इस साल आंवटन ही नहीं आया इसलिए काम भी शुरू नहीं , January 07, 2021 at 04:00AM

यह सत्र बीतने को है, लेकिन इस सत्र में 2020-21 का प्रधानमंत्री आवास योजना का आंबटन अभी तक नहीं मिल पाया है। इस सत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना का 7 हजार मकान का निर्माण होना है। इसमें 7 हजार मकान के निर्माण के लिए शासन से कोई राशि का आंबटन नहीं मिल पाया है। सत्र 2018-19 से प्रधानमंत्री आवास योजना का पैसा समय पर नहीं मिल पा रहा है। इससे हितग्राहियों को मकान निर्माण को लेकर काफी दिक्कत आ रही है और काफी सारे मकान का निर्माण काम अधूरा है।
सत्र 2016-17 से प्रधानमंत्री आवास योजना का शुभारंभ हुआ है। पहले हर सत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना में शासन से राशि की स्वीकृति अप्रैल माह तक हो जाती थी। जून माह में शासन से राशि का आंबटन भी मिल जाता था, लेकिन सत्र 2020-21 में शासन से राशि का आंबटन मिलने में काफी विलंब हो रहा है। 2020 में सितंबर माह में शासन से प्रधानमंत्री आवास योजना में कांकेर जिला के लिए 7 हजार मकान बनाने के लिए लक्ष्य आया है। निर्माण काम ही शुरू नहीं हो पाया है। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण में चार किस्त में 1 लाख 30 हजार रूपए हितग्राही को मिलते हैं। इसमें शासन से 91 करोड़ रुपए मिलने हैं, जो राशि शासन से नहीं मिल पाई है। 18,580 मकान का निर्माण होना था। इसमें से 13,542 मकान का निर्माण हो चुका है।

चौथे किस्त की राशि किसी को नहीं मिली
प्रधानमंत्री आवास योजना में चौथी किस्त राशि 15 हजार मिलती है। यह राशि ऐसे हितग्राहियों को मिलती है, जिन्होंने मकान का निर्माण पूरा कर लिया है। सत्र 2019-20 में 106 हितग्राहियों ने अपना मकान का निर्माण काम पूरा कर लिया है, लेकिन इन हितग्राहियों को अंतिम चौथा किस्त राशि नहीं मिल पाया है। वही सत्र 2018-19 में 4,483 लोगों को चौथा किस्त राशि मिलनी थी। इसमें 1852 हितग्राहियों को चौथा किस्त राशि नहीं मिल पाई है।

छत ढलाई न कराने वालों को दिया नोटिस
सत्र 2018-19 व 2019-20 में 3,856 हितग्राहियों को दूसरी किस्त राशि 45 हजार गत वर्ष अगस्त 2020 में मिली था, लेकिन इसमें से 1957 हितग्राहियों ने छत ढलाई का काम नहीं किया है। इसको लेकर 1957 हितग्राहियों को नोटिस जारी किया गया है। उन्हें 30 जनवरी तक काम पूरा करने कहा गया है। काम नहीं होने पर विभाग वसूली की तैयारी करेगा।
तीसरे किस्त की राशि नहीं मिलने से मकान अधूरे
सत्र 2019-20 में 2292 लोगों को तीसरा किस्त राशि मिलना था। इसमें से सिर्फ 19 लोगों को ही तीसरा किस्त राशि मिल पाया। इससे काफी सारे मकान अधूरे रह गए हैं। फिर भी कई लोगों ने पैसे की व्यवस्था करके मकान का निर्माण काम पूरा किए है। 19 हितग्राहियों को ही तीसरी किस्त राशि मिली, लेकिन 106 हितग्राहियों ने मकान का निर्माण काम पूरा किया।

शासन से आवंटन नहीं आया है : जिला समन्वयक
कांकेर प्रधानमंत्री आवास योजना के जिला समन्वयक मानव विश्वास ने कहा प्रधानमंत्री आवास योजना में इस सत्र में 7 हजार मकान बनाने का लक्ष्य शासन से मिला है, लेकिन राशि का आंबटन शासन से नहीं मिल पाया है। सत्र 2019-20 में तीसरी किस्त व चौथी किस्त की राशि भी काफी सारे हितग्राहियों का मिलना शेष है। गत सत्र में दूसरी किस्त का राशि कई हितग्राही को मिल चुकी है, लेकिन इसके बाद छत लेबल का काम नहीं किए हैं। इसको लेकर नोटिस दिया जा चुका है। 30 जनवरी तक काम शुरू नहीं करने पर वसूली की जाएगी।

60 प्रतिशत राशि केंद्र से मिलती है : योजना के तहत 60 प्रतिशत राशि हितग्राही को केंद्र शासन से मिलती है। राज्य शासन से 40 प्रतिशत राशि राज्य स्तर से मिलती है। कई बार केंद्र व राज्य सरकार में आपस में समन्वय नहीं होने से राशि का आवंटन नहीं हो पाता।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Allotment did not come this year, so work did not start


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3nmIcxR

0 komentar