मुख्यमंत्री बोले- रमन सिंह को किसी मुंह से किसानों की बात करने का अधिकार नहीं, उन्होंने केवल किसानों को छला है , January 06, 2021 at 07:26PM

धान खरीदी में अव्यवस्थाओं का आरोप लगाकर भाजपा सरकार के खिलाफ आंदोलन की तैयारी कर रही है। भाजपा के आरोपों से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भड़क उठे। सरगुजा और बिलासपुर संभाग के दौरे से रायपुर लौटे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह पर बड़ा हमला किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि रमन सिंह को किसी मुंह से किसानों पर बात करने का अधिकार नहीं है।

पुलिस लाइन हेलिपैड पर संवाददाताओं से बात करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, भाजपा के लोगों ने 2100 रुपए में धान खरीदी और 300 रुपया बोनस देने का संकल्प लिया था। उसे पूरा नहीं कर पाए। केंद्र सरकार के सामने गिड़गिड़ाते रहे। अब रमन सिंह किस मुंह से 2500 रुपए में खरीदी की बात कर रहे हैं। उन्हीं के शासन में तो बोनस बंद हुआ है।

मुख्यमंंत्री ने कहा कि रमन सिंहजी, दिल्ली में आपकी सरकार बैठी हुई है। बेशर्मी की हद है। पहले साल हमने 2500 रुपया दिया था। हमारे पास दर्जनों चिट्ठियां हैं, केंद्र की ओर से कहा गया, आप बोनस देंगे तो आपका चावल नहीं लेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा, रमन सिंह और भाजपा नेताओं का दोहरा चेहरा जनता के सामने आ चुका है। इन लोगों को शर्म नहीं आती। एक तरफ कहते हैं कि बोनस मत दो। दूसरी तरफ 2500 रुपया देने की भी मांग करते हैं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, हम आज भी 2500 रुपया प्रति क्विंटल का दाम देने को तैयार हैं। आप केंद्र से अनुमति दिलवा दें। इस बार 60 लाख मीट्रिक टन पर सहमति बनी है, लेकिन 24 लाख मीट्रिक टन ले रहे हैं। रमन सिंह को इसपर बात करनी चाहिए। वे भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं, छत्तीसगढ़ के किसानों का वे प्रतिनिधित्व नहीं करते क्या। छत्तीसगढ़ के किसानों ने उन्हें वोट नहीं दिया है क्या। किसानों के साथ जब अन्याय हो रहा है तो उन्हें बात करनी चाहिए या केवल आलोचना ही करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा, रमन सिंह को किसी मुंह से किसानों पर बात करने का अधिकार नहीं। उन्होंने तो केवल किसानों को छला है। कभी दाम के नाम पर कभी बोनस के नाम पर। उनके मुंह से ऐसी बात शोभा नहीं देती। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र सरकार को भी आड़े हाथों लिया। कहा, ये लोग राजीव गांधी किसान न्याय योजना को बोनस बता रहे हैं। इसीलिए चावल लेने में एक महीने का विलंब हुआ है। अभी भी केवल 24 लाख मीट्रिक टन चावल की अनुमति दिए हैं।

भाजपा के आंदोलन को भी निशाने पर लिया

मुख्यमंत्री ने भाजपा के प्रस्तावित आंदोलन को भी निशाने पर लिया। उन्होंने कहा, भाजपा की सरकार ने औसत 50 लाख मीट्रिक टन से अधिक कभी धान खरीदा नहीं। 15 लाख किसानों से अधिक से खरीदी कभी हुई नहीं थी। हमने पहले साल 80 लाख मीट्रिक टन खरीदा, दूसरे साल 83 लाख मीट्रिक टन और इस बार करीब 90 लाख मीट्रिक टन खरीदने की तैयारी है।

जहां 15 लाख किसान धान बेचते थे, अब 21 लाख से अधिक किसानों ने पंजीयन कराया है। भाजपा शासनकाल में 18 हजार कराेड़ खर्च करने के बाद भी 25 हजार हेक्टेयर में सिंचाई रकबा बढ़ा है। वे किस मुंह से आंदोलन करेंगे। किसानों के लिए इन लोगाें ने किया क्या है।

किसानों के साथ होने का दावा

मुख्यमंत्री ने दावा किया कि किसान उनके साथ हैं। उन्होंने कहा, किसानों का आशीर्वाद कांग्रेस के साथ रहा है। चाहे वह दंतेवाड़ा का चुनाव हो अथवा मरवाही का जहांं दोनों (भाजपा और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़) मिलकर लड़े। वहां भाजपा ने मुंह की खाई है। भाजपा आंदोलन करे लेकिन पहले यह बताए कि वह दिल्ली में चल रहे आंदोलन का समर्थन करती है अथवा नहीं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
छत्तीसगढ़ में धान खरीदी का मुद्दा गर्म है। भाजपा राज्य सरकार पर कुप्रबंधन का आरोप लगा रही है, इधर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भाजपा और केंद्र सरकार पर हमलावर हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3bbMPbp

0 komentar