रायपुर शहर में पिछले एक साल में  75 लोगों की हत्या, बलात्कार के 246  केस सामने आए, SSP  बोले- घट रहे अपराधिक मामले , January 08, 2021 at 05:38AM

रायपुर पुलिस ने साल 2019 और 2020 में शहर में हुई अपराधों और उनके खिलाफ की गई कार्रवाई पर काम-काज का ब्योरा पेश किया । SSP अजय यादव ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेस में अपराधों के आंकड़े और पिछले साल की तुलना में आई कमी के बारे में बताया। इन आंकड़ों के मुताबिक बीते एक साल में रायपुर में 75 लोगों की हत्या, 246 बलात्कार, 55 लूट, 1137 चोरी और 183 छेड़छाड़ के मामले दर्ज किए गए हैं।


इन अपराधों में आई कमी
रायपुर पुलिस के मुताबिक हत्या के मामलों में 1.25% गैर इरादतन हत्या में 50% बलात्कार में 14% लूट में 36% नकबजनी में 17% चोरी में 27% धोखाधड़ी में 29% आगजनी में 41% छेड़छाड़ में 16% और यौन उत्पीड़न के मामलों में 30% की कमी दर्ज की गई है।

रायपुर पुलिस का दावा है कि हत्या के लगभग सभी मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है । डकैती के सभी मामलों में खुलासा किया जा चुका है और 74% माल की बरामदगी हो चुकी है। 2020 में लूट के 55 मामलों में से 49 प्रकरणों में आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है । 2019 में माल की बरामदगी का प्रतिशत 64 प्रतिशत था । महिला संबंधी अपराधों में 15 दिन के अंदर चार्जशीट कोर्ट में पेश की गई।

जुआ-शराब के धंधों पर नकेल
पुलिस के मुताबिक साल 2019 की तुलना में लगभग 100% अधिक अवैध शराब पर कार्रवाई की गई है। साल 2019 में जहां 5467 लीटर अवैध शराब जब्त की गई थी साल 2020 में 10203 लीटर अवैध शराब मिली है। 2020 में नशे के कारोबार के खिलाफ भी अभियान छेड़ा गया जिसमें पुलिस को गांजा, हीरोइन, अफीम, कोकीन, एमडीएम, ब्राउन शुगर, टेबलेट, कैप्सूल, सिरप और डोडा वगैरह मिला है।


साल 2019 में जुआ अधिनियम के तहत 57 लाख 79 हजार 262 रुपए जब्त किए गए थे। साल 2020 में 94 लाख 48 हजार 373 रुपए जब्त किए गए हैं, जो कि लगभग 90% अधिक है । 2019 में सट्टा की केस में 14 लाख 02 हजार 559 रुपए सेट किए गए थे। 2020 में 35 लाख 30 हजार 497 रुपए की जब्ती की गई है जो कि साल 2019 के मुकाबले 120% अधिक है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर रायपुर के एसएसपी अजय यादव की है। उन्होंने सिविल लांइस स्थित कंट्रोल रूम कैंपस में मीडिया को पुलिस के कामों की जानकारी दी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3oonw9Y

0 komentar