ATM से छेड़छाड़ कर रुपए निकालते, रास्ते में पुलिस कहीं रोकती तो मीडिया और पुलिस का कार्ड दिखाते , December 30, 2020 at 06:59AM

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर पुलिस ने 4 ऐसे शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है, जो अलग-अलग राज्यों में घूमकर ATM से ठगी करते थे। इस दौरान रास्ते में कहीं रोका जाता तो पुलिस और मीडिया का कार्ड दिखाकर धौंस जमाते। पकड़े गए सभी आरोपी उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। आरोपियों के पास से पुलिस और मीडिया के फर्जी ID कार्ड, 12 अलग-अलग बैंकों के डेबिट कार्ड, दिल्ली नंबर की कार बरामद हुई है।

SBI ATM से छेड़छाड़ कर निकाले थे 29 हजार रुपए
जानकारी के मुताबिक, 28 दिसंबर को सरकंडा थाने में विरल दमानी ने मामला दर्ज कराया गया था। इसमें बताया था कि वह कंपनी में सीनियर एग्जीक्यूटिव है। उसकी कंपनी प्रदेश में ATM लगाने और उसकी देखरेख का काम करती है। 26 दिसंबर को किसी ने शिव घाट स्थित SBI के ATM में छेड़छाड़ कर 29 हजार रुपए निकाले हैं। CCTV में उनकी फुटेज भी कैद हुई थी। उसी आधार पर पुलिस ने तलाश शुरू की।

दोबारा वारदात से पहले ही पकड़े गए शातिर चोर
मंगलवार को सूचना मिली कि ATM से छेड़छाड़ करने वाले आरोपी दिल्ली नंबर की एक कार में देखे गए हैं। कार राजकिशोर नगर में एक ATM के पास खड़ी है। इस पर पुलिस ने घेराबंदी कर कार सवारों को पकड़ लिया। पूछताछ में अपना नाम कानपुर निवासी अजीत कुमार जालौन निवासी आदेश कुशवाहा, अंकित निषाद, बाबूजी निषाद व हमीरपुर निवासी अनिरुद्ध निषाद बताया।

इस तरह करते ठगी : रकम निकलने के बाद मशीन हैंग कर देते
पुलिस पूछताछ में पता चला है कि आरोपी ATM से रुपए निकालने के बाद मशीन में छेड़छाड़ कर उसे हैंग कर देते। इससे स्क्रीन पर टेंपरेरी आउट ऑफ सर्विस का मैसेज शो करने लगता। इसके बाद ट्रांजेक्शन डिक्लाइन हो जाता। इससे अंदर का मेकेनिज्म ATM से निकली रकम को नहीं जोड़ता था। फिर इसी को आधार बनाकर आरोपी पूरे रुपए का क्लेम बैंक से करते थे। जिसे उनके खाते में क्रेडिट कर दिया जाता।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में पुलिसकर्मी और मीडियाकर्मी बनकर ATM से चोरी करने वाले गिरोह को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3n5FH2V

0 komentar