125 फीट की ऊंचाई पर चालू लाइन में बेल्ट की सफाई कर रहे मजदूर की गिरकर मौत, निगरानी के लिए नहीं था कोई जिम्मेदार , December 21, 2020 at 06:05AM

एसईसीएल के अधिकारियों की लापरवाही और अनदेखी की वजह से हादसे कम नहीं हो रहे हैं। रविवार सुबह करीब 11:30 बजे दीपका क्षेत्र के साइलो के कन्वेयर बेल्ट लाइन में काम कर रहे ठेका मजदूर ग्राम चोढ़हा निवासी रामचंद्र की मौके पर ही मौत हो गई। जिसके बाद मजदूरों को गुस्सा भड़क गया। वे काम बंद कर एसईसीएल प्रबंधन और ठेका कंपनी के खिलाफ मुआवजा की मांग को लेकर हंगामा और प्रदर्शन करने लगे। इस हादसे में एसईसीएल प्रबंधन की घोर लापरवाही ये सामने आई है कि ठेका मजदूर को साइलो पर जहां 125 फीट की ऊंचाई पर काम कराया जा रहा था, इस दौरान कन्वेयर लाइन चालू थी, वहीं काम की निगरानी के लिए मौके पर एसईसीएल प्रबंधन का कोई जिम्मेदार अधिकारी भी नहीं था। घटना के दौरान जब मजदूर बेल्चा से कन्वेयर बेल्ट की सफाई कर रहा था वह इसी दौरान ऊंचाई से नीचे गिर गया। ऊंचाई से पीठ के बल गिरने की वजह से मजदूर की मौके पर मौत हो गई। एसईसीएल दीपका विस्तार परियोजना के जीएम शशांक कुमार देवांगन ने कहा कि घटना की जांच की जा रही है। नियमों के तहत मृतक के आश्रितों को मुआवजा दिया जाएगा। ठेका मजदूर एसईसीएल के अंतर्गत नियोजित रॉयल कंस्ट्रक्शन में कार्यरत था। किशोर नामक व्यक्ति फर्म का संचालक है।

मुआवजा और रोजगार के आश्वासन पर हुए शांत
दीपका क्षेत्र में हुई घटना में मजदूर की मौत से मजदूरों ने मुआवजा व अन्य मांग को लेकर हंगामा शुरू कर दिया। एसडीएम अभिषेक शर्मा के पहुंचने के बाद उन्होंने समझाइश दी और प्रबंधन के अधिकारियों की उपस्थिति में मुआवजा और अन्य मुद्दों पर सहमति बनी। कंपनी प्रावधान के अनुसार मृतक के आश्रित को 15 लाख रुपए ग्रुप इंश्योरेंस व कंपनसेशन एक्ट के तहत 12.93 लाख, कुल 27.93 लाख रुपए व 5 लाख रुपए की तात्कालीन सहायता दी गई है। मृतक के आश्रित को ठेका पर रोजगार देने पर भी सहमति बनी हुई है। इसके अलावा जिम्मेदारों पर कार्रवाई का भी आश्वासन दिया गया।

एसडीएम बोले- पहले सुरक्षा बेहतर करे प्रबंधन
कटघोरा एसडीएम अभिषेक शर्मा ने मौके का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि आरंभिक जांच में मौके पर कई सुरक्षा खामियां मिली है। इसको सुधारने के लिए एसईसीएल प्रबंधन को कहा गया है। जब तक कंपनी यहां सुरक्षा बेहतर करने के साथ सेफ्टी ऑडिट व जांच रिपोर्ट नहीं देती है तब तक यहां काम बंद रहेगा।

आईएसओ सेफ्टी और डीजीएमएस के अफसर पहुंचे
कुसमुंडा साइलो घटना की जांच के लिए एसईसीएल आईएसओ सेफ्टी के अधिकारी अजय तिवारी और खान सुरक्षा महानिदेशालय (डीजीएमएस)के अधिकारी प्रसाद कुसमुंडा पहुंचे। टीम जिम्मेदार अधिकारियों से मामले की जानकारी लेगी। डीजीएमएस ने ठेका कंपनी और एसईसीएल के जिम्मेदार अफसरों से घटना जानकारी ली।

पीएम के बाद परिजनों को सौंपा गया मजदूर का शव
कुसमुंडा साइलो में ऊंचाई से गिरकर मृत मजदूर विशंभर पटेल के शव का रविवार की दोपहर जिला अस्पताल में पीएम कराने के बाद परिजनों को सौंपा गया। घटना के बाद साइलों में काम करने वाले मजदूर ड्यूटी पर नहीं गए थे। मजदूरों ने बताया कि रविवार को हॉफ टाइम तक काम करते हैं। लेकिन दुर्घटना के चलते रविवार को कोई काम पर नहीं गया था।

इधर कुसमुंडा में जांच करने पहुंचे सेफ्टी बोर्ड मेंबर
कुसमुंडा के निर्माणाधीन साइलो में कन्वेयर बेल्ट लाइन से जुड़े कार्य के दौरान शनिवार की दोपहर हरदी बाजार निवासी विशंभर पटेल (30) की 150 फीट ऊंचाई से गिरकर मौत हो गई थी। रविवार को एसईसीएल सेफ्टी बोर्ड के सदस्य वीएम मनोहर, धर्माराव, गौरी प्रसाद अन्य सदस्यों के साथ हादसा स्थल का निरीक्षण किया। कर्मचारियों व मृतक के परिजनों से भी जानकारी ली। हादसे की जांच रिपोर्ट मैनेजमेंट को भेजी जाएगी। सेफ्टी बोर्ड ने भी अवलोकन में पाया है कि काफी ऊंचाई पर काम होने के बाद भी सेफ्टी नियमों की अनदेखी के चलते हादसा हुआ है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Death of the worker cleaning the belt in the current line at a height of 125 feet, no one was responsible for monitoring


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/34sfAfS

0 komentar