पुष्य नक्षत्र के साथ शुरू होगा नया साल, 2021 में खरीदारी के लिए 24 दिन शुभ , December 23, 2020 at 07:04AM

महामुहूर्त पुष्य नक्षत्र के साथ ही नए साल का शुभारंभ होगा। साल के पहले दिन 1 जनवरी काे पुष्य नक्षत्र है जो समृद्धि प्रदायक होता है। इस दिन किए सभी कार्य और खरीदी शुभ फलदायी होती है। खास बात यह है कि नए साल-2021 में दो दिन रवि और दो दिन गुरु पुष्य नक्षत्र के साथ ही कुल 24 दिन पुष्य नक्षत्र रहेगा। वर्तमान में खरमास (मलमास) चल रहा है, जिसके चलते विवाह आदि मांगलिक कार्य बंद हैं। पुष्य नक्षत्र इसे छोड़ अन्य शुभ कार्यों और खरीदारी के लिए श्रेष्ठ होता है। ज्योतिषाचार्य डाॅ. दत्तात्रेय होस्केरे ने बताया कि इस साल के अंतिम दिन 31 दिसंबर को गुरु पुष्य योग रहेगा और इसके बाद आगामी नववर्ष-2021 की शुरुआत एक जनवरी को पुष्य नक्षत्र के योग में ही होगी। अर्थात जिस शुभ महामुहूर्त में वर्ष 2020 का समापन होगा उस दिन से लेकर नववर्ष-2021 के पहले दिन तक पुष्य नक्षत्र का संयोग रहेगा। जो सूर्योदय से प्रारंभ होने के कारण सभी के लिए कल्याणकारी रहेगा।

2021 में इन दिनों में रहेगा पुष्य नक्षत्र का योग
1 व 28 जनवरी (गुरु पुष्य), 24, 25 फरवरी (बुध-गुरु पुष्य), 23, 24 मार्च (मंगल-बुध पुष्य), 20 अप्रैल (मंगल पुष्य), 17,18 मई (सोम-मंगल पुष्य), 13,14 जून (रवि-सोम पुष्य), 10,11 जुलाई (शनि-रवि पुष्य), 7, 8 अगस्त (शनि-रवि पुष्य), 3, 4सिंतबर (शुक्र-शनि पुष्य) व 30 सितंबर (गुरु पुष्य), 28, 29 अक्टूबर (गुरु-शुक्र पुष्य), 24, 25 नवंबर (बुध-गुरु पुष्य) व 20, 21 दिसंबर को (सोम-मंगल पुष्य) पुष्य नक्षत्र योग रहेगा।
27 दिन के अंतराल में आता है, कई बार दो दिन भी
ज्योतिषियों के मुताबिक, पुष्य नक्षत्र को सभी 27 नक्षत्रों का राजा माना जाता है। साल के 365 दिनों में यह हर 27 दिन के अंतराल में आता है। प्रतिवर्ष 13 से 14 दिन पुष्य नक्षत्र का योग रहता है। इसके अलावा कई बार घटी-पल कम-ज्यादा होने के कारण अगले दिन तक पर्वकाल रहने से दो दिनों तक पुष्य नक्षत्र कहलाता है। नए वर्ष-2021 में ऐसे योग 10 दिन रहेंगे है, जब दो दिनों तक पुष्य नक्षत्र का योग रहेंगा।

इसलिए खास है पुष्य नक्षत्र
पुष्य नक्षत्र को सभी 27 नक्षत्रों का राजा माना जाता है। इसमें की गई खरीदी समृद्धिकारक होती है। पुष्य नक्षत्र की धातु सोना है खरीदने से लाभ होता है। रवि पुष्य में भूमि, भवन, वाहन व अन्य स्थाई सम्पत्ति में निवेश करने से प्रचुर लाभ की संभावना रहती है। इस दिन चांदी, बर्तन, कपड़ा, इलेक्ट्राॅनिक वस्तुओं की खरीदी भी शुभ रहती है। इस कार्य का शुभारंभ करना भी फलदायी माना गया है।

17 जनवरी से गुरु अस्त
पं. मनोज शुक्ला ने बताया कि अभी धनुर्मास चल रहा है जो 14 जनवरी यानी मकर संक्रांति तक प्रभावी रहेगा। दरअसल सूर्य इस दौरान धनु राशि में आ जाता हैं। इस दौरान मांगलिक कार्य नहीं कराए जा सकते। 17 जनवरी से गुरु पश्चिम की ओर अस्त हो रहे हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
New year will start with Pushya Nakshatra, auspicious 24 days for shopping in 2021


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3nNL5Zu

0 komentar