जवानों ने जीता आदिवासियों का दिल, मानवाधिकार हनन की शिकायत नहीं , January 02, 2021 at 05:48AM

नए साल का पहला दिन सीएम भूपेश बघेल ने पुलिस और अर्द्ध सैनिक बल के जवानों के साथ बिताया। उनके साथ भोजन भी किया। इस दौरान सीएम बघेल ने जवानों की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि नक्सल समस्या समाप्त करने के लिए पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान साहस और संवेदनशीलता के साथ काम कर रहे हैं। यही वजह है कि दो सालों में एक बार भी मानवाधिकार संगठनों ने शिकायत नहीं की है। हमारे जवानों ने आदिवासियों का विश्वास जीता है। पुलिस का मूल काम अपराध नियंत्रण करना है। इन दो सालों में सही मायने में कम्युनिटी पुलिसिंग हुई है। अब पुलिसिंग होते हुए दिखाई देती है। सीएम बघेल ने कोरोना संक्रमण के दौरान पुलिसकर्मियों और अर्द्ध सैनिक बलों के जवानों द्वारा किए गए कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि पुलिस ने परित्राणाय साधु नाम के सूत्र को चरितार्थ करके दिखाया है। पहले लोग सोशल मीडिया में पुलिस की आलोचना करते थे, लेकिन लॉकडाउन के दौरान पुलिस ने ऐसा कार्य किया कि सोशल मीडिया छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा किए गए मानवीय कार्यों से भरा पड़ा था। जिस तरह किसान खेत में अन्न का उत्पादन कर हमारा पेट भरते हैं, वैसे ही हमारे सुरक्षाकर्मी दिन-रात सुरक्षा में लगे रहते हैं। किसान और जवान दोनों का योगदान अतुलनीय है। पुलिस को नागरिकों से लगातार संवाद बनाकर रखना चाहिए। इससे अपराधियों और अपराध के बारे में समय से पूर्व भी जानकारी मिल जाती है। आपका कार्य ऐसा हो कि नागरिकों में आपके प्रति भय नहीं बल्कि सुरक्षा की भावना हो। इस दौरान गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, मुख्य सचिव अमिताभ जैन, डीजीपी डीएम अवस्थी, एसीएस सुब्रत साहू, आदि मौजूद थे।

सीएम बघेल को मंत्रियों, सांसदों विधायकों ने दी नए साल की बधाई
सीएम बघेल से उनके निवास पर राज्य के मंत्रियों, सांसदों-विधायकों, निगम-मंडल आयोग के अध्यक्षों और अधिकारियों ने मुलाकात कर उन्हें नए साल की शुभकामनाएं दीं। मोहम्मद अकबर, अमरजीत भगत, कवासी लखमा, छाया वर्मा, शकुन्तला साहू, किरणमयी नायक, राजेन्द्र तिवारी, सुभाष धुप्पड़, महेन्द्र छाबड़ा, बैजनाथ चन्द्राकर, गुलाब कमरो, विनय जायसवाल आदि शामिल थे। सीएम ने भी सभी को शुभकामनाएं दीं।

गृहमंत्री साहू ने सीएस जैन से कहा- अब आप एसीएस फाइनेंस नहीं, विभाग का बजट बढ़ाइए
कार्यक्रम के दौरान गृहमंत्री साहू ने मंच से मुख्य सचिव जैन से कहा कि अब आप एसीएस फाइनेंस नहीं हैं, मुख्य सचिव हैं, इसलिए बजट बढ़ाइए ताकि पुलिस का काम और बेहतर ढंग से हो सके और पुलिसकर्मियों की छोटी-मोटी परेशानी दूर हो सके। गृहमंत्री ने पुलिस बल की कमी की ओर ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा कि पुलिस बल की कमी है। नए-नए थाने और चौकी खुल रही हैं। बल बढ़ाने की आवश्यकता है। डीजीपी अवस्थी ने कहा कि पहली बार कोई सीएम पुलिसकर्मियों के बीच नया साल मना रहे हैं। बाद में सीएम ने कहा कि यह पहली बार है, लेकिन अब हर बार यह परंपरा जारी रहेगी।

सीएम ने पूछा- बंदूक चलाने से डर नहीं लगता क्या?
सीएम बघेल ने सुरक्षा बलों के जवानों से बातचीत भी की। उन्होंने दंतेश्वरी फाइटर की हेमलता से पूछा कि आपको बंदूक चलाने से डर नहीं लगता? इस पर हेमलता ने बताया कि जब मुठभेड़ होती है तो सिर्फ दुश्मन दिखाई देता है, डर बिल्कुल भी नहीं रहता है। मधु पोड़ियाम ने बताया कि उनके पति मुठभेड़ में शहीद हुए थे। वह भी एक बम ब्लास्ट में घायल हो गई थी, लेकिन फिर से नक्सलियों से लड़ रही हैं। आशा सिंह ने बताया कि उनके लिए बड़े गर्व की बात है कि नक्सलियों से लड़ने के लिए महिलाओं को भी जिम्मेदारी दी गई है। एसटीएफ के जवान सत्येंद्र तिवारी ने बताया कि 2018 तक पामेड़ हेलीकॉप्टर से जाते थे। अभी पामेड़ को बीजापुर से जोड़ने का काम कर रहे हैं। तिवारी ने एसटीएफ की सबसे बड़ी फायरिंग रेंज को देखने आने के लिए आग्रह किया। सीएम ने इसे स्वीकार कर लिया। मूलत: हिमाचल प्रदेश के एसएसबी के जवान इंद्र सिंह ठाकुर से मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में सेब की खेती कराने की सलाह दी। सीएम ने पूछा कि उन्हें छत्तीसगढ़ के बारे में क्या पसंद है। जवान ने बताया कि हिमाचल की तरह ही छत्तीसगढ़ के लोग सहज और सरल हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सीएम ने दो वर्षों में पुलिस विभाग की उपलब्धियों पर आधारित पुस्तक का विमोचन किया। पुस्तक में छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा किए गए उल्लेखनीय कार्यों व राज्य शासन द्वारा पुलिसकर्मियों के लिए किए गए कल्याणकारी कार्यों को दर्शाया गया है। कई अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां भी दी गई हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3rKQ53k

0 komentar