पुष्य नक्षत्र के साथ होगी नववर्ष की शुरुआत, कार्य सिद्धि का योग, लाभप्रद होगा 2021 , December 30, 2020 at 06:31AM

नववर्ष की शुरुआत इस बार शुक्रवार को शनि प्रधान पुष्य नक्षत्र की उपस्थिति में हो रही है। पुष्य नक्षत्र काे अमरेज्य भी कहा जाता है। अर्थात एक ऐसा नक्षत्र जो सभी अभिष्ठों की सिद्धि करता है। इस तरह से वर्ष 2021 सभी के लिए अत्यंत लाभप्रद और समृद्धिकारक रहने वाला है। ज्योतिषाचार्य डॉ. दत्तात्रेय होस्केरे ने बताया कि 2021 में शनि मकर राशि में बने रहेंगे और गुरु क्रमश: मकर और कुंभ राशि में गमन करते रहेंगे। इसी तरह से राहू वृषभ राशि में और केतु वृश्चिक राशि में बने रहेंगे। यदि सफलता की चर्चा करें तो यह वर्ष अन्य सभी वर्षाें की तुलना में श्रेष्ठ होगा।

मकर संक्रांति 14 को
मकर संक्रांति 14 जनवरी को है। इसमें पुण्यकाल सुबह 8.13 बजे से 12 बजे तक रहने वाला है। साथ ही महापुण्यकाल 8.13 बजे 8.30 बजे तक रहने वाला है। मकर संक्रांति पर्व सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने पर और सूर्य के उत्तरायण होने पर मनाया जाता है।

नए साल में राशियों पर होगा यह प्रभाव
मेष:
इस वर्ष शनि देव मेष राशि के दशम भाव में विराजमान रहेंगे। आपको अपने करियर में अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। वहीं आपको अपने आर्थिक जीवन में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। कार्यक्षेत्र में आपको शुरुआती दिनों में प्रतिकूल फल प्राप्त होंगे।

कर्क: साल की शुरुआत में लाल ग्रह मंगल आपके दशम भाव में होगा। आपको अपने करियर में रफ्तार लाने का अवसर मिलेगा। आपकी तरक्की होगी और आपकी पदोन्नति भी संभव है। व्यापारियों के लिए यह वर्ष निवेश के लिए सफल रहने वाला है।

तुला: इस वर्ष आपकी राशि के अष्टम और द्वितीय भाव में क्रमश: राहु-केतु की उपस्थिति होगी। करियर में आपको अनुकूल फल प्राप्त होंगे। आपकी उन्नति होगी। साथ ही व्यापारियों को किसी गुप्त स्रोत से धन लाभ होगा। आर्थिक जीवन में धन की प्राप्ति होगी।

मकर: आपके राशि स्वामी शनि आपकी ही राशि में इस पूरे वर्ष विराजमान होंगे। आपको अपने करियर में इस वर्ष अपनी मेहनत के अनुसार अच्छे फल प्राप्त होंगे। व्यापारियों के लिए भी यह साल विशेष शुभ रहने वाला है। आर्थिक जीवन में शुरुआती कुछ महीनों में परेशानी होगी।

वृषभ: इस पूरे ही वर्ष शनि देव आपके नवम भाव में विराजमान रहेंगे। करियर में भाग्य का साथ मिलेगा। आपकी पदोन्नति और प्रगति होगी। व्यापारियों को मेहनत अनुसार अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। आर्थिक जीवन में परिणाम थोड़े कम अच्छे प्राप्त होंगे।

सिंह: पूरे वर्ष छाया ग्रह राहु-केतु क्रमश: आपके दसवें और चौथे भाव को प्रभावित करेंगे। छात्रों को परीक्षाओं में सफलता पाने के लिए पहले से अधिक मेहनत करनी होगी। विदेश जाने की इच्छा रखने वाले छात्रों को सफलता मिलने की संभावना होगी।

वृश्चिक: शनि देव आपके तीसरे भाव में साल भर विराजमान रहेंगे। करियर में आपको बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान आपको कार्यक्षेत्र में अधिक मेहनत करनी होगी। साथ ही व्यापार कर रहे जातकों को किसी यात्रा से लाभ होगा।

कुंभ: इस वर्ष भर आपकी राशि से द्वादश भाव में शनि विराजमान रहेंगे। करियर के लिए यह साल खासा अच्छा नहीं रहेगा। विशेष तौर से मध्य के बाद का समय आपके लिए प्रतिकूल रहेगा। व्यापारियों को किसी यात्रा पर जाने का मौका मिलेगा।

मिथुन: वर्ष की शुरुआत में आपकी राशि के दशम भाव के स्वामी गुरु बृहस्पति साल के पहले महीने में आपके अष्टम भाव में विराजमान रहेंगे। नौकरी वालों को अपने सहकर्मियों की मदद नहीं मिलने में परेशानी होगी। पदोन्नति तो होगी लेकिन इसके लिए थोड़ा इंतजार करना होगा।

कन्या: पूरे वर्ष शनि आपकी राशि के पंचम भाव में विराजमान होंगे। नौकरीपेशा वालों का स्थान परिवर्तन संभव है। व्यवसायियों के लिए समय अच्छा रहेगा। व्यापार में पार्टनरशिप में करने वालों को हर सौदा को सोच-समझकर कर करना होगा।

धनु: सालभर शनि आपके चतुर्थ भाव को दृष्टि करते हुए आपके द्वितीय भाव में विराजमान रहेंगे। सहकर्मियों की मदद से अच्छे फल प्राप्त होंगे। व्यापारियों के लिए यह वर्ष अच्छा रहने वाला है। उन्हें व्यापार में सफलता मिलेगी। आर्थिक स्थिति मजबूत होगी।

मीन: इस वर्ष शनि आपके एकादश भाव में विराजमान होते हुए आपके पंचम भाव पर दृष्टि डालेंगे। आपको अपने करियर में अच्छे फलों की प्राप्ति होगी। कैरियर इस समय रफ्तार पकड़ता दिखाई देगा। व्यापारियों को व्यापार को विस्तार देने का मौका मिलेगा



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
New year will be started with Pushya Nakshatra, the sum of accomplishment of work, will be beneficial 2021


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3nXN2m8

0 komentar