पार्टी के भरोसे नहीं, अपना परफॉर्मेंस दिखाएं एमपी और एमएलए, टिकट इसी आधार पर , December 09, 2020 at 05:27AM

भाजपा के सांसद, विधायक और विधानसभा के उम्मीदवारों को प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी ने दो टूक कह दिया है कि वे सिर्फ पार्टी के आंदोलनों के भरोसे न रहें। व्यक्तिगत स्तर पर भी स्थानीय मुद्दों को लेकर काम दिखाना होगा। वे लगातार व्यक्तिगत स्तर पर आंकलन करेंगी और उस आधार पर ही 2023 में टिकट तय किया जाएगा। पुरंदेश्वरी ने कहा कि हर हाल में 2023 में जीत हासिल करनी है। सभी विधायकों और विधानसभा के उम्मीदवारों से प्रदेश व स्थानीय स्तर पर मुद्दे मांगे गए हैं।
प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी व सह प्रभारी नितिन नवीन मंगलवार को सुबह आरएसएस मुख्यालय जागृति मंडल गईं। इसके बाद कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में पहले सभी सांसदों से वन टू वन बातचीत की, फिर विधायक और विधानसभा उम्मीदवारों से बातचीत की। प्रभारी ने सांसदों से कहा कि साल का आधा हिस्सा लोकसभा और राज्यसभा में जाता है, इसलिए बाकी समय वे क्षेत्र में बिताएं। लगातार कार्यकर्ताओं से मिलें। इसी तरह विधायक व उम्मीदवारों से कहा गया है कि वे स्थानीय स्तर पर लड़ाई लड़ें। सरकार के खिलाफ पार्टी स्तर पर लड़ाई होगी, लेकिन स्थानीय स्तर पर विधायकों ने जो वादे किए हैं, जो कमियां हैं, उन मुद्दों को उठाएं। इन सबकी पार्टी के स्तर पर निगरानी की जाएगी। परफॉर्मेंस को देखकर ही टिकट दिया जाएगा। सभी पदाधिकारियों से यह कहा गया है कि अब सरकार को दो साल हो गए हैं, इसलिए आक्रामक ढंग से सड़क पर उतरकर मुद्दों को उठाएं।

जो काम मिला, सिर्फ उसी पर ध्यान दें
पुरंदेश्वरी ने सभी पदाधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को दो टूक कहा है कि उन्हें जो जिम्मेदारी मिली है, सिर्फ वही काम करें। सभी के कामकाज के लिए टाइमलाइन तय की जाएगी। हर महीने या पखवाड़े में आकर वे समीक्षा करेंगी। उन्होंने यहां तक कहा कि हैदराबाद से उन्हें पहुंचने में सिर्फ दो घंटे लगेंगे, इसलिए कभी भी आ सकती हैं। वे खुद भी मंडल और बूथ स्तर पर दौरा कर कार्यकर्ताओं से मिलेंगी। ऐसे में हर पदाधिकारी के कामकाज का आंकलन करेंगी।

सदन में आक्रामकता के लिए सराहना
विधानसभा में आक्रामक ढंग से मुद्दे उठाने के लिए प्रभारियों ने विधायक दल की तारीफ भी की। उन्होंने कहा कि भले ही संख्या में कम हैं और कई वरिष्ठ विधायक भी हैं, लेकिन कुछ सदस्य भी पूरी आक्रामकता के साथ मुद्दे उठाते हैं और सरकार पर दबाव बनाने में कामयाब रहते हैं। इसी तरह 2018 में करारी हार के बाद लोकसभा चुनाव में 60 विधानसभा क्षेत्रों में बढ़त बनाने के लिए भी कार्यकर्ताओं की तारीफ की। यह भी कहा कि इन्हीं कार्यकर्ताओं से 2023 में जीत मिलेगी।

छत्तीसगढ़ की कांग्रेस की सरकार दो साल में ही फेल
भाजपा प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस दो साल में ही फेल हो गई है। उन्होंने सीएम भूपेश बघेल से सवाल किया कि एक साल में ही छत्तीसगढ़ में 234 किसानों ने आत्महत्या की है, फिर कांग्रेस कैसे किसान हितैषी हो गई? आज किसान सवाल पूछ रहे हैं कि कांग्रेस ने चुनाव से पहले जो वादे किए थे, वे पूरे नहीं किए हैं। युवा ये सवाल पूछ रहे हैं कि उन्हें बेरोजगारी भत्ता नहीं मिल रहा है। रेप की 500 घटनाएं हो चुकी हैं। इन सबका सीएम बघेल को जवाब देना चाहिए। पुरंदेश्वरी ने कहा कि 2023 में जनता के मुद्दों को उठाकर भाजपा फिर से सत्ता में आएगी। भाजपा ने सरकार को दो साल का समय दिया, अब सड़क पर उतरकर मुद्दे उठाएंगे। भाजपा की 15 साल की सरकार के बाद कांग्रेस के घोषणा पत्र को देखकर लोगों ने बदलाव किया, लेकिन कांग्रेस ने ज्यादातर वादा नहीं निभाया। अब कांग्रेस सरकार को यह बोलने का हक नहीं है। भाजपा प्रभारी ने कहा कि कृषि बिल किसानों के हित में हैं। कांग्रेस भी पहले एपीएमसी एक्ट खत्म करने, आवश्यक वस्तु अधिनियम में संशोधन के पक्ष में थी। अब किसानों को भड़का रहे हैं।
कुछ कमियां सामने आईं, उन्हें दूर करेंगे
भाजपा प्रभारी पुरंदेश्वरी व सह प्रभारी नितिन नवीन ने कहा कि दो दिन की लगातार बैठकों के बाद कई बातें सामने आई हैं। जो कमियां थीं, उन्हें दूर करेंगे। उन्होंने कहा कि यह पार्टी का अंदरूनी मामला है, इसे मीडिया को नहीं बताएंगी। नेताओं और कार्यकर्ताओं में समन्वय के सवाल पर प्रभारी ने कहा कि अनुभव और नई सोच के साथ संगठन की मजबूती के लिए काम करेंगी।
हर मोर्चे पर कांग्रेस सरकार रही विफल
सह प्रभारी नितिन नवीन ने कहा कि सरकार लगभग 2 साल पूरे कर चुकी है। आधा कार्यकाल सरकार पूरा करने की ओर है और अब जो समय बचा है उसमें भाजपा हर मोर्चे पर सरकार को घेरने का काम करेगी। जनता से जुड़े हुए मुद्दों को बूथ स्तर पर लोगों के बीच पहुंचा कर सरकार की नाकामियों को लोगों को बताया जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
MP and MLA show their performance, not depending on the party, tickets on this basis


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2K0aUGK

0 komentar