तुरकाडीह बांध की मिट्‌टी का माफिया कर रहे अवैध उत्खनन, जुर्माना, फिर भी नहीं माने , January 04, 2021 at 06:01AM

रेत के साथ ही मिट्‌टी के अवैध उत्खनन में भी माफिया सक्रिय है। उस पर भी तरह-तरह से। एक ने तो बांध में गहरीकरण का लीज स्वीकृत कराने आवेदन किया और उसके बाद लगातार बांध में अवैध उत्खनन करता रहा। वहां अभी भी उसके द्वारा लगातार अवैध खुदाई की जा रही है। पंचायत के सरपंच भी अवैध उत्खनन की बात कह रहे हैं। वहां पोकलेन लगाकर खुलेआम मिट्‌टी निकाली जा रही है और डंपरों से मिट्‌टी का परिवहन किया जा रहा है। मामले में खनिज अधिकारी तुरकाडीह में पहले भी कार्रवाई की बात कह रहे हैं। जिले में सभी तरफ रेत का अवैध उत्खनन जोरों पर है। जहां रेत नहीं है, वहां मिट्टी व मुरुम का अवैध उत्खनन हो रहा है। ग्राम तुरकाडीह में तो नदी से रेत और बांध में माफिया मिट्‌टी का अवैध उत्खनन कर रहे हैं। वहां अशोक प्रजापति की गाड़ियां रोज लग रही है। पोकलेन भी उसी का है। उसने एक तंबू बना रखा है जिसमें मजदूर रहते हैं। उसने बांध में जगह-जगह से मिट्‌टी निकाल लिया है। हालांकि पंचायत का कहना है कि वहां पर एनएच के ठेकेदार के द्वारा भी मिट्‌टी निकाली गई है। बता दें कि प्रजापति वहीं आदमी है जिसके गाड़ी में दबकर रतखंडी में मुंशी की मौत हो गई थी।

मैं लीज करवा चुका हूं
"मैं जून में लीज करवा लिया हूं। रुपए नहीं होने के कारण खनिज विभाग से पर्ची नहीं निकलवा पाया हूं। जैसे ही रुपए का इंतजाम होगा, वह पर्ची निकलवा लूंगा। अभी कुछ दिन से बांध की मिट्‌टी निकाल रहा है, एक व्यक्ति को 100 ट्रक देना है।"
-अशोक प्रजापति, अवैध उत्खनन कर्ता

वह खोद रहा था तो मैंने मना किया था
"अशोक प्रजापति बांध से मिट्‌टी निकाल रहा था। मैंने खुद उसे ऐसा करने से मना किया था। मैंने जब पता लगाया तो मालूम हुआ कि उसे लीज अभी मिला नहीं है। उसने आवेदन किया है। उसने खुदाई बंद कर दिया है। एनएच के ठेकेदार ने भी यहां अवैध उत्खनन किया था।"
-संतोष पटेल, सरपंच तुरकाडीह

उसके खिलाफ पहले भी जुर्माना हुआ
"अशोक प्रजापति के खिलाफ तुरकाडीह में ही अवैध उत्खनन के मामले में पहले भी जुर्माना हुआ है। जुर्माना वसूल भी किया गया है। फिर से छापेमारी कर प्रकरण दर्ज किया जाएगा। उसने शायद लीज के लिए आवेदन किया है।"
-अनिल साहू, सहायक खनिज अधिकारी



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Illegal excavation of mafia of Turkadih dam, fine, still not accepted


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3b3MUxP

0 komentar