राम से जुड़े स्थलों की मिट्‌टी, रामायण और भगवा ध्वज लेकर निकली रथयात्रा, कोरिया और सुकमा जिले से एक साथ हुई शुरुआत , December 14, 2020 at 05:33PM

छत्तीसगढ़ के कोरिया और सुकमा जिले से राम वनगमन पथ पर आज एक साथ रथ यात्रा और बाईक रैली शुरू हो गई। रास्ते में जगह-जगह इस रथयात्रा का राम नाम के जयकारे के साथ श्रद्धालुओं ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया।

इस रथयात्रा का आयोजन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में नई सरकार के दो वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर किया गया है।

स्थानीय इतिहासकारों के मुताबिक भगवान श्री राम ने वनवास के दौरान कोरिया जिले के सीतामढ़ी-हरचौका में पहला पड़ाव किया था। छत्तीसगढ़ की जमीन पर उनका आखिरी पड़ाव सुकमा जिले के रामाराम में रहा।

राम वनगमन पथ पर निकले दोनों रथों में इन पवित्र भूमियों की मिट्टी, रामायण और ध्वज को रखा गया है। प्रदेश के दोनों छोरों से निकली ये रैली राम वन गमन पथ का अनुसरण करते हुए 1575 किलोमीटर की दूरी तय कर 17 दिसम्बर को रायपुर के निकट स्थित माता कौशल्या की नगरी चंदखुरी में मिलेंगी।

रथ यात्रा और निकली बाइक रैली का जगह-जगह खड़े श्रद्धालुओं ने पुष्प वर्षा के साथ भव्य स्वागत किया। रथ यात्रा के मार्ग में भी फूल बिछाये गए। रथ यात्रा के स्वागत के साथ ही रामायण पाठ एवं धार्मिक भजनों का आयोजन भी किया गया।

ग्रामीणों ने जगह-जगह फूल बरसाकर रथयात्रा और बाइक रैली का स्वागत किया।

सुकमा जिले में रथयात्रा माता चिटमिट्टीन की पवित्र भूमि रामाराम से प्रारंभ हुई और लगभग 65 किलोमीटर की यात्रा कर बस्तर जिले की सीमा पर स्थित टाहकवाड़ा पहुंची। यहां सुकमा कलेक्टर विनित नन्दनवार ने बस्तर कलेक्टर रजत बंसल को यात्रा को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी दी।

सुकमा जिले के रामाराम से शुरू हुई रैली में 700 से अधिक बाइक सवारों सहित हजारों लोग शामिल हुए। रामाराम के समीप शबरी नदी के तट से मिट्टी ली गयी तथा उसे कलश में रखकर रथ में ले जाया गया।

इधर उत्तरी हिस्से में ग्राम रकिया में संसदीय सचिव एवं बैकुण्ठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव की मौजूदगी में पर्यटन रथ यात्रा एवं बाइक रैली का स्वागत कर कोरिया जिले के विकासखण्ड बैकुण्ठपुर के टेमरी में नेतृत्व सूरजपुर जिले को सौंपा जाएगा।

जनप्रतिनिधियों-कलेक्टरों ने की शुरुआत

कोरिया जिले के हरचौका में सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं भरतपुर-सोनहत विधायक गुलाब कमरो और कलेक्टर एसएन राठौर ने रथयात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

वहीं सुकमा जिले के रामाराम में नगर पालिका अध्यक्ष जगन्नाथ साहू और कलेक्टर विनित नन्दनवार ने रथ यात्रा को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि और श्रद्धालु उपस्थित थे।

पर्यटन परिपथ विकास की योजना

रामायण काल में भगवान श्रीराम के वनवास काल के दौरान छत्तीसगढ़ में जहां-जहां उनके पदचिन्ह पड़े, उन स्थानों को राज्य सरकार पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर रही है। राम वनगमन पथ पर्यटन सर्किट नाम से चल रही इस योजना के पहले चरण में नौ स्थलों का विकास किया जाना है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
रथ में रखी भगवान श्री राम, माता सीता और लक्ष्मण की प्रतिमा की पूजा-अर्चना कर अधिकारियों-राजनेताओं ने रथ को हरी झंडी दिखाई।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3a8ylIU

0 komentar