चर्च में सिर्फ प्रार्थना करने वालों को मिलेगा प्रवेश; होटल्स ने बनाए इम्यूनिटी बढ़ाने वाले केक, इस बार पार्टीज नहीं , December 24, 2020 at 04:14PM

इस बार रायपुर शहर में क्रिसमस का माहौल जरा फीका है। कोविड-19 संक्रमण की वजह से इसाई समाज ने कई आयोजनों पर रोक लगा दी है। यहां तक की चर्च भी सार्वजनिक तौर पर नहीं खुलेंगे, सिर्फ इसाई धर्म से जुड़े लोग प्रार्थना में शामिल होने के लिए चर्च जा सकेंगे। हर साल हजारों लोगों की भीड़ चर्च में जुटती थी। काफी लोग चर्च की सजावट और क्रिसमस सेलिब्रेशन देखने जाया करते थे, मगर इस बार ऐसा नहीं होगा। घर-घर जाकर होने वाला कैरोल गायन और क्रिसमस रैली को कोरोना के खतरे को देख स्थगित कर दिया गया।

तस्वीर रायपुर के बैरन बाजार स्थित चर्च की है। यहां गेट पर ही लोगों की जांच के बाद उन्हें प्रवेश दिया जाएगा।
चर्च में इस बार देश और दुनिया से कोरोना महामारी के संकट से सभी को बचाने की प्रार्थना की जाएगी। तस्वीर सेंटपॉल कैथेड्रल की है।

लेट नाइट प्रेयर भी नहीं
हर बार देर रात चर्च में प्रेयर हुआ करती थी। करीब 125 साल पुरानी बैरनबाजार चर्च में इस बार लेट नाइट प्रेयर नहीं होगी। इसे लेकर खास इंतेजाम किया गया है। शाम 6 बजे से रात 10 बजे तीन प्रार्थनाएं होंगी। इसके बाद अगली सुबह 7 से 9 बजे दो प्रार्थनाएं होंगी। ताकि एक बार में ही ज्यादा लोग जमा ना हों। इससे पहले तक रात में एक साथ बड़ी तादाद में लोग जुटते थे। सभी लोग मास्क लगाकर सैनिटाइजेशन के बाद ही चर्च में प्रवेश ले पाएंगे। गेट पर चर्च के वॉलेंटियर लोगों को बारी-बारी से प्रवेश देंगे।

रायपुर के सेंट पॉल कैथेड्रल की बेंचों पर कोरोना की चिंता साफ देखी जा सकती है।
क्रिसमस ट्री को चर्च के अंदर सजाया गया है।

पारंपरिक डेकोरेशन

मान्यता के मुताबिक गुरुवार की मध्यरात्रि प्रभु यीशु का जन्म होगा। इसके साथ ही बड़े दिन के पर्व की आराधना प्रारंभ होगी। गिरजाघर सज-धजकर तैयार हैं। चर्च प्रांगणों व घरों में क्रिसमस की प्रतीक चरणी, स्टार, क्रिसमस ट्री लगाए गए हैं। घरों में महिलाएं केक और पकवान तैयार करने में जुटी हैं। सेंट पॉल्स कैथेड्रल, सेंट जोसफ महागिरजाघर, सेंट मेरीस चर्च टाटीबंध, जॉन द बैपटिस्ट चर्च कापा, अमलीडीह चर्च, ग्रेस चर्च, सेंट मैथ्यूस चर्च, सेंट पीटर्स चर्च जोरा, नवा रायपुर में खड़वा चर्च, मारथोमा चर्च, बिलिवर्स ईस्टर्न चर्च, रायपुर क्रिश्चियन चर्च, चर्च आफ गॉड समेत चार दर्जन गिरजाघरों में धार्मिक संस्कारों की तैयारी पूरी हो चुकी है।

बैरन बाजार स्थित चर्च के अंदर गुंबद की भव्यता। इस चर्च में कोविड की वजह से लेट नाइट प्रेयर नहीं होगी।
तस्वीर कोर्टयार्ड मैरियट में बने केक की है। इसे क्रिसमस ट्री का शेप दिया गया है।

होटलों में बड़े आयोजन नहीं, हेल्दी केक बनाए गए

प्रशासन कोरोना के खतरे को देख किसी बड़े कार्यक्रम की मंजूरी होटलों को नहीं दे रहा। होटल प्रबंधन भी कोविड-19 के रिस्क की वजह से कोई चांस लेने के मूड में नहीं हैं। पहली बार शहर के होटलों में क्रिसमस को लेकर कोई डिनर पार्टी नहीं हैं। सामान्य डायनिंग सर्विस ही दी जा रही है। हल्के डेकोरेशन के साथ कुछ हेल्दी केक बनाए गए हैं। होटल मैरियट के जीएम रजनीश कुमार का कहना हैं कि कोविड की वजह से हम सावधानी बरत रहे हैं। होटल की लॉबी को गेस्ट के लिए क्रिसमस थीम पर सजाया गया है।

इस कप को देखकर ही क्रिसमस वाली फीलिंग आ जाती है, कोर्टयार्ड के शेफ से इसे तैयार किया।

मैरियट में प्लम केक बनाया जा रहा है। होटल के शेप अनूप सिंह ने बताया कि प्लम केक में हम काफी सारी नट्स और गरम मसालों का इस्तेमाल करते हैं। इनकी तासीर गर्म होती है। इन दिनों कोविड संक्रमण के माहौल में यह हेल्दी साबित होगा। केक में दालचीनी, कालीमिर्च,अजवाइन, इलायची,लौंग डाली जा रही है। करीब 120 किलो तक के मटेरियल का केक रेडी किया जा रहा है। यह होटल में आने वाले मेहमानों के लिए उपलब्ध होगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर रायपुर के सेंट पॉल्स कैथेड्रल की है। यहां फर्श पर लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील करते स्टीकर लगाए गए हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/34Y0Sh9

0 komentar