भिलाई में किराना दुकान के गोदाम में लगी आग, बुझने के बाद अंदर से मिला नौकर का झुलसा हुआ शव , January 07, 2021 at 03:54PM

छत्तीसगढ़ के भिलाई में एक किराना दुकान के कर्मचारी की मौत हो गई। आग बुझने के बाद उसका झुलसा हुआ शव दुकान के गोदाम में मिला है। खास बात यह है कि गोदाम के सभी खिड़की और दरवाजे खुले हुए थे। अगर चाहता तो वह जान बचा सकता था। ऐसे में कर्मचारी की मौत की गुत्थी उलझ गई है। पुलिस इसे हादसा, हत्या और खुदकुशी तीनों नजरिए से देख रही है।

अक्षत किसी काम से गोदाम में गया। वहां शार्ट सर्किट से आग लग गई। जब आग पर काबू पाया गया तो अंदर अक्षत का शव पड़ा मिला।

जानकारी के मुताबिक, पुलगांव क्षेत्र के नगपुरा स्थित किराना दुकान का मालिक मनीष चंद्राकर बुधवार को नहीं था। दुकान के दोनों नौकर पाटन निवासी अक्षत यादव व उसके साथी ने साथ में खाना खाया और फिर अपने-अपने काम में लग गए। इस बीच अक्षत किसी काम से गोदाम में गया। वहां शार्ट सर्किट से आग लग गई। जब आग पर काबू पाया गया तो अंदर अक्षत का शव पड़ा मिला।

गोदाम में खिड़की और दरवाजे खुले थे। अक्षत आग की चपेट में आने के बाद भी अगर बचने के लिए भागता तो बच जाता। इस वजह से उसकी मौत पर कई तरह के संदेह है।

सौ फीसदी झुलसी हुई हालत में मिला नौकर का शव
पुलिस के मुताबिक, सूचना मिलने पर जब जवान मौके पर पहुंचे तो अक्षत पूरी तरह झुलस चुका था। सौ फीसदी जलने के कारण उसकी मौत हो गई थी। जबकि गोदाम में लगी आग बुझाई जा चुकी थी। जांच में पता चला है कि गोदाम में खिड़की और दरवाजे खुले थे। अक्षत आग की चपेट में आने के बाद भी अगर बचने के लिए भागता तो बच जाता। इस वजह से उसकी मौत पर कई तरह के संदेह है।

फोरेंसिक और पीएम रिपोर्ट से होगा मौत का कारण स्पष्ट
पुलिस की माने तो युवक की मौत के कई कारण हो सकते है। पहला युवक की मौत करंट लगने से हुई होगी। दूसरा आग की चपेट में आने से वह झुलस गया होगा। तीसरा युवक ने खुद पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर आग के हवाले कर दिया होगा। युवक की मौत की गुत्थी फोरेंसिक और पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद खुलेगी। फिलहाल मामला खुदकुशी, हत्या और हादसे में उलझा हुआ है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
छत्तीसगढ़ के भिलाई में दुकान के गोदाम में आग लग गई। अंदर से कर्मचारी का शव सौ फीसदी झुलसी हालत में मिला है। हालांकि पुलिस घटना को संदेह की नजर से देख रही है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2LoH5Am

0 komentar