इसी महीने तैयार हो जाएगा रायपुर का आरडी तिवारी स्कूल, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल करेंगे उद्घाटन , January 05, 2021 at 09:36PM

राजधानी रायपुर में सरकारी स्कूलों का चेहरा बदलने जा रहा है। इसी महीने आमापारा स्थित आरडी तिवारी हायर सेकेंडरी स्कूल को इंग्लिश मीडियम स्कूल में बदलने का काम पूरा हो जाएगा। पिछले कुछ महीनों से इस स्कूल का रिनोवेशन का काम चल रहा है।

क्षेत्रीय विधायक विकास उपाध्याय और रायपुर नगर निगम के आयुक्त सौरभ कुमार ने स्कूल का निरीक्षण किया। विधायक ने 15 दिनों के भीतर निर्माण कार्य पूरा करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इसका उद्घाटन करने वाले हैं। इधर मंत्रालय कर्मचारियों ने नवा रायपुर में भी सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल की मांग की है।

विधायक विकास उपाध्याय ने कहा, पंडित आरडी तिवारी स्कूल, राजधानी का सबसे बड़ा शैक्षणिक परिसर है। इसे अब अंग्रेजी माध्यम स्कूल के रूप में विकसित किया जा रहा है। इस स्कूल में खेल मैदान से लेकर लाइब्रेरी एवं क्लासरूम का आकार काफी बड़ा है। विकास उपाध्याय ने कहा, पूर्ण विकसित होने के बाद यह स्कूल राजधानी के सबसे बड़े अंग्रेजी माध्यम स्कूल के तौर पर गिना जाएगा।

स्कूल प्रबंधन ने विधायक और अधिकारियों को बताया, आज की स्थिति में 640 विद्यार्थियों का स्कूल में प्रवेश हो चुका है। जरूरत पड़ी तो इसे एक हजार विद्यार्थियों तक बढ़ाया जा सकता है। अधिकारियों ने बताया, यहां विद्यार्थियों को कम शुल्क पर अच्छी शिक्षा उपलब्ध होगी।

रायपुर में तीन स्कूलों का चयन
सरकारी स्कूलों को इंग्लिश मीडियम स्कूलों में बदलने की योजना के तहत रायपुर के तीन स्कूलों का चयन हुआ है। इसमें पंडित आरडी तिवारी हायर सेकेंडरी स्कूल, आमापारा, बीपी पुजारी हायर सेकेंडरी स्कूल, राजातालाब और शहीद स्मारक हायर सेकेंडरी स्कूल फाफाडीह का नाम शामिल है। प्रदेश भर में ऐसे 52 स्कूल शुरू किए जा रहे हैं। अगले शिक्षा सत्र से 100 और स्कूलों को इंग्लिश मीडियम में बदलने की घोषणा हुई है।

मंत्रालय कर्मियों को भी चाहिए इंग्लिश मीडियम स्कूल
इस बीच मंत्रालय कर्मचारियों ने राजधानी परिसर के आसपास नवा रायपुर में सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल की मांग की है। मंत्रालयीन कर्मचारी संघ के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव आलोक शुक्ला को ज्ञापन सौंपा।

इसमें कर्मचारियों ने नवा रायपुर में रह रहे कर्मचारी-अधिकारियों की दिक्कतों की जानकारी दी। उनका कहना था, इस क्षेत्र में कई निजी इंग्लिश मीडियम स्कूल आए हैं। लेकिन वहां शिक्षा महंगी है। ऐसे में सभी कर्मचारी उसका खर्च वहन नहीं कर पाएंगे। कर्मचारियों ने अपने पाल्यों के लिए सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल की मांग की।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
राज्य सरकार ने सरकारी स्कूलों को अपग्रेड कर इंगलिश मीडियम में बदलने की योजना इसी साल शुरू की है। इस योजना का नाम स्वामी आत्मानंद के नाम पर रखा गया है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Ll1l5S

0 komentar