भोपाल से पहुंचे फॉरेंसिक एक्सपर्ट कहा- हत्यारे दो या ज्यादा रहे होंगे , December 29, 2020 at 06:18AM

अमलेश्वर के खुड़मुड़ा में सोनकर परिवार के 4 लोगों की हत्या के मामले में 7 दिन बाद भी पुलिस आरोपियों तक नहीं पहुंच पाई है। सोमवार को फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. डीके सतपथी भोपाल से दुर्ग के ग्राम खुड़मुड़ा पहुंचे। शाम करीब 7 बजे उन्होंने घटना स्थल पर पहुंचकर दुर्गेश से पुन: पूरे मामले की जानकारी ली। दुर्गेश ने अपनी आंखों से जो कुछ देखा, वह सारी जानकारी पुन: डॉ. सतपथी ने ली।

इसके बाद यह तय माना जा रहा है कि घटना में एक से अधिक लोग शामिल थे। बयानों के आधार पर आशंका जताई जा रही है कि घटना में परिवार का ही कोई शामिल रहा। हत्या के तार प्रॉपर्टी विवाद व अवैध संबंधों से जुड़ रहे हैं। इधर सोमवार की दोपहर करीब 3 बजे महिला अधिकारियों की टीम भी जांच को पहुंची।
सिर के ऊपर सिलबट्‌टा पड़ा हुआ था, लहुलूहान थी मां : डॉ. सतपथी ने भास्कर को बताया कि दुर्गेश ने पूरी घटना की जानकारी दी है। दुर्गेश ने बताया कि सुबह करीब 3.30 बजे दादी दुलारी बाई सब्जी बेचने के लिए रायपुर के शास्त्री मार्केट जाती थी। घटना वाले दिन लेट होने पर मां कीर्तिन ने पिता रोहित को देखने के लिए भेजा। जब पिता नहीं लौटे तो मां देखने गई।

फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने कहा एक से अधिक शामिल :
डॉ. सतपथी ने बताया कि जिन लोगों की हत्या की गई है। उनका सभी का वजन 60 किलों से ज्यादा रहा। इससे अनुमान है कि वारदात में एक से अधिक हत्यारे शामिल थे। पीएम रिपोर्ट से पता चला है कि रोहित, दुलारी बाई और बालाराम के शरीर पर कोई खरोंच के निशान नहीं हैं। इससे यह तय है कि तीनों शव को उठाकर पानी की टंकी में फेंका गया। इसलिए शंका है कि शव उठाने के लिए एक से अधिक लोगों की ज़रुरत पड़ी होगी। मामले में जांच जारी है।

रायपुर क्राइम और महिला अधिकारियों की टीम जुटी
सोमवार को खुड़मुड़ा गांव में मृतक रोहित के भाई सोमनाथ का भी फिर से बयान लिया गया। इधर रायपुर की क्राइम टीम के अलावा जिले की महिला पुलिस अधिकारियों की टीम भी दोपहर करीब 3 बजे गांव पहुंची। खबर है कि सोमवार की सुबह रोहित के भाई गंगाराम को पुलिस पूछताछ के लिए थाने लेकर गई। शाम 5 बजे तक गंगाराम घर नहीं लौटा। सोमनाथ ने बताया कि रोहित के छोटी बेटी वर्षा, ईश्वरी और तोरण को पता चल गया है। पूछताछ लगातार जारी है।

डॉ. सतपथी इससे पहले भी प्रदेश के अन्य अनसुलझे मामलों की जांच के लिए पहुंचते रहे हैं छत्तीसगढ़
डॉ. सतपथी इससे पहले प्रदेश में दो अन्य मामलों की जांच में पहुंच चुके हैं। जून 2017 में उन्होंने चर्चित छानपैरी हत्याकांड की जांच के लिए आए थे। वर्तमान में नगरीय निकाय मंत्री शिव डहरिया के माता-पिता पर हुए हमले की जांच को भी वे पहुंचे थे। खम्हरिया वीआईपी स्टेट कॉलोनी में भी भीमा मंडावी की बेटी की संदिग्ध मामले में भी उन्हें फॉरेंसिक एक्सपर्ट के रूप में बुलाया गया था। इस प्रकार लगातार राज्य पुलिस द्वारा अनसुलझे मामलों में उनकी मदद लेते रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सोमवार की शाम फॉरेंसिक एक्सपर्ट पहुंचे ग्राम खुड़मुड़ा, ली जानकारी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/37RGe3Y

0 komentar