उत्तरपुस्तिका छपवाने हर साल बदलाव, 3 साल में 12 लाख कॉपी हो गई रद्दी , January 10, 2021 at 05:27AM

(रामप्रताप सिंह) अटल यूनिवर्सिटी में हर साल उत्तरपुस्तिका घोटाले के लिए नया-नया नियम अपनाया जा रहा है। नए-नए नियम से एयू हर साल कॉपी छपवाती रही और पिछले सालों की बची कॉपियों को रद्दी बना रही है। हर साल 3 से 4 लाख उत्तरपुस्तिका छात्रों की परीक्षा के बाद बच जाती हैं।

अगर तीन साल की उत्तरपुस्तिका की बात करें तो लगभग 12 लाख उत्तरपुस्तिका बची है, जिसे एयू कॉलेजों से नहीं मंगा पाई है और यह रद्दी बन गई है। एक उत्तरपुस्तिका का मूल्य 8 रुपए पढ़ता है। ऐसे में एयू 96 लाख रुपए की उत्तरपुस्तिका गड़बड़ी की आसंका है। एयू ऐसे छात्रों के पैसे का दुरुपयोग कर रही है।

यूनिवर्सिटी ने वर्ष 2014-15 से वर्ष 2016-17 तक तीन चरणों में 42 लाख, 47 लाख और 1.30 हजार की उत्तरपुस्तिकाएं छपवाई। वर्ष 2017-18 में 15 लाख मुख्य व 20 लाख सप्लीमेंट्री, वर्ष 2019-20 में 18 लाख मुख्य और 25 लाख पूरक की उत्तर पुस्तिकाएं छपवाई है। इन उत्तरपुस्तिका छपवाने के बीच में यूनिवर्सिटी ने हर साल नया-नया बदलाव किया।

पहले यूनिवर्सिटी केंद्रीय जेल से जो उत्तरपुस्तिका छपवाती थी, उसमें स्टेलर लगा रहता था। यूनिवर्सिटी ने नई उत्तरपुस्तिका छपवाने के लिए कहा कि स्टेपलर से छात्र कॉपियों को बदल लेते हैं, इसलिए सिलाई वाली कॉपी छपेगी। ये कॉपी छपी और स्टेपलर वाल बची कॉपी डंप कर दी गई।

फिर यूनिवर्सिटी का नाम बदलने के कारण अटल यूनिवर्सिटी के नाम से कॉपी छपवाई और सिलाई वाली बची कापियों को डंप कर दिया। इसके बाद फिर कापियों को छपवाने यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने 24 की जगह 32 पेज कर दिया। हर साल की तरह पिछले सत्र की बची शेष कापियों को रद्दी बना दिया।

हर साल एयू से संबद्ध कॉलेजों में छात्रों ने मुख्य परीक्षा में 12 से 13 लाख व सेमेस्टर व सप्लीमेंटी परीक्षा में लगभग एक लाख उत्तरपुस्तिका उपयोग करते हैं। जबकि एयू हर साल मुख्य उत्तरपुस्तिका 18 से 20 लाख छपवा रही है। हर साल बची कापियों का हिसाब नहीं है। यही नहीं यूनिवर्सिटी ने कॉलेजों में जो कॉपियों बची हैं, उसे अभी तक नहीं मंगवाईं हैं।

रिकार्ड हमारे पास है, कॉलेजों पर कार्रवाई होगी: डॉ. होता- अटल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव डाॅ. एचएस होता ने कहा कि उत्तरपुस्तिका गायब नहीं हैं, उसका पूरा रिकार्ड पास है। कॉलेजों को कॉपी वापिस करने कड़ा पत्र परीक्षा नियंत्रक डॉ. प्रवीण पाण्डेय ने लिखा है। अगर इस बार कॉलेज कॉपी वापिस नहीं करते हैं, तो कार्रवाई होगी।

39 कॉलेजों ने नहीं भेजी कॉपियां

अटल यूनिवर्सिटी हर साल की तरह इस साल भी कॉलेजों को नोटिस जारी कर उत्तरपुस्तिका की मांग की है। एयू ने कहा है कि 39 कॉलेजों द्वार उत्तरपुस्तिका ना ही हिसाब दिया गया है और ना ही उसे वापस किया है।

इसमें सीएमडी, जेपी वर्मा, चौकसे कॉलेज, जीआरडी पामगढ़, जानकी कॉलेज, उत्तम मेमोरियल, जय बूढ़ादेव कॉलेज, सीपीएम कॉलेज, एसबीकेपी लॉ कॉलेज, कमला नेहरू कॉलेज, अग्रसेन कॉलेज, कॉलिंदी देवी कॉलेज, लाल बहादुर शास्त्री कॉलेज, संत हरिओम कॉलेज सहित शासकीय कॉलेज शामिल हैं। हर साल पत्र जारी कर एयू भूल जाती है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Answer book changes every year, 12 million copies were scraped in 3 years


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/35thU6K

0 komentar