशक्कत।
  • 03 घंटे चला चक्काजाम। कार्रवाई की चेतावनी पर फूटा आक्रोश।
  • 03 घरों को ट्रक ट्रेलर ने पहुंचाया नुकसान, आंखों में कटी प्रभावित परिवार की रात।
  • 36 टन से अधिक लोहे के एंगल लोड था ट्रेलर में, बड़ा हादसा टला।

पुलिस के जाते ही दोबारा किया चक्काजाम
गुरुवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे पुलिस चक्काजाम खत्म करने के बाद लौट गई। पुलिस के जाते ही दोबारा रहवासियों ने चक्काजाम कर दिया था। इस बार भी रहवासी अपनी मांग को लेकर डेढ़ घंटे तक चक्काजाम करके सड़क पर बैठे रहे। रहवासियों की मांग थी कि दुर्घटना से जो दो मकान में रहने वालों का नुकसान हुआ है। उसकी पूरी भरपाई ट्रेलर के मालिक द्वारा की जाए। इसके बाद चक्काजाम खत्म होगा। पुलिस के मुताबिक ट्रेलर के मालिक के मांग पूरी करने की शर्त पर चक्काजाम खत्म किया गया।

16 घंटे में हटा मकान में घुसा ट्रेलर: पुलिस को मकान में घुसे ट्रेलर को हटाने में कड़ी मशक्कत करना पड़ा। बुधवार रात 12 बजे ट्रेलर मकान में घुस गया था। इसके बाद गुरुवार सुबह करीब 4 बजे जेसीबी की माध्यम से ट्रेलर को हटाना शुरू किया गया। दोपहर करीब तीन बजे तक इसे हटाया जा सका।

बताया जा रहा ट्रक का चालक नशे में था

  • रात 12 बजे तीनों मकानों को ट्रेलर ने पहुंचाया नुकसान
  • रात 1 बजे रहवासियों ने घायल चालक को अस्पताल पहुंचाया
  • रात 2 बजे से सुबह 7 बजे तक घरों में रहने वाले लोग डरे सहमे घरों में रहे कैद
  • सुबह 8 बजे से घरों में कैद महिलाएं और बच्चे छत पर जाकर बैठ गए
  • 11 बजे तक मदद का इंतजार था।

ट्रेलर का टायर नाली में फंसा, इसलिए बच गए
रहवासियो के मुताबिक मकानों की दीवार तोड़कर ट्रेलर का अगला हिस्सा अंदर घुसकर रुक गया। अगर ट्रेलर का पहिया नाली में नहीं फंसता दो ट्रेलर मकान के अंदर सो रहे लोगों को कुचलने के बाद रुक पाता। ट्रेलर की टक्कर इतनी जोरदार थी,मानों लगा भूकंप आ गया हो।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ट्रेलर ने इस तरह घर को तहस-नहस कर दिया।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3p6oXtJ

0 komentar